फसल खरीदी के बाद सामने आया कमल पटेल का बड़ा बयान, जल्द शुरु होगी यह सुविधा

कमल पटेल

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। आज से शुरु हुई रबी की फसलों की खरीदी के बाद कृषि मंत्री कमल पटेल (Kamal Patel) का किसानों को लेकर बड़ा बयान सामने आया है। कमल पटेल ने कहा कि किसानों (Farmers) को बेहतर सुविधाएँ उपलब्ध कराने के लिये प्रत्येक जिले में किसान OPD भी प्रारंभ की जायेगी। वही किसानों को मण्डियों में कैंटीन सुविधा भी उपलब्ध कराई जायेगी, जहाँ से वे किफायती दामों पर अन्य वस्तुएँ भी क्रय कर सकेंगे।। प्रारंभिक तौर पर चिन्हित मण्डियों में पेट्रोल पम्प (Petrol Pump) खोले जायेंगे, जिसे बाद में अन्य मण्डियों में विस्तारित किया जायेगा।

यह भी पढ़े.. कृषि मंत्री कमल पटेल के कई बड़े ऐलान- किसानों के लिए बनेंगे प्रशिक्षण केन्द्र

कमल पटेल ने कहा कि  अभी हरदा और जबलपुर में कृषि ओपीडी संचालित की जा रही है। किसानों की सुविधा के लिये मण्डियों को आधुनिक बनाया जा रहा है। मण्डियों में ही किसानों को खाद, बीज, दवाई और कृषि उपकरण किफायती दामों पर मिलने की व्यवस्था की जा रही है।चना, मसूर और सरसों का उपार्जन गेहूँ (Wheat Procurement) के साथ होने से अब किसानों को अपनी उपज ओने-पौने दामों पर बेचने के लिये मजबूर नहीं होना पड़ेगा। फसल का बेहतर दाम मिलेगा, जिससे कि आत्म-निर्भर भारत (Aatmanirbhar Bhaarat) और आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश (Aatmanirbhar Madhya Pradesh)अभियान के संकल्प एवं सपने को साकार करने में मदद मिल सकेगी।

कमल पटेल ने कहा है कि प्रदेश (MP) में पहली बार गेहूँ के साथ ही चना, मसूर और सरसों का उपार्जन किया जा रहा है। इससे किसानों को उनकी उपज का वाजिब दाम मिल सकेगा।पीएम नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chauhan) खेती को लाभ का धंधा बनाने और किसानों की आय को दोगुना करने के लिये सभी आवश्यक लाभकारी योजनाएँ बनाकर उन्हें लागू कर रहे हैं। निश्चित ही इससे किसानों को न केवल लाभ होगा, बल्कि उनका आर्थिक सशक्तिकरण भी सुनिश्चित होगा।

प्रशिक्षण प्राप्त कर किसानों को करें लाभान्वित

इसके अलावा कमल पटेल ने आज हरदा जिले के हण्डिया की कृषक उपज मण्डी में आयोजित एक दिवसीय कृषक मेले और डिप्लोमा इन एग्रीकल्चर एक्सटेंशन सर्विसेस फॉर इनपुट डील्स (देसी) कोर्स की दो बैच का शुभारंभ किया। वही उन्होंने बेहतर प्रशिक्षण प्राप्त कर किसानों को लाभान्वित करें। एक दिवसीय कृषक मेले में प्रधानमंत्री मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना के प्रति किसानों को जागरूक कर लाभान्वित करने के निर्देश दिये।

इंदौर-उज्जैन संभाग के 663 खरीदी केन्द्रों पर शुरू हुआ उपार्जन

दरअसल, आज शनिवार 27 मार्च 2021 से रबी उपार्जन के पहले दिन इंदौर (Indore) और उज्जैन संभाग के 15 जिलों में स्थित 663 खरीदी केन्द्रों पर गेहूँ, चना और सरसों का उपार्जन शुरु किया गया। प्रदेश के अन्य जिलों में उपार्जन एक अप्रैल 2021 से प्रारंभ किया जायेगा। संचालक खाद्य तरूण पिथोड़े ने बताया कि उपार्जन के प्रथम दिन इन जिलों के 1931 किसानों ने अपनी उपज का समर्थन मूल्य पर विक्रय किया। 1839 किसानों से 7244 मीट्रिक टन गेहूँ का उपार्जन किया गया। इसके अलावा 102 किसानों ने 87 मीट्रिक टन चने का विक्रय समर्थन मूल्य पर किया। संचालक खाद्य ने बताया कि सभी खरीदी केन्द्रों पर आवश्यक व्यवस्थाएँ सुनिश्चित की गई है।