PM Kisan : आज से किसानों को मिलेगा बड़ा लाभ, तैयारियां पूरी

किसान अपने नजदीकी कॉमन सर्विस सेंटर (Common Service Center) जाकर सामान्य गलती जैसे आधार, अकाउंट नंबर और बैंक अकाउंट नंबर को सुधार सकते हैं।

kisan

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। केंद्र सरकार (central government) किसानों (farmers) को बड़ी राहत देने जा रही है। 1 अप्रैल 2021 को देशभर के करीब 11 करोड़ से अधिक किसानों को प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना (PM Kisan Samman Nidhi Yojana) की आठवीं किस्त (8th installment) का भुगतान किया जाएगा। बता दें कि इससे पहले केंद्र सरकार द्वारा किसान सम्मान (PM Kisan)  योजना के 7 किस्त किसानों को उपलब्ध कराई जा चुकी है। इन योजना के मुताबिक हर साल 6000 रुपए किसानों के खाते में केंद्र सरकार की तरफ से जमा कराए जाते हैं।

दरअसल 1 अप्रैल को देशभर के 11 करोड़ 74 लाख किसानों को पीएम किसान (PM Kisan) सम्मान निधि योजना की आठवीं उपलब्ध कराई जाएगी। इससे पहले दिसंबर 2020 में किसानों के खाते में 7वीं क़िस्त पहुंचाई गई थी। किसान सम्मान निधि योजना का लाभ लेने के लिए किसानों को 31 मार्च तक आवेदन करना था।

बता दें कि किसानों की तरफ से लगातार आवेदन के साथ हर प्रक्रिया सही करने के बावजूद कभी-कभी उनके खाते में पैसे नहीं पहुंचते हैं। इसका सीधा कारण है कि कभी-कभी कोई दस्तावेज अधूरी रह जाती है। जिसके कारण किसानों को इन समस्याओं का सामना करना पड़ता है। इसके लिए किसान अपने नजदीकी कॉमन सर्विस सेंटर (Common Service Center) जाकर सामान्य गलती जैसे आधार, अकाउंट नंबर और बैंक अकाउंट नंबर को सुधार सकते हैं।

Read More: MP Board: 10वीं और 12वीं बोर्ड परीक्षा के लिए जारी हुई नई प्रश्न बैंक, व्हाट्सएप पर होगी उपलब्ध

इसके अलावा किसान पीएम किसान हेल्पलाइन नंबर 155261, पीएम किसान लैंडलाइन नंबर 011– 23381092, 23382401, प्रधानमंत्री किसान टोल फ्री नंबर 18001155266, प्रधानमंत्री किसान हेल्पलाइन नंबर 0120–6 025 109 पर कॉल करके जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

बता दे कि किसानों को हर वर्ष 1 अप्रैल से 31 जुलाई के बीच, दूसरी किस्त 1 अगस्त से 30 नवंबर और 30 दिसंबर से 31 मार्च के बीच केंद्र सरकार द्वारा खाते में उपलब्ध कराई जाती है। जहां सिंगल क्लिक के माध्यम से मोदी सरकार किसानों के खाते में पैसे डालती हुआ।

गौरतलब हो कि मोदी सरकार द्वारा प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना की शुरुआत 1 दिसंबर 2018 को की गई थी। जहां हर साल कुल 6000 रुपए किसानों के खाते में भेजे जा रहे थे इन 6000 रुपए को दो दो हजार की किस्त में किसानों के खाते में भेजा जाता है।