MP News: 7 निलंबित, 7 को नोटिस, 5 पर जुर्माना, 3 बर्खास्त, 16 वेतन काटा-वेतनवृद्धि रोकी

शहडोल में मुख्य कार्यपालन अधिकारी (Shahdol CEO) जिला पंचायत मेहताब सिंह ने ग्राम पंचायत बकहो के सचिव समयलाल सिंह को तत्काल प्रभाव से निलंबित किया है।

mp NEWS

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। MP में लापरवाही पर एक बार फिर बड़ा एक्शन लिया गया है। दतिया में ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी, शहडोल में पंचायत सचिव, बालाघाट में 2 पटवारियों, अलीराजपुर में पंचायत सचिव, मुरैना में BLO और भिंड में शिक्षक को निलंबित कर दिया गया है।वही शहडोल में सहायक गेड-2, उमरिया में 4 तहसीलदारों और कार्यपालन यंत्री और भिंड में जिला शिक्षा अधिकारी को नोटिस जारी किया गया है।बड़वानी में 3 रोजगार सहायकों को बर्खास्त कर दिया गया है।बालाघाट में  2 पटवारियों की वेतन वृद्धि रोकी और बड़वानी में 14 सुपरवाइजरों का वेतन काटा गया है।बैतूल में 5 अधिकारियों पर भी शास्ति अधिरोपित की गई है।

यह भी पढ़े.. MP Board: 10वीं-12वीं के छात्र जल्द पूरा करें ये काम, इस दिन जारी होगा एडमिट कार्ड!

शहडोल में मुख्य कार्यपालन अधिकारी (Shahdol CEO) जिला पंचायत मेहताब सिंह ने ग्राम पंचायत बकहो के सचिव समयलाल सिंह को तत्काल प्रभाव से निलंबित किया है। निलंबन अवधि में समयलाल सिंह को नियमानुसार जीवन निर्वाह भत्ता देय होगा एवं उनका मुख्यालय जनपद पंचायत बुढार होगा।वही दतिया में धान उपार्जन केन्द्रों पर विभिन्न समस्याओं के निराकरण हेतु ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी वीपी पाठक को सेवा सहकारी समिति बड़ौनी खुर्द पर नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया था। लेकिन पाठक अपने कर्तव्य पर अनुपस्थित रहने के आरोप में कलेक्टर संजय कुमार ने निलंबित कर दिया गया है। निलंबन अवधि में पाठक का मुख्यालय उपसंचालक किसान कल्याण एवं कृषि विकास विभाग दतिया रहेगा।

अलिराजपुर में मुख्य कार्यपालन अधिकारी (Alirajpur CEO) जिला पंचायत संस्कृति जैन ने ग्राम पंचायत दरखड जनपद कट्ठीवाडा के ग्राम पंचायत सचिव गुमानसिंह हरवाल को अपने पदीय कर्तव्यों एवं दायित्वों के निर्वहन में बरती गई गंभीर लापरवाही के फलस्वरूप पंचायत सेवा अनुशासन तथा अपील नियम 1999 में निहित प्रावधानों के तहत तत्काल प्रभाव से निलंबित किये जाने के आदेश जारी किये गए है। निलंबन काल में हरवाल का मुख्यालय जनपद पंचायत कटठ्ठीवाडा नियत किया गया है। उन्हें नियमानुसार निलंबन काल में जीवन निर्वाह भत्ते की पात्रता रहेगी। ग्राम रोजगार सहायक ग्रा. पं. दरखड रमेश चौहान को आगामी आदेश पर्यन्त अस्थाई रूप से पंचायत सचिव का अतिरिक्त प्रभार के आदेश जारी किये गए है।

यह भी पढ़े.. खुशखबरी: नए साल से पहले केंद्र का मध्य प्रदेश को बड़ा तोहफा, इन जिलों से होगी शुरुआत

मुरैना में अनुविभागीय अधिकारी एवं निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारी विधानसभा क्षेत्र-03 सबलगढ़ के पत्र द्वारा अवगत कराया कि मतदान केन्द्र क्रमांक-94 मांगरोल केBLO अवदेश मीणा को नियुक्त किया है। अवदेश मीणा द्वारा बीएलओ का चार्ज नहीं लिया, दावा-आपत्ति प्राप्त में प्राथमिकता नहीं दी और अधिकारियों के फोन को भी रिसीव नही किया , जिसके बाद इन सब आरोपों को मानते हुये कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी बी.कार्तिकेयन ने सबलगढ़ विधानसभा क्षेत्र-03 के अन्तर्गत मतदान केन्द्र क्रमांक-94 के बीएलओ अवदेश मीणा को तत्काल प्रभाव से निलंबित (Suspended) कर दिया है।

