विवेक तन्खा की मांग- मप्र सरकार और चुनाव आयोग दमोह उपचुनाव स्थगित करें

तन्खा ने कहा कि डॉक्टर हर्षवर्धन (Dr. Harshvardhan) जी आपकी कथनी और करनी में यह अंतर क्यों। अगर चुनाव से कोरोना बढ़ रहा है तो यह वक्त उपचुनाव क्यों?

विवेक तन्खा

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में तेजी से बढ़ते कोरोना (Coronavirus) को देखते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने 60 घंटे यानि आज शुक्रवार शाम 6 बजे से सोमवार सुबह 6 बजे तक दमोह को छोड़कर पूरे प्रदेश में टोटल लॉकडाउन (Lockdown 2021) लगाने का फैसला किया है। वही दमोह उपचुनाव (Damoh By-election) और आचार संहिता (Code Of Conduct) के चलते यह फैसला मप्र सरकार (MP Government) ने चुनाव आयोग पर छोड़ा है।

यह भी पढ़े.. ग्वालियर कलेक्टर ने शासकीय अधिकारियों-कर्मचारियों की छुट्टी पर लगाई रोक, आदेश जारी

इसी को लेकर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा (Vivek Tankha) ने सवाल उठाए है।विवेक तन्खा ने ट्वीट कर लिखा है कि क्या यह सत्य है की दमोह (Damoh) छोड़ पूरे प्रदेश में शुक्रवार से 60 घंटे का लॉकडाउन की घोषणा की गई है। डॉक्टर हर्षवर्धन (Dr. Harshvardhan) जी आपकी कथनी और करनी में यह अंतर क्यों। अगर चुनाव से कोरोना बढ़ रहा है तो यह वक्त उपचुनाव क्यों?

वही विवेक तन्खा ने चुनाव आयोग (Election Commission)और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान  (CM Shivraj Singh Chauhan) से सवाल किया है कि प्रदेश की जनता इस क़हर के प्रकोप में झुलस रही है और प्रशासन की प्राथमिकता उपचुनाव है। चुनाव आयोग और मप्र सरकार जनता की दोस्त है या दुश्मन। प्रदेश जल रहा है और नीरो कंचे खेल रहा है। उपचुनाव स्थगित करिए। इस वक्त सिर्फ़ और सिर्फ़ अस्पताल , मरीज़ , दवा , वैक्सीन और जनता के कष्ट निवारण होना चाहिए।

यह भी पढ़े.. MP Weather Alert: मप्र में बदलेगा मौसम, अगले 24 घंटे में इन जिलों में बारिश के आसार

बता दे कि पिछले 24 घंटे में दमोह में 23 नए कोरोना पॉजिटिव केस सामने आए है, जिसके बाद एक्टिव केसों की संख्या 222 हो गई है। अबतक 3265 लोग संक्रमित हो चुके है और 94 की मौत हो चुकी है।

गौरतलब है कि प्रदेश के सभी शहरों में शुक्रवार शाम 6 बजे से सोमवार सुबह 6 बजे तक लॉकडाउन लगाया गया है। इस संबंध में सभी अधिकारियों को निर्देश दिए जा चुके हैं। सभी जिलों के क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप को बैठक कर अपने जिलों के पेशेंट लोड और परिस्थितियों को देखते हुए आवश्यक और उपयुक्त निर्णय करने के लिए तत्काल बैठकें आयोजित करने के निर्देश भी दिए गए हैं। संक्रमण की स्थिति को देखते हुए आवश्यक होने पर बड़े शहरों में कंटेनमेंट एरिया भी बनाए जाएंगे।