आरटीओ बैरियर पर ट्रक ड्राइवर की पिटाई, अधिकारी बोले डर कर भागने से टूटा पैर

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। नीमच जिले के नयागांव आरटीओ बैरियर पर ट्रक ड्राइवर की पिटाई मामले में परिवहन अधिकारी का हास्यास्पद बयान सामने आया है। उनका कहना है कि ट्रक ड्राइवर डर कर भागा था इसीलिए उसका पैर टूट गया। हालाकि ड्राइवर डरा किससे, यह अपने आप में एक सवाल है।

Morena : वन अमले पर रेत माफियाओं ने फिर की फायरिंग, ट्रॉली छोड़ भागे

बिलासपुर से भीलवाड़ा कोयला लेकर जा रहे राजस्थान के ट्रक चालक राजू ने आरोप लगाया था कि नयागांव आरटीओ बैरियर पर बुधवार की दोपहर 12 बजे उसे रोका गया और बैरियर पर पदस्थ सरकारी व निजी कर्मियों के द्वारा उससे पैसों की मांग की गई। जब उसने पैसे नहीं दिए तो उसकी जमकर पिटाई की गई जिसके चलते उसका एक पैर भी फैक्चर हो गया। राजू फिलहाल चित्तौड़गढ़ के अक्षर अस्पताल में अपना इलाज करा रहा है जहां उसका एक बड़ा ऑपरेशन होना है। परिवार में उसके साथ केवल उसकी पत्नी है और वह इतना महंगा इलाज कैसे करा पायेगा, यह भी अपने आप में एक सवाल है।

इन सबके बीच राजू के साथ हुई मारपीट के सवाल पर नयागांव बैरियर के प्रभारी अश्विन खरे ने एमपी ब्रेकिंग से बातचीत करते हुए राजू के साथ पिटाई की बातों को नकारा है। उनका कहना है कि राजू ने बैरियर पर आड़ा ट्रक लगा दिया था जिसके चलते आवागमन बाधित हो रहा था। इस पर जब आरटीओ के कर्मचारी राजू से बातचीत के लिए गए तो राजू यह सोच कर कि उसकी पिटाई ना हो जाए, डर कर भागा। इसी भागदौड़ में उसका पैर टूट गया। खरे का कहना है कि उन्होंने भी पुलिस को इस बयान से अवगत करा दिया है और पुलिस उनके बयान से संतुष्ट है। लेकिन बड़ा सवाल यह है कि क्या कोई ट्रक ड्राइवर इतना नासमझ हो सकता है कि बेवजह सड़क पर ट्रक आड़ा खड़ा कर दे। दूसरा यह कि राजू आखिरकार डर कर भागा क्यों। क्या बैरियर पर आतंक इस कदर है कि ड्राइवर, जो आमतौर पर किसी से नहीं डरते, बैरियर के लोगों से तो डरते हैं। फिलहाल राजू का आवेदन पुलिस थाने में पेंडिंग है और राजू अपने पैर के ऑपरेशन के लिए राजस्थान की अस्पताल में डला इंतजार कर रहा है।

क्या है मामला
यह मामला बुधवार का है जब दोपहर 12 बजे के करीब राजू नामक ट्रक ड्राइवर अपने ट्रक क्रमांक RJ 09 GC 9089 को लेकर बैरियर से गुजरा। राजू बिलासपुर से कोयला भरकर भीलवाड़ा जा रहा था। दोपहर 12 बजे के करीब बैरियर से गुजरते वक्त ट्रक को रोका गया और एंट्री के नाम पर 2000 रूपये की मांग की गई। जब राजू के द्वारा यह कहा गया कि उसके पूरे कागज कंप्लीट है, बावजूद इसके कर्मचारियों द्वारा अवैध वसूली के लिए दबाव बनाया गया और रुपए देने से मना करने पर वहां आरटीओ बैरियर के निजी कर्मचारियों ने घेर कर उसे लाठियों और डंडों से मारा। राजू के पैर में गंभीर चोट आई, जिसकी शिकायत उसने नयागांव पुलिस चौकी में की। लेकिन बावजूद इसके पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। पीड़ित ने ज्ञापन देकर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करने और बैरियर पर हो रही अवैध वसूली को रोके जाने की मांग की है।