MP में 1 अप्रैल से कक्षा 1 से 8वीं के स्कूल खोलने पर लग सकता है ब्रेक

MP school

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश(MP) में तेजी से बढ़ते कोरोना वायरस (Coronavirus) के कारण एक साल से बंद पड़े कक्षा 1 से कक्षा 8वीं तक के स्कूल खोलने (School Reopen) पर ब्रेक लगता हुआ दिखाई दे रहा है। इसका कारण शुक्रवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान(Shivraj Singh Chauhan) द्वारा भोपाल, इंदौर और जबलपुर में 31 मार्च 2021 तक स्कूल ना खोलने का फैसला है, ऐसे में संभावना जताई जा रही है  नवीन शैक्षणिक सत्र 1 अप्रैल की बजाय जुलाई से शुरु हो सकता है, हालांकि इस संबंध में अभी तक विभाग द्वारा कोई आदेश जारी नहीं किया गया है।

यह भी पढ़े.. MP Board: शासकीय शिक्षकों को लेकर स्कूल शिक्षा विभाग का बड़ा फैसला, कलेक्टरों को निर्देश जारी

दरअसल, बीते दिनों मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान(Chief Minister Shivraj Singh Chauhan) का बयान सामने आया था कि नया सत्र 1 अप्रैल से शुरू हो रहा है, इसलिए भोपाल और इंदौर को छोड़कर पहली से 8वीं तक के स्कूलों को 1 अप्रैल से खोला जाएगा।इसके 2 दिन बाद स्कूल शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार (Inder Singh Parmar) का बयान सामने आया था कि 1 अप्रैल से स्कूल खोलने (School Re-open) को लेकर स्कूल शिक्षा विभाग एक रिव्यू मीटिंग करेगा, इसमें कई स्कूलों के प्राचार्य और एक्सपर्ट को बुलाया जाएगा और सभी पहलूओं पर विचार किया जाएगा।

इसके अलावा हाल ही में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का भी बयान सामने आया था कि स्कूल खोलने पर पुर्नविचार किया जाएगा। लेकिन शुक्रवार को मप्र में 1100 से ज्यादा कोरोना पॉजिटिव (Corona Positive) और स्कूल-कॉलेज में भी छात्राओं के संक्रमित आने के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने रविवार को टोटल लॉकडाउन (Lockdown) के साथ भोपाल, इंदौर और जबलपुर में 31 मार्च 2021 तक स्कूल बंद रखने के निर्देश दिए है।

MPPSC: रविवार 21 मार्च को ही होगी परीक्षा, उम्मीदवारों को लेकर जारी हुए ये निर्देश

वही अप्रैल से MP Board की 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं भी शुरु होने वाली है, ऐसे में 1 अप्रैल से नए शैक्षणिक सत्र शुरु होने की संभावना कम है।हालांकि अभी तक स्कूल शिक्षा विभाग (School Education Department) या शिवराज सरकार द्वारा कोई नया आदेश या निर्देश जारी नहीं किया गया है, लेकिन कहा जा रहा है कि अप्रैल की बजाय शैक्षणिक सत्र एक जुलाई 2021 से शुरु हो सकता है। ऐसे में जल्द ही विभाग फैसला ले सकता है।