MP School : मप्र के छात्रों को 1 लाख जीतने का सुनहरा मौका, यह देखें पूरी डिटेल्स

इसकी आखिरी तारीख 25 फरवरी 2021 है। इच्छुक उम्मीदवार mp.mygov.in पोर्टल पर आवेदन दे सकते है।

school

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। अगर आप स्कूल छात्र (School Student) है और घर बैठे बैठे 50 हजार से 1 लाख रुपए कमाना चाहते है तो यह खबर आपके बड़े काम की है। मध्यप्रदेश (MP) के स्कूल शिक्षा विभाग (School Education Department) ने विद्यार्थियों के लिए यूनिफार्म डिजाईन (Uniform design) के लिए प्रतियोगिता का आयोजन किया है। इसकी आखिरी तारीख 25 फरवरी 2021 है। इच्छुक उम्मीदवार mp.mygov.in पोर्टल पर आवेदन दे सकते है।

यह भी पढ़े… MP School : 10वीं-12वीं के छात्रावास खोलने के आदेश, करना होगा इन शर्तों का पालन

दरअसल, मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh0 के सरकारी स्कूलों (Government School) में पढ़ने वाले छात्र-छात्राओं के लिए यूनिफार्म डिजाईन में बदलाव किया जा रहा है।इसमें कक्षा 1 से कक्षा 8वीं के छात्रों की स्कूल यूनिफॉर्म बदली जानी है। इसके लिए स्कूल शिक्षा विभाग, मध्यप्रदेश शासन द्वारा mp.mygov.in पोर्टल पर विद्यार्थियों के लिए यूनिफार्म डिजाईन के लिए प्रतियोगिता का आयोजन किया गया है । प्रतियोगिता में बालक एवं बालिका संवर्ग के लिए प्रथम एवं द्वितीय उत्कृष्ट डिजाइन का चयन किया जायेगा। प्रत्येक संवर्ग के प्रथम एवं द्वितीय प्रतिभागी को क्रमशः एक लाख एवं 50 हजार रुपये की राशि पुरुस्कार स्वरूप प्रदान की जायेगी।

रजिस्टर करने के लिए क्या करें

प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए प्रतिभागी को लिंक https://mp.mygov.in पर जाना होगा और ऊपर ‘‘पंजीकरण करें‘‘ बटन पर क्लिक करना होगा। ‘‘पंजीकरण करें’’ पर क्लिक करने के बाद आपको एक फॉर्म दिखेगा, यहां पर अपनी जानकारी भरें जैसे नाम, मोबाइल नम्बर (Mobile Number), ईमेल (E-mail) आदि। रजिस्टर करते ही आपके मोबाइल (Mobile) नम्बर पर एक ओटीपी (OTP) आएगा, उसके द्वारा वेरीफाई करें। ओटीपी द्वारा लॉग-इन कर यूनिफार्म डिजाईन प्रतियोगिता में भाग ले सकते हैं।

यह भी पढ़े… MP School : स्कूल छात्रों को बड़ी राहत, अब 20 फरवरी कर सकते है आवेदन, आदेश जारी

बता दे कि  इससे पहले मध्य प्रदेश के  महिला-बाल विकास विभाग (Women and Child Development Department) द्वारा व्हाटसएप पिक्चर मैसेज क्रियेटिंग (Whatsapp Picture Message Creating) प्रतियोगिता आयोजित की गई थी, जो बच्चों, किशोरी, बालिकाओं एवं महिलाओं का स्वास्थ्य, पोषण विकास, महिला एवं किशोरी सशक्तिकरण (Women Empowerment), महिला एवं बच्चों की सुरक्षा (Women And Children Safety) और जेंडर समानता (Gender Equality) विषय पर आधारित थी।इसमें आयु सीमा 18 से 40 वर्ष निर्धारित की गई थी ।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here