A doctor is holding a coronavirus vaccine. The concept of vaccination, medicine, healthcare.

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) की जनता के लिए बड़ी खबर है।हाल ही में प्रदेश के वैक्सीनेशन महाअभियान (vaccination campaign) में एक दिन में करीब 17 लाख लोगों को वैक्सीन डोज (vaccine dose) लगाने को वर्ल्ड बुक ऑफ रिकार्ड ने वर्ल्ड रिकार्ड में शामिल कर लिया है। अब इस मामले में एक चौंकाने वाले तथ्य सामने आए हैं। जिसके बाद कांग्रेस (congress) एक बार फिर से शिवराज सरकार पर हावी हो गई है। वहीं कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह (digvijay singh) ने यहां तक कह डाला कि अजब एमपी, गजब एमपी। वहीं कांग्रेस प्रवक्ता नरेंद्र सलूजा (narendra saluja) ने भी वैक्सीनेशन अभियान पर सवाल खड़े किए हैं।

मध्य प्रदेश ने एक ही दिन में 16,73,858 Corona vaccine डोज दी गई जो देश के राज्यों में अब तक सबसे अधिक है। लेकिन टीकाकरण की रिकॉर्ड संख्या के कुछ ही दिनों बाद कई लोगों की शिकायत सामने आ रही है कि उन्हें टीका की एक भी खुराक प्राप्त किए बिना Vaccination प्रमाण पत्र प्राप्त हुआ है। इनमें सबसे चौंकाने वाला मामला एक 13 साल के लड़के का है, जिसके पिता को अपने बेटे को Corona vaccinated होने का का SMS मिला। ये मामला इसलिए भी गंभीर है क्योंकि भारत मेंअभी तक 18 साल से कम उम्र के बच्चों का टीकाकरण शुरू नहीं किया है।

मामले में 13 वर्षीय वेदांत डांगरे के पिता रजत डांगरे ने कहा 21 जून को शाम 7.27 बजे, मुझे एक SMS मिला कि वेदांत का Vaccination हुआ है। वह सिर्फ 13 साल का है। इस मामले में मैंने एक शिकायत दर्ज की लेकिन इसका कोई फायदा नहीं हुआ। जब उन्होंने लिंक का उपयोग करके प्रमाण पत्र डाउनलोड किया तो चौंक गए क्यूंकि उन्होंने उसके दस्तावेजों का उपयोग किया है जो कुछ दिन पहले रजत डांगरे ने नगर निगम को उसकी पेंशन के लिए जमा किया था। उन्होंने आगे कहा कि मैसेज में उनके बेटे की उम्र 56 वर्ष बताई गई है।

Read More: अब कहीं से भी चंद मिनटों में डाउनलोड करें Aadhar, UIDAI ने जारी किया लिंक, जाने प्रोसेस

सतना के चैनेंद्र पांडे को पांच मिनट के भीतर एक नहीं बल्कि तीन SMS मिले, जिसमें कहा गया था कि तीन लोगों कटिकराम, कालिंद्री और चंदन को टीका लगाया गया था। हालाकि चैनेंद्र पांडे इन लोगों को नहीं जानते 52 वर्षीय पांडे ने बताया कि उन्हें पांच मिनट के भीतर तीन SMS मिले हैं, जिनमें बस नाम अलग है। मुझे आज तक कोई Vaccine नहीं लगी है। इसके अलावा भोपाल में भी एक महिला को 21 जून को टीका लगवाने का SMS मिला था। हालांकि उस महिला ने अब तक टीका नहीं लगाया है। यह न केवल खतरे की बात है बल्कि कई लाभार्थी हैं जो Vaccine प्राप्त किए बिना भी टीकाकरण के SMS प्राप्त करने पर हैरान और भ्रमित थे।

इधर लगातार टीकाकरण की शिकायत के बाद अब कांग्रेस ने बीजेपी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। शिवराज सरकार के खिलाफ बोलते हुए कांग्रेस नेता नरेंद्र सलूजा ने मामले में सवाल उठाए हैं।उन्होंने कहा कि एक ही दिन में रिकॉर्ड संख्या में टीकाकरण का दावा करने वाले के पास पर्याप्त डाटा तक नहीं है। नरेंद्र सलूजा ने कहा कि मध्य प्रदेश में 13 साल के बच्चे को वैक्सीन दिया गया इसके साथ ही साथ मृत व्यक्ति को भी टीका कर दिया गया है। सलूजा ने कहा कि वैक्सीन अभियान एक पीआर नौटंकी के अलावा और कुछ नहीं है। कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने भी इस मामले में सवाल खड़े किए हैं। दिग्विजय सिंह ने कहा कि 13 वर्षीय बच्चे को वैक्सीनेशन का सर्टिफिकेट मिला है। एमपी अजब-गजब है।