4 तहसीलदारों और कार्यपालन यंत्री को नोटिस

उमरिया अपर कलेक्टर अशोक ओहरी ने तहसीलदार मानपुर रमेश परमार, तहसीलदार कोमल रैकवार तहसील चंदिया , तहसीलदार पाली अनुराग सिंह तथा भीमसेन पटेल तहसील बिलासपुर को शो काज नोटिस जारी किया है। उन्होने कहा है कि लंबित विधानसभा की जानकारी समयावधि में प्राप्त न होने जबाव संतोषप्रद व समाधानकारक न पाये जाने की स्थिति में आपके बिरुद्ध अनुशासनात्मक कार्यवाही की जावेगी जिसके लिये आप स्वमेव जिम्मेवार होंगे।वही उमरिया में कमिश्नर शहडोल संभाग राजीव शर्मा ने कार्यपालन यंत्री लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी खंड उमरिया एवं अनूपपुर एच.एस. धुर्वे को शासकीय कार्य में उदासीनता एवं लापरवाही बरतने पर कारण बताओ सूचना पत्र जारी किया है।

यह भी पढ़े.. Bank Holidays 2021: 11 से 31 दिसंबर के बीच 10 दिन बंद रहेंगे बैंक, जल्द निपटा लें काम

स्पष्ट है कि अधीनस्थों पर आपका कोई प्रभावी नियंत्रण नहीं है जो आपके पदीय दायित्वों के निर्वाहन में घोर लापरवाही एवं उदासीनता को परिलक्षित करता है साथ ही वरिष्ठ कार्यालय द्वारा दिए गए निर्देशों की अवहेलना को प्रदर्शित करता है। आपका उक्त कृत्य मध्य प्रदेश सिविल सेवा आचरण नियम 1965 के नियम 3 के विपरीत एवं दंडनीय हैं।अतः स्पष्ट करें कि क्यों ना आपके विरुद्ध अनुशासनात्मक कार्यवाही प्रारंभ करते हुए मध्य प्रदेश सिविल सेवा आचरण नियम 1966 के अंतर्गत कार्यवाही की जाए? आपका उत्तर 7 दिवस के अंदर प्राप्त ना होने पर यह मानकर कि इस संबंध में आपको कुछ नहीं कहना है, एक पक्षीय कार्यवाही की जाएगी।

5 अधिकारियों पर शास्ति अधिरोपित

बैतूल कलेक्टर अमनबीर सिंह बैंस ने लोक सेवा गारंटी अधिनियम अंतर्गत समय सीमों में वांछित सेवा उपलब्ध नहीं कराए जाने पर 5 अधिकारियों पर 12 हजार रुपए की शास्ति अधिरोपित की गई है।मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत आठनेर के.पी. राजौरिया पर 500 रुपए, तहसीलदार आठनेर लवीना घाघरे पर 2 हजार रुपए, नायब तहसीलदार बैतूल सुश्री डॉली रायकवार पर 2 हजार रुपए, नायब तहसीलदार आमला रोहित विश्वकर्मा पर 5500 रुपए, नायब तहसीलदार प्रभातपट्टन सुश्री याचिका परतेती पर 2 हजार रुपए की शास्ति अधिरोपित की गई है। उपरोक्त शास्ति की राशि संबंधित हितग्राही को प्रतिकर के रूप में भुगतान किए जाने के भी निर्देश दिए गए हैं।

2 पटवारियों निलंबित, 2 पटवारियों की वेतन वृद्धि रोकी

बालाघाट कलेक्टर डॉ गिरीश कुमार मिश्रा ने 08 दिसंबर को राजस्व अधिकारियों की वीडियो काफ्रेंस में तहसीलदार एवं नायब तहसीलदार के राजस्व न्यायालय में लंबित प्रकरणों एवं राजस्व प्रकरणों की विस्तार से समीक्षा के दौरान सीएम किसान कल्याण योजना में किसानों के सत्यापन के प्रकरण अधिक संख्या में लंबित रहने के कारण बालाघाट तहसील के ग्राम खोड़सिवनी के पटवारी आशीष वर्मा को 2 वेतन वृद्धि रोकने के निर्देश दिये गये। इसी प्रकार खैरलांजी के पटवारी द्वारपाल पारधी की 01 वेतन वृद्धि रोकने तथा खैरलांजी तहसील अंतर्गत सावरी के पटवारी योगेश उईके एवं लांजी तहसील के पटवारी केवल अग्निहोत्री को निलंबित करने के निर्देश दिये गये। इसी प्रकरण में पांढरवानी के पटवारी शिवलाल अड़मे एवं जाम के पटवारी राजबीर बघेल को कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश दिये गये है।

