अब बुधवार को शिवराज से मुलाकात करेंगे महाराज, क्या है एजेंडा!

sindhiya shivraj j

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। बीजेपी से राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) बुधवार को भोपाल में हैं। वे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chouhan) से मुलाकात करेंगे। इस मुलाकात को सिंधिया के केंद्रीय मंत्री पद की शपथ लेने से पूर्व की सौजन्य भेंट और अपने समर्थकों को सत्ता व संगठन में एडजस्ट कराने की कवायद माना जा रहा है।

Delhi में 14 जून तक बढ़ा लॉकडाउन, जानिये क्या रहेगा बंद क्या खुला

मध्य प्रदेश की राजनीति का पारा इन दिनों लगातार चढ़ रहा है। कारण है अचानक शांत से पड़े प्रदेश भाजपा के राजनीतिक समुद्र में हो रही लगातार हो रही हलचल। पिछले एक सप्ताह की बात करें तो लगातार मेल मुलाकातों का दौर जारी है। कभी दिल्ली में कैलाश विजयवर्गीय नरेंद्र तोमर और प्रहलाद पटेल से मिलते हैं तो कभी नरोत्तम मिश्रा के निवास पर कैलाश, प्रभात झा और वीडी शर्मा बारी बारी पहुचते हैं। कभी अचानक नरोत्तम मिश्ला वीडी शर्मा के निवास पर पहुंच जाते हैं और बीजेपी के संगठन मंत्री सुहास भगत और सह संगठन मंत्री हितानंद के साथ कई नेताओं की मुलाकातें होती हैं। इसके साथ ही शुक्रवार को मुख्यमंत्री के निवास पर प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा और संगठन मंत्री सुहास भगत और संगठन सह मंत्री हितानंद की मुलाकात हुई।

अब बुधवार को ज्योतिरादित्य सिंधिया का भोपाल आगमन है। वे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से मुलाकात करेंगे। सूत्रों की मानें तो इसी माह केंद्रीय मंत्रिमंडल का विस्तार होना है और ज्योतिरादित्य सिंधिया का मंत्री बनना तय है। बीजेपी की परंपरा के अनुसार ज्योतिरादित्य सिंधिया मंत्री पद की शपथ लेने के पहले मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और संगठन के नेताओं से मुलाकात करने आ रहे हैं। यह भी माना जा रहा है कि इसके पहले वे अपने कुछ समर्थकों को निगम, मंडल और संगठन में नियुक्त कराना चाहते हैं। इन समर्थकों में सबसे पहला नाम इमरती देवी का है जो विधानसभा उपचुनाव तो हार गईं लेकिन उनका राजनीतिक पुनर्वास कराना ज्योतिरादित्य सिंधिया की प्राथमिकता है। इसके साथ की गिर्राज दंडोतिया, पंकज चतुर्वेदी जैसे कुछ अन्य नेता भी सिंधिया के लिए प्राथमिकता है। हालांकि इसके अलावा भी मध्य प्रदेश में राजनीतिक स्थायित्व को और अधिक मजबूती के साथ स्थापित करना शिव-ज्योति एक्सप्रेस के लिए प्राथमिकता होगी और उम्मीद इस बात की पूरी है कि दोनों मिलकर वर्तमान में चल रहे राजनीतिक घमासान को शांत करने की हरसंभव कोशिश करेंगे।