सिंधिया के गढ़ में अब दिग्विजय सिंह का 4 दिवसीय दौरा, क्या है सियासी मायने?

आज दिग्विजय सिंह शिवपुरी जाएंगे और फिर 14 अगस्त को ग्वालियर और 15 अगस्त को भिंड के लहार और दतिया में बाढ़ पीड़ितों से मिलेंगे।

दिग्विजय सिंह

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। आगामी चुनावों से पहले मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में सियासी हलचल तेज हो चली है। बीजेपी हो या कांग्रेस दोनों ही दल एक दूसरे को घेरने की तैयारी में जुटे है। एक तरफ 16 अगस्त से तीन दिवसीय दौरे पर केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) MP आ रहे है और  पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ (Kamal Nath) और दिग्विजय सिंह के गढ़ में हुंकार भरेंगे, वही दूसरी तरफ कमलनाथ के हेलीकॉप्टर से बाढ़ दौरे के बाद और सिंथिया के दौरे के पहले दिग्विजय सिंह का ग्वालियर चंबल का 4 दिवसीय दौरा शुरु हो गया है।

यह भी पढ़े.. किसान सम्मान निधि: 42 लाख किसानों को तगड़ा झटका, केंद्रीय मंत्री का बड़ा बयान

इसी शुरुआत गुरुवार से श्योपुर से हो चुकी है। पूर्व सीएम सिंह (Digvijay Singh) गुरुवार को सवाईमाधोपुर के रास्ते श्योपुर जिले में आए और फिर मानपुर, सरोदा, बहरावदा, मेवाड़ा, शंकरपुर, कोटरा और सोंई पहुंचकर बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का भ्रमण किया और पीडि़तों से चर्चा कर हर संभव सहायता दिलाने का भरोसा दिलाया। आज दिग्विजय सिंह शिवपुरी जाएंगे और फिर 14 अगस्त को ग्वालियर और 15 अगस्त को भिंड के लहार और दतिया में बाढ़ पीड़ितों से मिलेंगे।महाराज के गढ़ में राजा साहब ने दौरे ने सियासी गलियारों मे हलचल तेज कर दी है।

बाढ़ ग्रस्त जिलों में जाकर दिग्विजय सरकार के दावों को देखेंगे और परखेंगे कि क्या सही और क्या गलत है। दिग्विजय सिंह के इस दौरे के कई सियासी मयाने निकाले जा रहे है। इसे आगामी चुनावी रणनीतियों से जोड़कर देखा जा रहा है।वही दूसरी तरफ 16 अगस्त से सिंधिया मप्र के 3 दिवसीय दौरे पर है। इसमें 16 को गुना, 17 को राजगढ़ और 18 को छिंदवाड़ा जाएंगे।इस दौरे से ने भी चर्चाओं का बाजार गर्म कर रखा है।13 साल बाद यह दूसरा मौका होगा जब सिंधिया 18 अगस्त को एक दिवसीय प्रवास पर छिंदवाड़ा पहुंचेंगे।

यह भी पढ़े.. GOOD NEWS: बैंक कर्मचारियों को बड़ा तोहफा, DA में वृद्धि, अगस्त से बढ़कर आएगी सैलरी

सिंधिया के दौरे की खबर लगते ही छिंदवाड़ा (Chhindwara) की राजनीतिक हलकों में सरगर्मी तेज हो गई है। इसका कारण 18 अगस्त को ज्योतिरादित्य सिंधिया का छिंदवाड़ा जाना है, जो की पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ का गढ़ है और यही से उनके बेटे नकुलनाथ कांग्रेस सांसद (Congress MP Nakul nath) है, ऐसे में सवाल उठता है कि आखिर सिंधिया के इस दौरे के सियासी मायने क्या है। इस दौरे को आगामी चुनावों और नाथ के किले को भेदने से जोड़कर देखा जा रहा है।

इससे पहले 2008 में गए थे छिंदवाड़ा

इससे पहले 2008 में केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया छिंदवाड़ा (Chhindwara) के दशहरा मैदान में पूर्व सीएम कमलनाथ के द्वारा आयोजित शंखनाद कार्यक्रम में हिस्सा लेने पहुंचे थे। इस शंखनाद कार्यक्रम में प्रदेश कांग्रेस के तमाम बड़े नेता आए थे, जिसमें पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह भी शामिल थे।हालांकि 2013 में भी सिंधिया केंद्र की तात्कालिक कांग्रेस सरकार में मंत्री रहते हुए छिंदवाड़ा की एयर स्ट्रिप पर उतरकर कार से नरसिंहपुर चले गए थे, लेकिन ना तो वे छिंदवाड़ा में रुके और ना ही उन्होंने कोई राजनीतिक कार्यक्रम में हिस्सा लिया।