पूर्व मंत्री ने किया क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप से अलग होने का ऐलान, बताई ये वजह

कांग्रेस

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। पूर्व मंत्री और लहार विधायक डॉ गोविंद सिंह (Dr. Govind Singh) ने भिंड कलेक्टर सतीश कुमार जी को पत्र लिखकर अपने क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप (Crisis Management Group) से अलग होने की घोषणा की है। उनका कहना है कि इस समिति में कई आपराधिक प्रवृत्ति के लोग है, साथ ही समिति के सदस्यों का चुनाव बीजेपी नेताओं के दबाव में किया गया है। इसीलिए उन्होने खुद और अन्य कांग्रेसियों के इस समिति से अलग होने की घोषणा की है।

कमलनाथ का वार- प्रदेश में कोविड माफिया सक्रिय, भाजपा आड़ में कर रही व्यापार

डॉ गोविंद सिंह जी ने पत्र में लिखा है कि लहार एवं रोन ब्लॉक कोविड-19 महामारी के संकट को रोकने हेतु क्राइसिस मैनेजमेंट के गठन में अपराधियों को सदस्य बनाने के चलते खुद को और कांग्रेस पार्टी के सदस्यों ने इस ग्रुप से अलग होने का फैसला लिया है। कलेक्टर को लिखे पत्र में उन्होने कहा कि इस समिति के सदस्यों में से 90 प्रतिशत से अधिक सदस्य सत्ताधारी पार्टी से संबंधित हैं। साथ ही अनेक सदस्यों पर अदालत में गंभीर आपराधिक प्रकरण विचाराधीन होने के साथ ही कुछ 5 साल के सजायाफ्ता भी हैं। बिना किसी का नाम लिए उन्होने कहा कि कुछ सदस्य लहार में नहीं रहते और घोषित सूची में पिता एवं पुत्र को भी सदस्य बनाया गया है। उन्होने आरोप लगाया कि सदस्यों का चुनाव बीजेपी नेताओं के दबाव में किया गया है। इसीलिए उन्होने स्वयं एव अन्य कांग्रेसियों के क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप से अलग होने की घोषणा की है।

पूर्व मंत्री ने किया क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप से अलग होने का ऐलान, बताई ये वजह