राज्य शासन ने जारी किए निर्देश, एकमुश्त मिलेगा 2 महीने का मुफ्त राशन, लाखों लोगों को होगा लाभ

समिति के माध्यम से खाद्यान्न वितरण पर नजर रखी जाएगी।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। देशभर में Corona की तीसरी लहर (corona third wave) के दस्तक के बाद अब राज्य शासन (MP Government) के निर्देशानुसार ग्रामीणों को प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना (Prime Minister Garib Kalyan Yojana) के तहत दो माह (जनवरी और फरवरी माह) का खाद्यान्न (ration) एक मुफ्त उपलब्ध कराया जाएगा।

दरअसल प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत जनवरी और फरवरी 2 महीना में मिलने वाले खाद्यान्न (food grains) का एक मुफ्त वितरण जनवरी 2022 में किया जाना है। वहीं आम नागरिकों से अपील की गई है कि दोनों महीने का राशन एक साथ प्राप्त करें । यदि इसमें किसी भी तरह की असुविधा आती है तो कलेक्टर को इसकी जानकारी दें।

इस मामले में राज्य शासन ने निर्देश जारी किया है। राज्य शासन के निर्देशानुसार उचित मूल्य दुकानों के विक्रेता को निर्देश दिए गए हैं कि पात्र हितग्राहियों को पीओएस मशीन के बायोमेट्रिक सत्यापन के आधार पर ही खाद्यान्न का वितरण किया जाए। इसके साथ ही हितग्राहियों को वितरित होने वाले खाद्यान्न की मात्रा में पीओएस मशीन से आवश्यक रूप से उन्हें पर्ची भी उपलब्ध कराएं। इतना ही नहीं राज्य शासन ने निर्देश दिया कि खाद्यान्न के प्रधान और वितरण पर सतत निगरानी रखने की जिम्मेदारी समितियों की होगी। समिति के माध्यम से खाद्यान्न वितरण पर नजर रखी जाएगी।

Read More :  हॉटस्पॉट Indore में संक्रमण का विस्फोट, एक दिन में 512 पॉजिटिव, एक्टिव केस 1200 के पार

वहीं आम जनता से अपील करते हुए राज्य शासन ने कहा है कि पात्र हितग्राही शासकीय उचित मूल्य दुकानों पर पहुंचकर अपनी पात्रता अनुसार एकमुश्त 2 महीने का खाद्यान्न प्राप्त करेंगे। जनवरी और फरवरी माह के खाद्यान्न का वितरण जनवरी महीने में ही किया जाएगा। वहीं प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के अंतर्गत खाद्यान्न निशुल्क और खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत ₹1 प्रति किलो के हिसाब से उपलब्ध कराए जा रहे हैं।

राज्य शासन ने आम जनता से अपील की है कि कंट्रोल की दुकान पर संचालक कि यदि 2 महीने का एकमुश्त राशन देने से मना करते हैं तो स्थानीय कलेक्टर-SDM को शिकायत करें अथवा सीएम हेल्पलाइन नंबर पर भी हितग्राही इसकी सूचना दे सकते हैं। जिसके बाद कंट्रोल रूम के संचालक के खिलाफ दंडात्मक कार्यवाही की जाएगी।