MP : महिला बाल विकास विभाग का तोहफा- 9वीं से 12वीं की छात्राओं को मिलेगा लाभ

इसके तहत 8 मार्च को विभाग छात्राओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए मार्शल आर्ट्स (Martial arts) का प्रशिक्षण 'अपराजिता' की शुरुआत करेगा।

महिला बाल विकास विभाग

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। 8 मार्च को अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस (International Women’s Day 2021) है, इसके पहले मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के महिला बाल विकास विभाग (Women Child Development Department)  ने महिला सशक्तिकरण (women empowerment) को बढावा देने के लिए शासकीय और उत्कृष्ट स्कूलों (School) की कक्षा 9 से 12वीं तक की छात्राओं के लिए बड़ा फैसला लिया है। इसके तहत 8 मार्च को विभाग छात्राओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए मार्शल आर्ट्स (Martial arts) का प्रशिक्षण ‘अपराजिता’ की शुरुआत करेगा।

यह भी पढ़े.. होशंगाबाद कलेक्टर ने विभाग को भेजा यह प्रस्ताव, केन्द्र को भेजेगी शिवराज सरकार

इस बारे में जानकारी देते हुए महिला-बाल विकास विभाग की संचालक स्वाती मीणा नायक ने बताया कि 8 मार्च अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर प्रदेश के 311 विकास खण्डों में उत्कृष्ट विद्यालय (Excellent schools) और चयनित शासकीय विद्यालयों (Government Schools) में कक्षा 9 से 12वीं तक की छात्राओं (Student) के लिए 15 से 20 दिवसीय प्रशिक्षण शिविर आयोजित किया जायेगा। इसमे आत्म-रक्षा वाली खेल गतिविधियाँ जूड़ो, कराटे एवं ताईक्वांडों का विशेष प्रशिक्षण खेल एवं युवा कल्याण विभाग के सहयोग से दिया जायेगा।

स्वाति मीणा ने बताया कि प्रशिक्षण का मुख्य उददेश्य न सिर्फ बालिकाओं को आत्म-रक्षा के तरीके सीखाना है, बल्कि इस क्षेत्र में रूचि रखने वाली बालिकाओं का टेलेंट सर्च भी हो सकेगा। प्रशिक्षण के समापन पर सभी विकास खण्डों में प्रतियोगिता भी आयोजित की जायेगी और प्रत्येक विकासखण्ड से प्रथम दस प्रतिभाशाली बालिकाओं का चयन भी किया जायेगा। प्रशिक्षण के बाद सभी प्रतिभागियों को प्रमाण-पत्र भी प्रदान किया जायेगा। जिला कार्यक्रम अधिकारियों को जिला खेल अधिकारियों से समन्वय स्थापित कर प्रशिक्षण में बालिकाओं की उपस्थिति एवं स्क्रीनिंग(Screening) किये जाने के निर्देश दिए हैं।

यह भी पढे.. MP School : मप्र में फिर बढ़ा कोरोना का खतरा, आयुक्त ने कलेक्टरों को दिए यह निर्देश

बता दे कि इसके पहले महिला बाल विकास विभाग (Women Child Development Department) ने बड़ा फैसला करते हुए मैदानी अधिकारियों और कर्मचारियों (Officers And Employees) को उनके उत्कष्ट कार्यों के लिए प्रोत्साहित करते हुए ‘कर्मचारी ऑद द मंथ’ (Employee of the Month) के रुप में सम्मान देने का फैसला किया था।