मप्र पंचायत चुनाव 2021: स्टैंडिंग कमेटी की बैठक आज, आयोग ने मांगी ये जानकारी, उल्लंघन पर कार्रवाई

चिकित्सा अवकाश के प्रकरणों में किसी भी चिकित्सक का चिकित्सा प्रमाण पत्र मान्य नहीं होगा। बल्कि मेडिकल बोर्ड का प्रमाण पत्र प्रस्तुत करना अनिवार्य होगा।

पंचायत चुनावों

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश में पंचायत चुनावों (MP Panchayat Election 2021) की तैयारियां जोरों पर चल रही है।एक तरफ सोमवार 13 दिसंबर से दोनों चरणों के लिए अधिसूचना (notification) जारी होगी और उम्मीदवार नामांकन पत्र दाखिल कर सकेंगे।वही दूसरी तरफ 14 दिसंबर 2021 को आरक्षण की प्रक्रिया पूरी होगी। इसी बीच जिले स्तर पर भी तैयारियों में तेजी आ गई है। शहडोल में स्टैंडिंग कमेटी की बैठक आज 12 दिसंबर को रखी गई है, वही जबलपुर में मतदान कर्मियों को 16 दिसंबर को प्रशिक्षण दिया जाएगा।इसके साथ ही सरकारी कर्मचारियों को अवकाश के लिए मेडिकल बोर्ड का प्रमाण पत्र होगा।वही आयोग ने वल्नरेबिल एवं क्रिटिकल केन्द्रों की जानकारी मांगी है।

यह भी पढ़े.. Job Alert: MP के युवाओं के लिए सुनहरा मौका, यहां निकली है बंपर भर्तियां, जल्द करें अप्लाई

राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा पंचायत आम निर्वाचन को स्वतंत्र एवं निष्पक्ष रूप से संपन्न कराने के लिये ऐसे मतदान केन्द्रों जहां के मतदाता हिंसा प्रभारी क्षेत्रों में रहते है या जिन्हें स्वतंत्र रूप से मतदान करने से रोके जाने की संभावना है कि पहचान करने और उक्त केन्द्रों की मैपिंग करते हुए जानकारी भेजने के निर्देश दिये है।उप जिला निर्वाचन अधिकारी छतरपुर ने जिले के रिटर्निंग अधिकारियों को आयुक्त के निर्देशानुसार वल्नरेबिल एवं क्रिटिकल केन्द्रों की पहचान करने के बाद पुलिस प्रशासन से सत्यापित जानकारी निर्धारित पत्र में भेजने के निर्देश दिये है।

शहडोल अपर कलेक्टर एवं उप जिला निर्वाचन अधिकारी अर्पित वर्मा ने जानकारी दी है कि पंचायत चुनाव 2021-22 के मद्देनजर कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी की अध्यक्षता में 12 दिसम्बर 2021 को अपरान्हन 2:00 बजे से स्टैंडिंग कमेटी की बैठक कलेक्टर कार्यालय के विराट सभागार में आयोजित की गई है।बैठक में पुलिस अधीक्षक, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत, उप जिला निर्वाचन अधिकारी, अनुविभागीय अधिकारी सोहागपुर,ब्यौहारी, जैतपुर, जयसिंहनगर, रिटर्निंग ऑफीसर, जिला पंचायत जनपद पंचायत समस्त मान्यता प्राप्त राष्ट्रीय दल एवं राज्य स्तरीय मान्यता प्राप्त दल के जिला अध्यक्ष अथवा उनके प्रतिनिधि को उपस्थित होने के लिए कहा गया है।

यह भी पढ़े.. मार्च 2022 में रिटायर होने वाले MP के कर्मचारियों के लिए काम की खबर, जारी हुए ये निर्देश

इसके साथ ही जबलपुर में चुनाव की चल रही तैयारियों के तहत मतदान दलों में नियुक्त कर्मचारियों को प्रशिक्षण 16 दिसम्बर से 18 दिसम्बर तक दिया जायेगा। उप जिला निर्वाचन अधिकारी एवं सयुंक्त कलेक्टर नमः शिवाय अरजरिया के अनुसार मतदान कर्मियों का प्रशिक्षण मानस भवन और मॉडल स्कूल के सभागार में आयोजित किया गया है। प्रशिक्षण तीनों दिन दो सत्रों में पहले सत्र में सुबह 10 बजे से दोपहर 1 बजे तक एवं दूसरे सत्र में दोपहर 2 बजे से शाम 5 बजे तक दिया जायेगा।

एमसीसी दल गठित, उल्लंघन पर कार्रवाई

मप्र राज्य निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार छतरपुर कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी छतरपुर शीलेन्द्र सिंह ने आचरण संहिता का पालन कराने के लिये ब्लॉकवार MCC दल गठित किया है। इस दल में अनुविभाग में राजस्व अधिकारी, तहसीलदार, सीईओ जनपद तथा थाना प्रभारी या चौकी प्रभारी विकासखण्डवार तैनात किये गये है। जिसके तहत छतरपुर, राजनगर, नौगांव, बिजावर, बक्स्वाहा, बड़ामलहरा, लवकुशनगर तथा गौरिहार विकासखण्ड के लिये गठित की गई एमसीसी टीम ग्रामीण क्षेत्रों में त्रि-स्तरीय पंचायत निर्वाचन प्रक्रिया को निष्पक्ष रूप से संपन्न कराने का दायित्व निभाएंगे तथा आचरण संहिता के उल्लंघन से संबंधित मामले में पालन-प्रतिवेदन संबंधित को प्रेषित करेंगे।

देना होगा मेडिकल बोर्ड का प्रमाण पत्र
सतना अपर कलेक्टर एवं उप जिला निर्वाचन अधिकारी राजेश शाही ने विभाग प्रमुख अधिकारियों को स्पष्ट किया है कि आचार संहिता लगते ही सभी विभागों के अधिकारी-कर्मचारी राज्य निर्वाचन आयोग और जिला निर्वाचन कार्यालय के नियंत्रण में आ गए हैं। किसी भी समय किसी भी अधिकारी-कर्मचारी की सेवाएं निर्वाचन कार्य में ली जा सकती है।उप जिला निर्वाचन अधिकारी ने विभाग प्रमुखों से कहा है कि किसी भी अधिकारी-कर्मचारी को अपने स्तर से अवकाश स्वीकृत नहीं करें। अधीनस्थों के अवकाश आवेदन प्राप्त होने पर विधिवत परीक्षण करें और अपने स्पष्ट अभिमत के साथ जिला निर्वाचन कार्यालय को प्रेषित करें। आवेदकों द्वारा जिला निर्वाचन कार्यालय में सीधे अवकाश आवेदन नहीं दिए जाएंगे। चिकित्सा अवकाश के प्रकरणों में किसी भी चिकित्सक का चिकित्सा प्रमाण पत्र मान्य नहीं होगा। बल्कि मेडिकल बोर्ड का प्रमाण पत्र प्रस्तुत करना अनिवार्य होगा।