Morena : वन अमले पर रेत माफियाओं ने फिर की फायरिंग, ट्रॉली छोड़ भागे

आम तौर पर देखा जाए तो रेत माफियाओं की संख्या इतनी है कि पुलिस और वन अमला भी कम पड़ जाता है। इसलिए पुलिस भी कार्रवाई करने से पीछे हट जाती है।

मुरैना, संजय दीक्षित। मुरैना (Morena) जिले में रेत माफियाओं (sand mafia) के हौसले इतने बुलंद है कि सरेआम पुलिस (police) और वन विभाग (Forest department) पर फायरिंग करने से नहीं चूकते हैं। एक बार फिर शुक्रवार को हुई कार्रवाई के दौरान माफियाओं ने वन अमले पर फायरिंग कर दी।

यह भी पढ़ें…Morena: पशु डॉक्टरों की बड़ी लापरवाही आई सामने, 4 बकरियों का गाड़ी में कर डाला पोस्टमार्टम

बतादें कि चम्बल अभ्यारण की एसडीओ श्रध्दा पान्द्रे रेत माफियाओं पर जब कार्रवाई करने पहुंचती थी तो माफिया उन पर फायरिंग करते थे। और ऐसी लगभग माफ़ियायों ने 3 महीने में करीब 15 बार हमला किया था। लेकिन उसके बाद भी एसडीओ श्रध्दा हिम्मत नहीं हारी। अब एसडीओ के ट्रांसफर के बाद माफिया बेकोफ धड़ल्ले से अवैध रेत का खनन कर रहे है। वहीं आज सुबह रेत से भरी ट्रैक्टर ट्रॉलियों के पीछा करते हुए वन विभाग की टीम आरटीओ बेरियल के पास पहुंची तो एक ट्रैक्टर ट्रॉली चालक रेत से भरी ट्रैक्टर ट्रॉली को निवी गांव की तरफ मोड़ कर ले गया। जब वन विभाग की टीम ने ट्रैक्टर ट्रॉली का पीछा किया तो ट्रैक्टर ट्रॉली चालक हड़बड़ाहट में बिजली के खंभे से जा टकराया। जिससे रेत से भरी हुई ट्रैक्टर ट्रॉली पलट गई। रेत माफियाओं ने आक्रोश में आकर अपने साथियों को बुलाकर वन अमले पर फायरिंग कर दी। इसके बाद वन अमला फायरिंग के डर से दूर खड़ा हो गया। इसके बाद चालक ट्रॉली को पलटी हुई छोड़कर ट्रैक्टर को भगा कर ले गया। और वन विभाग की टीम हाथ मलती रह गयी। आम तौर पर देखा जाए तो रेत माफियाओं की संख्या इतनी है कि पुलिस और वन अमला भी कम पड़ जाता है। इसलिए पुलिस भी कार्रवाई करने से पीछे हट जाती है।

Morena : वन अमले पर रेत माफियाओं ने फिर की फायरिंग, ट्रॉली छोड़ भागे