3 रोजगार सहायक बर्खास्त, 14 का वेतन काटा

बड़वानी कलेक्टर शिवराजसिंह वर्मा ने शासकीय योजनाओं में लापरवाही प्रदर्शित करने वाले तीन ग्राम रोजगार सहायको धावड़ी के मुकेश बर्डे, सिदड़ी के जिकरिया रावत एवं मोयदा के राजेश मुजाल्दे की संविदा सेवा को तत्काल प्रभाव से समाप्त कर दिया है। कलेक्टरेट कार्यालय से प्राप्त जानकारी अनुसार इसमें से धावड़ी के ग्राम रोजगार सहायक मुकेश बर्डे पर एफआईआर होने के कारण, सिदड़ी के ग्राम रोजगार सहायक जिकरिया रावत को प्रधानमंत्री आवास योजना में गम्भीर अनियमितता एवं उदासिनता के कारण तथा मोयदा के ग्राम रोजगार सहायक राजेश मुजाल्दे को 6 हजार रूपये की रिश्वत लेते हुये रंगे हाथो लोकायुक्त के द्वारा पकड़े जाने पर उक्त कार्यवाही की गई है।

यह भी पढ़े.. मप्र शासन ने आईआरएस राजीव जैन को सौंपी बड़ी जिम्मेदारी

बड़वानी में महिला एवं बाल विकास विभाग के जिला कार्यक्रम अधिकारी आरएस गुण्डिया ने सम्पर्क एप पर भ्रमण की जानकारी न देने पर 14 सुपर वाईजर भागा ब्राहम्णे, राधा भावसार, बंसती भिडे, कुमारी सुमन चौहान, कुमारी भगवती वास्कले, कुमारी ऋतु पंवार, मधुबाला चतुर्वेदी, चन्द्रकान्ता जैप, संध्या सोलंकी, उष्मा सोलंकी, संध्या अलोने, लीलावती शिन्दे, गीता डावर, अर्चना सोलंकी की एक दिन का वेतन काटने का आदेश दिया है। साथ ही पुनः समस्त सुपर वाईजरों को चेताया है कि यदि शासन के निर्देशानुसार भ्रमण की जानकारी सम्पर्क एप पर दर्ज नहीं की जायेगी, तो दोषी सुपर वाईजरों की एक वेतनवृद्धि रोकी जायेगी।

शिक्षक निलंबित, जिला शिक्षा अधिकारी को नोटिस

भिण्ड कलेक्टर डॉ सतीश कुमार एस ने जिला शिक्षा अधिकारी भिण्ड हरभुवन सिंह तोमर को पदीय कर्तव्यों के निर्वहन में उदासीनता बरतने के कारण, कारण बताओ सूचना पत्र जारी कर 2 दिवस के अन्दर समक्ष में उपस्थित होकर नोटिस का जवाब प्रस्तुत करने को कहा है।अतः इस संबंध में अपना जबाव नोटिस प्राप्ति से 02 दिवस के अंदर समक्ष प्रस्तुत करें, कि क्यों न आपके विरूद्ध अनुशासनात्मक कार्यवाही प्रस्तावित की जाये।  आपकी ओर से नियत अवधि में उत्तर प्राप्त न होने की दशा में यह माना जायेगा कि आपको इस संबंध में कुछ नहीं कहना है और उस परिस्थिति में एक पक्षीय कार्यवाही की प्रस्तावित जायेगी।

वही जिला शिक्षा अधिकारी भिण्ड हरभुवन सिंह तोमर ने परीक्षा जैसे अतिमहत्वपूर्ण गोपनीय कार्य की गोपनीयता भंग करने पर शाउमावि फूप के मा.शि. कमलेश श्रीवास को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है। निलंबन अवधि में विकास खण्ड शिक्षा अधिकारी विकास खण्ड भिण्ड मुख्यालय नियत किया गया है। निलंबन अवधि में नियमानुसार मूलभूत नियम 53 (क) के जीवन निर्वाह भत्ता की पात्रता होगी।

निलंबित सहायक गेड-2 को आरोप पत्र जारी

शहडोल कलेक्टर वंदना वैद्य ने म.प्र. सिविल सेवा (वर्गीकरण नियंत्रण तथा अपील) नियम 1966 के नियम 14 के अंतर्गत सहायक गेड-2 (निलंबित) रमेश कुमार तिवारी तहसील कार्यालय ब्यौहारी को आरोप पत्र जारी किया है। जारी आरोप पत्र में कहा गया है कि, आपके विरूद्ध विभागीय जाँच किया जाना प्रस्तावित है तथा क्या आप व्यक्तिगत सुनावाई चाहते हैं ? क्या आप गवाह प्रस्तुत करना चाहते हैं? यदि हाँ तो उनकी सूची प्रस्तुत करें, इन सभी के संबंध में अपना प्रतिवाद का लिखित उत्तर 30 दिवस के अंदर कलेक्टर कार्यालय को प्रेषित करें। यदि प्रतिवाद का लिखित उतर समयावधि में प्राप्त नही होता है तो यह माना जायेगा कि इस संबंध में आपको कुछ नहीं कहना है तथा प्रकरण नियमानुसार एक पक्षीय कार्यवाही की जायेगी।