कैबिनेट बैठक में भिड़े सरकार के दो माननीय- जो बिगाड़ना है, बिगाड़ लेना

मंत्री धारीवाल ने शिक्षा मंत्री से शिकायती लहजे में कहा कि जो बिगाड़ना है, बिगड़ लेना। मैंने बहुत अध्यक्ष देखे हैं।

राजस्थान, डेस्क रिपोर्ट कोरोना (corona) की दूसरी लहर के बीच कैबिनेट की बैठक (cabinet meeting) आयोजित की गई। जिसमें सरकार के दो मंत्री (minister) आपस में भिड़ गए। पूरी बैठक के दौरान दोनों माननीय आपस में बहस करते नजर आए। हालांकि दोनों को शांत कराने के लिए कई वरिष्ठ मंत्रियों द्वारा मोर्चा संभाला गया लेकिन बैठक से बाहर आते ही फिर दोनों नेता एक दूसरे पर बिफर पड़े और एक दूसरे को धमकी तक दे डाली।

राजस्थान सरकार (rajsthan government) द्वारा कैबिनेट की बैठक आयोजित की गई थी। जिसमें कांग्रेस सरकार के मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा और शांति धारीवाल के बीच गहमागहमी हो गई। बैठक की मीटिंग खत्म करने के बाद एक बार फिर मंत्रालय के बाहर दोनों नेता भीड़ गए। जानकारी के मुताबिक वैक्सीन अभियान को लेकर शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने सभी जिला कलेक्टर को ज्ञापन देने की बात कही थी। जिसका शहरी विकास मंत्री शांतिलाल धारीवाल ने विरोध किया। शांतिलाल धारीवाल ने कहा कि ज्ञापन राष्ट्रपति को भेजा जाना चाहिए।

Read More: कर्मचारियों को बड़ा तोहफा देने की तैयारी में सरकार, शुरू हुआ अप्रेजल का काम

इस बात पर कैबिनेट में चर्चा के दौरान दोनों नेताओं में बहस देखने को मिली। हालांकि बहस को देखते हुए सीएम गहलोत द्वारा कई बार मंत्रियों को साथ मामले शांत करवाने की चेष्टा की गई। दोनों मंत्री आपस में बहस करते नजर आए। जिसके लिए कई वरिष्ठ मंत्रियों ने मोर्चा संभाला।

हालांकि बैठक से बाहर आने के बाद भी दोनों नेता एक दूसरे से वाद विवाद करते नज़र आएं। इस मामले में डोटासरा ने मुख्यमंत्री से शिकायत करते हुए कहा कि जो कुछ हुआ है, सब कुछ आपकी आंखों के सामने हुआ है। अध्यक्ष को बोलने तक का अधिकार नहीं दिया जा रहा है। ऐसे बर्ताव पर कार्रवाई होनी चाहिए। जिस पर मंत्री धारीवाल ने शिक्षा मंत्री डोटासरा से शिकायती लहजे में कहा कि जो बिगाड़ना है, बिगड़ लेना। मैंने बहुत अध्यक्ष देखे हैं। अब कैबिनेट में हुई दो माननीय की तू तू मैं मैं के चर्चे देखने को मिल रहे हैं।