MP के आयुष्मान भारत योजना में संबद्ध अस्पतालों की होगी जाँच, सीएम ने दिए निर्देश

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में किल कोरोना अभियान का प्रभावी क्रियान्वयन जारी रहे। कोई भी सर्दी, जुकाम खाँसी का मरीज छूटे नहीं।

आयुष्मान भारत योजना

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) ने आयुष्मान भारत योजना (ayushman bharat scheme) में संबद्ध अस्पतालों की जाँच करने के निर्देश दिए है।सीएम ने कहा है कि मध्य प्रदेश में आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत निजी अस्पतालों (private hospitals) को विशेष पैकेज देकर कोविड के मुफ्त इलाज के लिए सम्बद्ध किया गया है। इन सभी सम्बद्ध अस्पतालों की जाँच की जाए तथा सुनिश्चित किया जाए कि वहाँ कोविड मरीजों को नि:शुल्क अच्छे से अच्छा इलाज मिले या नहीं, साथ ही यह भी देखा जाए कि उन्हें अनावश्यक रूप से अस्पताल में भर्ती न रखा जाए।

यह भी पढ़े.. Indian Railway Recruitment 2021: 10वीं पास के लिए 3378 पदों पर निकली है भर्ती, ऐसे करें एप्लाई

दरअसल, बीते दिनों देखने में आया था कि भोपाल (Bhopal) के चिरायु अस्पताल समेत कई निजी अस्पतालों ने आयुष्मान भारत योजना के तहत इलाज करने से इंकार कर दिया था, इसकी शिकायत सोशल मीडिया के माध्यम से सीएम से लेकर पीएम तक पहुंची थी। कई वीडियो तो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल भी हुए थे, कांग्रेस ने भी इस मुद्दे को खूब भुनाया था, भोपाल कलेक्टर (Bhopal Collector) ने अस्पताल को नोटिस भी जारी किया था, जिसके बाद शिवराज सरकार (Shivraj Government) ने यह कड़ा कदम उठाया है।

यह भी पढ़े.. MP Weather Alert: मप्र के इन संभागों-जिलों में बारिश के आसार, 3 जून को केरल पहुंचेगा मानसून

आयुष्मान भारत योजना  के साथ ही मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में किल कोरोना अभियान का प्रभावी क्रियान्वयन जारी रहे। कोई भी सर्दी, जुकाम खाँसी का मरीज छूटे नहीं, सभी का स्वास्थ्य परीक्षण करें एवं नि:शुल्क मेडिकल किट दी जाये। अधिक से अधिक टेस्ट किए जाएँ। हर मरीज की कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग की जाए। जहाँ संक्रमण है, कंटेनमेंट एवं माइक्रोकंटेनमेंट क्षेत्र बनाए जायें। संक्रमण को सख्ती से रोका जाए। कोविड अनुरूप व्यवहार को हमारी दिनचर्या का अनिवार्य अंग बनाया जाए।

स्लीमनाबाद टनल का कार्य तेजी से कराया जाए

वही आज मंत्रालय में स्लीमनाबाद टनल कार्य की प्रगति की समीक्षा के दौरान मुख्यमंत्री शिवराज ने कहा है कि कोविड-19 के कारण स्लीमनाबाद नहर का कार्य प्रभावित हुआ है, परन्तु अब यह कार्य तेजी से किया जाए। काम में किसी प्रकार की बाधा न आए। नियत समय-सीमा जून 2023 तक टनल का कार्य पूर्ण किया जाए।स्लीमनाबाद टनल निर्माण के दौरान स्लीमनाबाद के कुछ क्षेत्रों में घरों में वाइब्रेशन से लोगों को परेशानी हो सकती, अत: उन निवासियों को वैकल्पिक अस्थाई आवास दिलवाए जाएँ।

टनल के कार्य के दौरान पावर कट न हो।

मुख्यमंत्री चौहान ने निर्देश दिए कि कार्य पूर्ण होने पर वे अपने आवास में वापस जाएंगे।साथ ही निर्देश दिए कि टनल के कार्य के दौरान पावर कट न हो। इस कार्य को अत्यंत आवश्यक मानकर, बिजली की आपूर्ति निर्बाध हो।बरगी व्यपर्वतन परियोजना की स्लीमनाबाद टनल की लागत 799 करोड़ रूपये तथा लम्बाई 11.95 कि.मी. है। इसमें से 6.036 कि.मी. का कार्य पूर्ण हो गया है तथा 5.914 कि.मी. का कार्य शेष है। निर्माण एजेंसी मैसर्स पटेल ए.ई. डब्लू (संयुक्त उपक्रम) हैदराबाद है।