आपदा में अवसर, नगर निगम ने 8 गुना बढ़ाया पंजीयन शुल्क, 5 हजार रूपए तक विलंब शुल्क

इस मामले में नगर निगम आयुक्त बीएस चौधरी कोलसानी ने आदेश जारी किया। जिसके बाद अब शादी पंजीयन शुल्क 1100 रूपए हो गए हैं।

नगरीय निकाय चुनाव

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। एक तरफ प्रदेश में कोरोना (corona) के बढ़ते मामले चिंता का विषय बने हुए है। वहीं दूसरी तरफ नगर निगम (municipal Corporation) द्वारा दरों में इजाफा किया जा रहा है। अब विवाह के लिए पंजीयन शुल्क (registration fees) में 8 गुना वृद्धि कर दी गई है। इस मामले में नगर निगम ने नोटिस (notice) जारी कर दिया है।

बता दें कि नगर निगम के मुताबिक विवाह पंजीयन शुल्क पहले 130 रूपए निर्धारित है। जिसपर बोलते हुए नगर निगम ने बताया कि 130 रूपए में 30 रूपए सांख्यिकी विभाग को जाता था। जबकि 100 रूपए में नगर निगम के कई खर्चे को शामिल किया जाता था। ऐसी स्थिति में लगातार नगर निगम को भारी नुकसान का सामना करना पड़ा था।

Read More: इंदौर: 900 के पार पहुंचा आंकड़ा, 1000 के करीब कुल मौतें, 60 घंटे का कोरोना कर्फ्यू शुरू

इन खर्चों में प्रशासकीय स्टेशनरी और कंप्यूटर आदि के खर्च को शामिल किया जाता था। वहीं अब वित्तीय वर्ष 2021–22 के लिए विवाह पंजीयन शुल्क 1100 रुपए कर दिया गया है। इस मामले में नगर निगम आयुक्त बीएस चौधरी कोलसानी ने आदेश जारी किया। जिसके बाद अब शादी पंजीयन शुल्क 1100 रूपए हो गए हैं।

इसके अलावा 500 रूपए विलंब शुल्क अलग से प्रति वर्ष के हिसाब से शुल्क पर लगाई जाएगी। इतना ही नहीं विवाह पंजीयन शुल्क के लिए अधिकतम सीमा 5000 रूपए भी तय की गई है नोटिस में यह भी बताया गया है कि लगातार हो रहे खर्च को देखकर वृद्धि की जा रही है।