केंद्रीय मंत्री प्रहलाद पटेल के भतीजे मोनू पटेल ने अपनी ही सरकार के खिलाफ खोला मोर्चा, बोले- पूरा ‘सिस्टम’ हो चुका है फेल

केंद्रीय मंत्री प्रहलाद पटेल (Union Minister Prahlad Patel) के भतीजे मोनू पटेल ने अपनी ही सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। मोनू ने फेसबुक पर पोस्ट कर लिखा कि पूरा ‘सिस्टम’ हो चुका है फेल

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। केंद्रीय मंत्री प्रहलाद पटेल (Union Minister Prahlad Patel) भतीजे मोनू पटेल ने अपनी ही सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। मोनू ने सरकार को आड़े हाथों लिए कहा कि ‘पूरा सिस्टम फेल हो चुका है।‘ यदि हकीकत जानना है तो शमशान घाट जाकर देखें नेता कि कितने लोगों की मौत हो रही है। बता दें कि मोनू बीजेपी विधायक जालम सिंह पटेल (BJP MLA Jalam Singh Patel) के पुत्र है, इस समय विधायक कोरोना पॉजिटिव (Corona Positive) है।

यह भी पढ़ें:-सीएम शिवराज सिंह चौहान बोले-दिवंगत स्वास्थ्यकर्मियों के परिजनों को मिलेगी 50 लाख की सम्मान निधि

मोनू पटेल ने फेसबुक (Facebook) पर पोस्ट कर अपना दुख जताया है। मोनू ने लिखा कि मरीजों को रेमडेसिवीर इंजेक्शन (Remdecivir Injection) और ऑक्सीजन (Oxygen) नहीं मिल रहा है जिसकी कमी से मौते हो रही है। सिर्फ चारों जगह रोने की चीख-पुकार सुनाई दे रही है। मोनू ने बताया कि नरसिंहपुर Narsinghpur) जिले के हालात भयावह होते जा रहे हैं। वहीं प्रशासन मौत के आंकड़ों को लेकर झूठ बोल रहा है। ऐसे हालात में कोविड के प्रभारी मंत्री क्या कर रहे हैं।

ये नेता उठा चुके हैं सवाल
हाल ही में हुजूर क्षेत्र के विधायक रामेश्वर शर्मा (BJP MLA Rameshwar Sharma) ने भी कलेक्टर अविनाश लवानिया (Collector Avinash Lavania) को पत्र लिखा है जिसमें बैरागढ़ क्षेत्र में स्वास्थ्य व्यवस्था बदहाल होने पर चिंता जताई साथ ही धरने पर बैठने की बात कही है। तो वहीं बीजेपी के सीनियर लीडर और पूर्व सांसद अनूप मिश्रा (Former MP Anoop Mishra) ने सरकार से तीखे सवाल कर चुके हैं। अनूप मिश्रा ने ट्वीट कर प्रदेश में ऑक्सीजन और रेमडेसिविर की किल्लत पर सवाल उठाए थे। अनूप मिश्रा ने लिखा था कि रेमडेसिविर रसूखदार लोगों तक पहुंच रहा है लेकिन आम लोगों की पहुंच से दूर हैं। इसके अलावा भोजपुर से बीजेपी विधायक सुरेन्द्र पटवा (BJP MLA Surendra Patwa) ने स्वास्थ्य मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी (Health Minister Dr. Prabhuram Chaudhary) को पत्र लिखा है। जिसमें विधायक ने स्वास्थ्य सेवाओं पर सवाल उठाए हैं।