इंदौर में बढ़ाया जा सकता है लॉकडाउन, बैठक में मंत्री तुलसी सिलावट ने दिए संकेत

उम्मीद जताई गई है कि 25 अप्रैल के बाद कोरोना से बढ़ते मामले में में कमी देखी जा सकती है। वहीँ हालात सुधरने लगेंगे।

लॉकडाउन
लॉकडाउन

इंदौर, आकाश धोलपुरे। मध्यप्रदेश (madhya pradesh) के इंदौर (indore) जिले में कोरोना (corona) से स्थिति भयावह हो गई है। दूसरी लहर में भी इंदौर कोरोना (indore corona) का हॉटस्पॉट (hotspot) बनकर उभरा है। इंदौर में 19 अप्रैल की सुबह तक कोरोना कर्फ्यू (corona curfew) लगाया गया है। वहीं बीते दिनों मंत्री तुलसी सिलावट ने जिला क्राइसिस की बैठक में लॉकडाउन के संकेत दिए। माना जा रहा है कि जनता कर्फ्यू के नाम से इंदौर में एक बार फिर से लॉकडाउन बढ़ाए जा सकते हैं।

दरअसल शुक्रवार की रात जिला क्राइसिस की बैठक आयोजित की गई। जिसमें उन्होंने जिले में जनता कर्फ्यू बढ़ाने के संकेत दिए हैं। दरअसल तुलसी सिलावट (tulsi silawat) ने शुक्रवार को कहा कि इंदौर में संक्रमण की रफ्तार स्थिर है। जिसके बाद संक्रमण के चेन को तोड़ने के लिए जनता कर्फ्यू पर सहमति बनी है।

वही मंत्री तुलसी सिलावट ने कहा कि हालांकि अभी इस पर कोई निर्णय नहीं लिया गया है। शनिवार शाम को इस मुद्दे पर फैसला लिया जाएगा। इससे पहले व्यापारियों संघ इस बात को लेकर चर्चा की जाएगी। ऐसे में माना जा रहा है कि इंदौर में 1 से 2 सप्ताह के लिए लॉकडाउन बढ़ाया जा सकता है। हालांकि कोरोना कर्फ्यू के दौरान लोगों को राहत दी जा सकती है।

ज्ञात हो कि आज इंदौर में एक बार फिर जिला क्राइसिस मैनेजमेंट की बैठक होनी है। जिसमें लॉकडाउन बढ़ाने के पक्ष में निर्णय लिया जाएगा। माना जा रहा है कि जनता कर्फ्यू के नाम से बढ़ने वाली इस लॉकडाउन में जरूरी चीजों के साथ कुछ समय की छूट दी जाएगी। लेकिन अन्य सब कुछ बंद रखा जा सकता है।

Read More: बड़ी खबर: ऑक्सीजन से भरा ट्रक अनियंत्रित होकर पलटा, मचा हड़कंप

वही बैठक में मंत्री तुलसी सिलावट ने कहा कि जितनी जल्दी हो सके हमें जनता कर्फ्यू पर निर्णय लेना चाहिए। प्रदेश में कोरोना के बढ़ते को देखते हुए जिला में कोरोना कर्फ्यू लगाना आवश्यक है। शनिवार को इस बात पर निर्णय लिया जाएगा। वही माना जा रहा है कि 30 अप्रैल तक प्रदेश में कोरोना कर्फ्यू को बनाया जा सकता है। बता दे की उम्मीद जताई गई है कि 25 अप्रैल के बाद कोरोना से बढ़ते मामले में कमी देखी जा सकती है। वहीँ हालात सुधरने लगेंगे।

गौरतलब हो कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण के हालात को देखते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा जिले में कोरोना कर्फ्यू के अधिकार क्राइसिस मैनेजमेंट को दिए गए हैं। वही जनता कर्फ्यू के दौरान प्रशासन द्वारा लगातार सख्ती अपनाई जा रही है।