परीक्षा से पहले शासकीय कॉलेजों को मिले यह निर्देश, राज्यपाल ने कहा-असमंजस की स्थिति ना रहें

college

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट।  एक तरफ कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए मध्य प्रदेश (MP) के उच्च शिक्षा विभाग (Higher Education Department) ने कॉलेज छात्रों (College Student) की परीक्षाएं (Exam 2021) अब मई-जून कराने का फैसला लिया है, वही दूसरी तरफ राज्यपाल आंनदीबेन पटेल ने सभी शासकीय कॉलेजों और छात्रों को कुछ निर्देश जारी किए है। राज्पाल ने कहा है कि ऑनलाइन अध्ययन-अध्यापन (Online Study) का कार्य भी प्रभावी तरीके से संचालित किया जाए। परीक्षा तिथि के संबंध में असमंजस की स्थिति नहीं रहे। इसके लिए सभी विश्वविद्यालय परीक्षाओं (College Exam 2021) की संभावित तिथियों को अभी से निश्चित कर लें।

यह भी पढ़े.. राज्यपाल आनंदीबेन पटेल का बयान- मप्र में कोरोना रोकने जनता कर्फ्यू अत्यंत कारगर

राज्यपाल  (Governor Anandiben Patel)ने कहा है कि इससे कॉलेज परीक्षाओं के संबंध में पालकों और विद्यार्थियों को निश्चिंतता आएगी। परीक्षाओं की तैयारी एकाग्रता के साथ कर सकेगें। इम्यूनिटी (Immunity) को बढ़ाने में योग की प्रभावी भूमिका है, विश्वविद्यालय योग केन्द्रों का विस्तार करें।  कोरोना संक्रमण नियंत्रण में विश्वविद्यालय सहयोग करें, जिन नगरीय क्षेत्रों में संक्रमण का प्रभाव अधिक है, उन क्षेत्रों में आवासीय, मोहल्ला और वार्ड समितियों के पदाधिकारियों और सदस्यों को जनता कर्फ्यू के लिए प्रेरित किया जाए। इस कार्य में विश्वविद्यालयों द्वारा समन्वय के प्रयास किए जाएं।

राज्यपाल ने कहा कि विश्वविद्यालय के शिक्षक (Teacher) और विद्यार्थी जन जागृति और जनता कर्फ्यू के लिए आवश्यक व्यवस्थाओं में सहयोग दें। इससे कोरोना संक्रमण (Coronavirus) को नियंत्रित करने के प्रयास प्रभावी होंगे। उन्होंने कोरोना गाइड लाइन का जिम्मेदारी से पालन करने के लिए विश्वविद्यालयों के स्टॉफ और कॉलेज विद्यार्थियों को संकल्पित कराने की जरूरत भी बताई। आज रविवार लखनऊ राजभवन से प्रदेश के 21 शासकीय विश्वविद्यालयों के कुलपतियों के साथ वीडियो क्रॉन्फ्रेंस कर रहीं थीं।

यह भी पढ़े.. राज्यपाल आनंदीबेन पटेल का बयान- मप्र में कोरोना रोकने जनता कर्फ्यू अत्यंत कारगर

राज्यपाल  पटेल ने कहा कि जनता कर्फ्यू के दौरान रहवासियों को बाहर नहीं जाना पड़े। इस कार्य में युवाओं द्वारा सहयोग किया जा सकता है। विश्वविद्यालय कॉलेज युवाओं का दल गठित करें, जो रहवासियों के साथ दूरभाष पर सम्पर्क में रहें और उनके लिए आवश्यक वस्तुओं और अन्य सामग्री दुकानों से लाकर प्रदान करें। ऐसे समाज सेवी कार्यों, वैक्सीनेशन के लिए जन जागृति एवं जन सहयोग के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले कॉलेज विद्यार्थियों को विश्वविद्यालय द्वारा पुरस्कृत और सम्मानित किया जा सकता है। विश्वविद्यालय इस दिशा में नवाचारी सोच के साथ प्रयास करें।

पटेल ने कहा कि केन्द्र सरकार द्वारा जारी गाइड लाइन के अनुसार वैक्सीनेशन (Vaccination) के कार्य को तेजी से करने में भी विश्वविद्यालय और उनके छात्र सहयोग कर सकते हैं। इस संबंध में विश्वविद्यालय आईटी सेल के माध्यम से जन जागृति के प्रयासों को तेज किया जाए। विश्वविद्यालय गोद लिए गांवों में शत-प्रतिशत टीककरण की व्यवस्था सुनिश्चित करें। साथ ही विश्वविद्यालय के कुलपति से लेकर सभी छात्र मास्क और सामाजिक दूरी का कड़ाई से पालन करें।

परीक्षाओं के संबंध में छात्रों की परिस्थितियों को लेकर फैसले लिए जाए

उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव (Higher Education Minister Dr. Mohan Yadav) ने कहा कि कोरोना संकट का सामना कौशल और रणनीति बना कर किया जाए। यह भी देखा जाए कि संक्रमण से बचाव के प्रयासों से छात्रों के भविष्य में बाधाएं उत्पन्न नहीं हों। कॉलेज स्नातक और स्नातकोत्तर पाठयक्रमों की परीक्षाएं (UG-PG Exam 2021) जिनके बाद विद्यार्थियों को अखिल भारतीय परीक्षाओं में सम्मिलित होने की पात्रता होती है, ऐसी परीक्षाओं के संबंध में अन्य राज्यों के निर्णयों और छात्रों की परिस्थितियों को भी ध्यान में रख कर कार्रवाई की जाए। उन्होंने विश्वविद्यालयों को ग्रामीण अंचल में वैक्सीनेशन और जन जागृति के प्रयासों में सक्रियता के साथ सहयोग के लिए प्रेरित किया।