MP Weather : 4 सितंबर से फिर बदलेगा मौसम, सक्रिय होगा नया सिस्टम! जमकर बरसेंगे बदरा, आज इन जिलों में बूंदाबांदी, जानें IMD का ताजा पूर्वानुमान

Pooja Khodani
Updated on -
mp weather

MP Weather Alert Today : मध्यप्रदेश के मौसम में सितंबर में एक बार फिर बड़ा बदलाव देखने को मिलेगा। नए सिस्टम के सक्रिय होते ही फिर अच्छी बारिश का दौर शुरू हो सकता है, हालांकि लोकल सिस्टम के प्रभाव से प्रदेश में कहीं-कहीं हल्की बूंदाबांदी या मध्यम-तेज बारिश हो सकती है।तीन दिन बाद पूर्वी मध्यप्रदेश में कहीं-कहीं वर्षा होने की संभावना बन रही है। इस बीच तापमान बढ़ने पर स्थानीय स्तर पर कहीं-कहीं छिटपुट बौछारें पड़ सकती हैं।

आज इन जिलों में बूंदाबांदी के आसार

एमपी मौसम विभाग के मुताबिक, आज शुक्रवार को भोपाल, इंदौर, नर्मदापुरम, जबलपुर समेत कई शहरों में हल्की बूंदाबांदी हो सकती है। ग्वालियर, उज्जैन में भी पारा 30 डिग्री या इससे अधिक ही रहने का अनुमान है।भोपाल जबलपुर इंदौर में हल्की बूंदाबांदी हो सकती है।ग्वालियर और उज्जैन में मौसम साफ रहेगा। चार सितंबर से पूर्वी मध्य प्रदेश में बारिश का दौर शुरू हो सकता है।

4 सितंबर से सक्रिय होगा नया सिस्टम

एमपी मौसम विभाग के मुताबिक, मानसून पर लगा ब्रेक अगले 3-4 दिनों में खत्म हो सकता है। इसका कारण 4-5 सितंबर से एक साथ दो सिस्टम का एक्टिव होने का अनुमान है। नए सिस्टम की वजह से पूर्वी हिस्से में मध्यम से तेज बारिश के संकेत मिले है। बारिश का दौर 18 से 19 सितंबर तक रह सकता है। प्रदेश में अब तक सामान्य से 15% कम बारिश हुई है। पूर्वी हिस्से में 12 कम और पश्चिमी हिस्से में यह आंकड़ा 19% कम है।

फिर सक्रिय होगा मानसून, पूर्वी एमपी में झमाझम बारिश के आसार

एमपी मौसम विभाग के मुताबिक, वर्तमान में पूर्वी उत्तर प्रदेश पर हवा के ऊपरी भाग में एक चक्रवात बना हुआ है, जिससे नमी मिलना शुरू हो गई है, इसके कारण गरज-चमक के साथ स्थानीय स्तर पर कहीं-कहीं वर्षा होने की संभावना बन रही है। वही बंगाल की खाड़ी में हवा के ऊपरी भाग में एक चक्रवात बन गया है, जिसके प्रभाव से चार सितंबर से फिर मानसून सक्रिय होगा और पूर्वी मध्यप्रदेश में कहीं-कहीं वर्षा का सिलसिला शुरू होने का अनुमान है। विशेषकर पूर्वी मध्य प्रदेश में तीन-चार सितंबर से कहीं-कहीं वर्षा होने की संभावना है।

 


About Author
Pooja Khodani

Pooja Khodani

खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है। बाकी सब विज्ञापन है। मकसद तय करना दम की बात है। मायने यह रखता है कि हम क्या छापते हैं और क्या नहीं छापते। "कलम भी हूँ और कलमकार भी हूँ। खबरों के छपने का आधार भी हूँ।। मैं इस व्यवस्था की भागीदार भी हूँ। इसे बदलने की एक तलबगार भी हूँ।। दिवानी ही नहीं हूँ, दिमागदार भी हूँ। झूठे पर प्रहार, सच्चे की यार भी हूं।।" (पत्रकारिता में 8 वर्षों से सक्रिय, इलेक्ट्रानिक से लेकर डिजिटल मीडिया तक का अनुभव, सीखने की लालसा के साथ राजनैतिक खबरों पर पैनी नजर)

Other Latest News