इनामी बदमाश को पकड़ने आई यूपी पुलिस को लोगों ने बंधक बनाया और खदेड़ा, बदमाश को छुड़ाया

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। एमपी पुलिस को बिना बताये इनामी बदमाश को पकड़ने ग्वालियर आई यूपी की मैनपुरी पुलिस को उसकी ये गलती भारी पड़ गई। पुलिस को एक लाख का इनामी बदमाश तो नहीं मिला लेकिन उसका सहयोगी 10 हजार का एक अन्य बदमाश मिल गया। पुलिस जब उसे पकड़कर ले जाने लगी तो आसपास के लोगों ने पुलिस को घेर कर बंधक बना लिया और जब पुलिस बदमाश को गाड़ी में बैठाने लगी तो उसे छुड़ाकर भाग गए।

पूर्व मुख्यमंत्री बोले, कोरोना भी एक प्राणी, उसे भी जीने का अधिकार

मैनपुरी के बहुचर्चित पूर्व भाजपा जिला अध्यक्ष मदन चौहान हत्याकांड के मुख्य आरोपी एक लाख रुपये के इनामी बदमाश गुड्डू चौहान की तलाश में बीती रात मैनपुरी के दन्नाहार थाना पुलिस ग्वालियर आई। पुलिस को सूचना मिली थी कि फिरोजाबाद में पत्नी की हत्या कर फरार 10 हजार का इनामी आरोपी सौरभ भदौरिया उसे ग्वालियर में फरारी कटवा रहा है।यूपी पुलिस की टीम इंस्पेक्टर ओमजीत वाजपेयी और सब इंस्पेक्टर अमित सिंह के नेतृत्व में ग्वालियर पहुंची थी। उसने बिना ग्वालियर पुलिस को बताये रानीपुरा में दबिश दी। पुलिस को यहाँ गुड्डू चौहान तो नहीं मिला सौरभ उर्फ गोविंद भदौरिया मिल गया। पुलिस जब आरोपी को ले जाने लगी तो आसपास के लोगों के साथ मिलकर परिजनों ने पुलिस टीम को घेर लिया। लोगों ने पुलिस टीम को बंधक बना लिया इतने में इंस्पेक्टर और सब इंस्पेक्टर आरोपी सौरभ को लेकर वहाँ से निकले और अपनी गाड़ी में सौरभ को ले जाने लगे।

यूपी पुलिस सौरभ को लेकर सागर ताल सरकारी मल्टी के पास पहुंची होगी कि लोगों ने पुलिस को घेर लिया। यूपी पुलिस से लोगों ने बहस शुरू कर दी। वहाँ वाद विवाद होने लगा। पुलिस जब सौरभ को गाड़ी में बैठाने लगी तो लोगों ने हमला कर उसे पुलिस से छुड़ा लिया और भाग गए। अपने साथ हुई घटना की शिकायत यूपी पुलिस ने हजीरा थाना पुलिस में की। पुलिस ने पहुंचकर बंधक बनाई टीम को मुक्त कराया और यूपी पुलिस की शिकायत पर मामला दर्ज कर लिया। यूपी पुलिस की शिकायत पर पुलिस ने ओमी राठौर और सोनू राठौर सहित कुछ अन्य लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है।

नाम बदलकर रह रहा था सौरभ

गौरतलब है कि यूपी के फिरोजाबाद के रसूलपुर में सौरभ भदौरिया ने साल 2010 में पत्नी की हत्या की थी। वहां यह प्रदीप नाम से रहता था। उस मामले में उसकी गिरफ्तारी भी हो गई थी लेकिन वो पेशी के समय से फरार हो गया। पुलिस ने उसके उपर 10 हजार का इनाम घोषित किया था तभी से उसकी पुलिस को तलाश थी।

एक लाख का इनामी है गुड्डू चौहान

यहाँ बता दें कि मैनपुरी के भाजपा के पूर्व जिला अध्यक्ष मदन चौहान की 01 जनवरी 2017 को गोलियों से भूनकर हत्या कर दी गई थी। हालांकि हत्या के समय गुड्डू चौहान इटावा जेल में था लेकिन हत्या की साजिश उसी ने रची थी इसलिए पुलिस ने गुड्डू चौहान को इसमें नामजद किया था। जेल से छूटने के बाद गुड्डू ने मदन चौहान के बेटे पर हमला किया जिसमें गोली लगने से एक सिपाही की मौत हो गई। उसके बाद एसपी मैनपुरी ने गुड्डू चौहान पर एक लाख का इनाम घोषित कर दिया था। तभी से पुलिस गुड्डू चौहान की तलाश कर रही है।