कमलनाथ का वार- प्रदेश में कोविड माफिया सक्रिय, भाजपा आड़ में कर रही व्यापार

कमलनाथ ने कहा कि मध्य प्रदेश में कोविड माफिया सक्रिय है। भाजपा कोरोना की आड़ में व्यापार कर रही है। रेमडेसिविर इंजेक्शन से लेकर बेड्स तक बेचे जा रहे है।

कमलनाथ

निवाड़ी, डेस्क रिपोर्ट। पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ (Kamal Nath) ने आज शुक्रवार को पृथ्वीपुर पहुंचकर हाल ही में कोरोना (Corona) से जिंदगी की जंग हारे कांग्रेस विधायक बृजेन्द्र सिंह राठौर (Congress MLA Brijendra Singh Rathore) को श्रद्धांजलि अर्पित की और परिजनों से मुलाक़ात कर शोक-संवेदना व्यक्त की।इस मौके पर उन्होंने कहा कि बृजेंद्र सिंह राठौर उनके करीबी साथियों में से एक थे और आज मैं उनके परिवार को सांत्वना देने आया हूँ। वही शिवराज सरकार (Shivraj Government) और बीजेपी (BJP) पर जमकर हमला बोला।

यह भी पढ़े.. MP Weather Alert: मप्र के इन जिलों में बारिश के आसार, Tauktae तूफान का भी दिख सकता है असर

कमलनाथ ने कहा कि मध्य प्रदेश में कोविड माफिया सक्रिय है। भाजपा कोरोना की आड़ में व्यापार कर रही है। रेमडेसिविर इंजेक्शन से लेकर बेड्स तक बेचे जा रहे है। शिवराज के पास इस बात का जवाब नहीं कि मध्यप्रदेश में कोरोना से अब तक कितनी मौतें हुई है ।प्रदेश के छोटे व्यापारी किसान युवा सभी के भविष्य खतरे में है मिडिल क्लास नीचे जा रहा है गरीब भिखारी बन रहा है। मुझे एक अस्पताल का नाम बताएं जिसमें डॉक्टर बेड वेंटिलेटर ऑक्सीजन समेत सारी सुविधाएं उपलब्ध हो।।

भाजपा सरकार पर निशाना साधते हुए कमलनाथ ने कहा की मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में 1 अप्रैल से कितनी मृत्यु हुई, कितनी लाशें शमशान घाट और कब्रिस्तान पहुंची, मैंने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan)जी से यह सवाल किया था लेकिन कोई जवाब नहीं मिला ।अब जनता तय कर लेगी, कितनी कोविड की मौते हुई है।कोविड दवाने छिपाने या घोषणाओं से दूर नही होगा। शिवराज पर निशाना साधते हुए कमलनाथ ने कहा की मुंह चलाने की राजनीति बंद हो गई है अब, लोगों को न खाद्यान्न मिल रहा है ना गेहूं खरीदी हो रही है।

यह भी पढ़े.. पूर्व मुख्यमंत्री बोले, कोरोना भी एक प्राणी, उसे भी जीने का अधिकार

वही केंद्र सरकार को आड़े हाथ लेते हुए कमलनाथ ने कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi)  ने वैक्सीन में भी राजनीति कर ली, जिन पांच राज्यो में चुनाव होने वाला था, वहाँ 18 से 45 साल के वैक्सीनेशन की घोषणा कर दी लेकिन उस समय तक ऑर्डर भी नही दिया गया था, यह केवल वोट की राजनीति थी। कोरोना के चलते देश के हालात खराब है. अंतरराष्ट्रीय मीडिया हमारे भारत की मीडिया के कर्तव्य का पालन कर रहा है।