MP College: कॉलेजों को मंत्री ने दिए यह निर्देश, अब मुख्यालय स्तर से होगी मॉनिटरिंग

MP College

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (MP) के उच्च शिक्षा विभाग (Higher Education Department) के बाद  अब आयुष विभाग (AYUSH Department)) ने सभी शासकीय कॉलेजों (Government College) और निजी कॉलेजों (Private College) से प्रत्येक संपत्ति की जानकारी मांगी है। इसके तहत अब निर्माण कार्यों की मॉनिटरिंग मुख्यालय स्तर से की जाएगी।

यह भी पढ़े..  MP College: शासकीय कॉलेजों को लेकर उच्च शिक्षा विभाग का एक और बड़ा फैसला, पत्र जारी

दरअसल आज मंत्रालय (Ministry में आयुष विभाग से संबंधित महाविद्यालय (College) की बजट संबंधी बैठक में आयुष राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) रामकिशोर कावरे (Ramkishore Kavre) ने कहा कि महाविद्यालय की प्रत्येक संपत्ति की जानकारी बजट पत्रक में प्रस्तुत की जाए।  एक निर्धारित प्रारूप बनाकर उसमें बजट (Budget 2021) प्रस्तुत किया जाए। उन्होंने कहा कि महाविद्यालय परिसर में साफ-सफाई व्यवस्था सुचारू होना चाहिए।

मंत्री कावरे ने कहा कि हर माह महाविद्यालय (College) की गतिविधियों की जानकारी अवलोकन के लिए प्रस्तुत करें। तीन माह में पुनः संयुक्त बैठक होगी। नई वस्तु, उपकरण आदि खरीदी के पहले संज्ञान में लाएँ। भारत सरकार (Indian Government) को भेजे जाने वाले प्रस्ताव प्रमुख सचिव और मंत्री के माध्यम से जाएँ।संस्था की बजट की जानकारी अधिकारियों (Government Officers) को मौखिक याद होना चाहिए।

यह भी पढ़े.. MP में कक्षा 1 से 8वीं के स्कूल खोलने पर शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार का बड़ा बयान

उन्होंने कहा कि अन्य शुल्क साधारण सभा में पास कराने के लिए प्रस्ताव प्रस्तुत किया जाए।  पारदर्शिता से काम करें। प्राचार्यो को आयुष ग्राम का दौरा करना आवश्यक होगा। महाविद्यालय (College) की गतिविधि और वित्तीय व्यवस्था के संबंध में हुई बैठक में प्रमुख सचिव करलिन खोंगवार सहित महाविद्यालय के प्राचार्य भी उपस्थित थे। इसके लिए अतिरिक्त कर्मचारियों (Government Employee) की आवश्यकता हो, तो रखें। परिसर को स्वच्छ रखने की जिम्मेदारी अधीक्षक की होगी।