शिवराज सिंह चौहान की चेतावनी- अगर ऐसा नहीं किया तो अधिकारियों पर लगेगा जुर्माना

अब मुख्यमंत्री शिवराज ने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर तय समय पर काम नहीं किया तो अधिकारियों (Officers) पर जुर्माना (Penalty ) लगाया जाएगा।

शिवराज सिंह चौहान

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) चौथी पारी में लगातार सख्त और एक्टिव मोड में नजर रहे है। आए दिन काम में लापरवाही के चलते अधिकारियों और कर्मचारियों (Officers and employees) को चेताया जा रहा है, कईयों पर तो गाज भी गिर चुकी है। अब मुख्यमंत्री शिवराज ने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर तय समय पर काम नहीं किया तो अधिकारियों (Officers) पर जुर्माना (Penalty ) लगाया जाएगा।

यह भी पढ़े… Bhopal- साल के आखरी में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने की यह बड़ी घोषणा

दरअसल, भोपाल (Bhopal) में एक कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा सुशासन के लिए सरकार लगातार बड़े फैसले ले रही है, ताकी जनता को परेशान ना होना पड़े। जल्द ही नल कनेक्शन, बिल्डिंग परमिशन, बिजली कनेक्शन समेत अन्य सुविधाओं के लिए अधिकारियों को समय पर काम करना पडेगा, ताकी लोगों को दफ्तर के चक्कर ना काटना पड़े, अगर ऐसा हुआ तो इसके जिम्मेदार अधिकारी होंगे और उन पर जुर्माना लगाया जाएगा। इसके अलावा कंप्यूटर (Computer) के जरिए ऑटोमेटिक सिस्टम (Automatic system) से संबंधित आवेदक को ऑनलाइन (Online) प्रमाण पत्र मिलेगा।

इससे पहले अटल बिहारी वाजपेयी के जन्म दिवस (Atal Bihari Vajpayee’s Birthday) के अवसर पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Chief Minister Shivraj Singh Chauhan) ने ऐलान किया था कि 181 CM Helpline है, जिसमें लोग अपनी केवल शिकायतें दर्ज कराते थे, लेकिन अब इसका उपयोग अन्य कार्यों के लिए किया जाएगा। अब युवाओं और छात्रों को केवल 181 पर कॉल कर अपना आधार कार्ड (Aadhar Card) नंबर बताना होगा, जिसके बाद सिर्फ एक दिन में ही घर बैठे जाति और आय प्रमाण-पत्र (Caste and income certificate) वाट्सएप (WhatsApp) पर मिलेगा।

यह भी पढ़े… नए साल से पहले मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का बड़ा ऐलान

यह पहला मौका नहीं है इसके पहले भी शिवराज इस तरह का सख्त रवैया दिखा चुका है। हाल ही में ऊर्जा विभाग (Department Of Energy) की समीक्षा बैठक के दौरान मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को साफ निर्देश दिए थे कि किसानों (Farmers) को बिना बाधा के विद्युत सप्लाई, आम लोगों से बकाया देयकों की वसूली और बिजली (Electricity) चोरी रोकने के कार्य प्राथमिकता से किए जाए।प्रदेश में ट्रांसफॉर्मर्स (Transformers) में सुधार की कार्रवाई भी प्राथमिकता से की जाए और गुणवत्ता से किसी भी स्तर पर समझौता नहीं किया जाए। विद्युत पोल और विद्युत लाईन की तार झूलने जैसे दृश्य कहीं दिखाई नहीं देना चाहिए।