World Bicycle Day 2024 : विश्व साइकल दिवस पर अखिलेश यादव ने बताया ‘साइकिल’ का महत्व, क्या है छिपे हुए मायने

समाजवादी पार्टी का चिन्ह 'साइकिल' है और लोकसभा चुनावों का परिणाम एक दिन बाद आने वाला है। इस बीच वर्ल्ड साइकिल डे पर सपा अध्यक्ष ने 'साइकिल' की महिमा का बखान किया और उसके फ़ायदे गिनाए हैं। वो लगातार दावा कर रहे है कि इस बार केंद्र में इंडिया गठबंधन की सरकार बनेगी, ऐसे में 'साइकिल' के लाभ गिनाते हुए उनके सियासी संकेत को समझा जा सकता है।

Akhilesh

World Bicycle Day 2024 : आज विश्व साइकिल दिवस है। हर साल 3 जून को वर्ल्ड साइडिल डे मनाया जाता है। इस दिन का उद्देश्य साइकिल के महत्व को उजागर करना और इसके लाभ के बारे में जागरूकता फैलाना है। समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भी आज ‘साइकिल’ के महत्व को दर्शाती हुई एक कविता शेयर की है। लेकिन लोकसभा चुनाव के नतीजों से ऐन एक दिन पहले इस संदेश के कुछ छिपे हुए राजनीतिक मायने भी हैं।

अखिलेश यादव ने शेयर की साइकिल पर कविता

अखिलेश यादव ने एक्स पर कवि उदय प्रताप सिंह की कविता साझा की है। इसमें कवि कह रहा है ‘साइकिल भी है खूब सवारी, थोड़े दाम काम दे भारी, इसकी महिमा जग से न्यारी, सभी जनों को दिल से प्यारी’। अब कवि की मंशा तो साइकिल की खूबी बताने की ही है, लेकिन जब सपा अध्यक्ष इस कविता को शेयर करें तो इसके कुछ और अर्थ निकलने भी स्वाभाविक है।

समाजवादी पार्टी की चिन्ह है ‘साइकिल’

हम सब जानते हैं कि समाजवादी पार्टी का चिन्ह साइकिल है। एक दिन बाद..4 जून को लोकसभा चुनावों के नतीजे आने वाले हैं और अखिलेश यादव लगातार इंडिया गठबंधन की सरकार बनने का दावा कर रहे हैं। वो पहले भी कह चुके हैं कि ‘बीजेपी चार चरणों में चारों खाने चित हो चुकी है और उनके आंसुओं की नदी उफान पर है। वो 400 पार का नारा दे रही थी, अब वो 143 सीटों पर ही जीत मानकर चल रही है। ये लोग यूपी, दिल्ली और पंजाब की सीटों में ही उलझकर रह जाएंगे। अब हमें रोटी, कपड़ा और मकान की लड़ाई से पहले संविधान बचाने की लड़ाई लड़नी है।’ दो दिन पहले भी उन्होंने ‘चिड़िया की पहेली’ का उदाहरण देते हुए कहा था कि ‘वो पहेली याद है ना जिसमें पूछते थे कि अगर दो डाल की चिड़ियों में से एक चिड़िया इधर डाल पर आ जाए तो इधर दोगुनी हो जाती हैं और अगर इधर की एक चिड़िया उधर चली जाए तो दोनों बराबर हो जाती हैं…जब तक आप इसका उत्तर सोचेंगे तब तक हम बता दें कि भाजपा की हार के लिए यही पहेली ‘जवाब’ बन गई है। अब तक जो मतदाता उनके साथ थे, वो इंडिया गठबंधन की तरफ़ आ गये हैं, जिससे हमारी संख्या दोगुनी हो गयी है और भाजपा की आधी।’

अखिलेश का INDIA गठबंधन की सरकार बनने का दावा

तो.. ‘विश्व साइकिल दिवस’ पर अखिलेश यादव ने ‘साइकिल’ की खूबियाँ बताई है। हालाँकि इसमें कोई शक नहीं कि साइकिल चलाना सेहत और पर्यावरण दोनों के लिए अच्छा है। लेकिन चुनाव परिणाम के ठीक एक दिन पहले अखिलेश अपनी इस ये पोस्ट के ज़रिए शायद ये भी कहना चाहते हैं कि इस बार उत्तर प्रदेश में वो बीजेपी को मात दे देंगे। बता दें कि पिछले लोकसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी और बसपा मिलकर चुनाव लड़े थे लेकिन 2024 में समाजवादी पार्टी इंडिया गठबंधन का हिस्सा है। 2019 के लोकसभा चुनाव में भाजपा की अगुवाई वाली एनडीए ने 64 सीटों पर जीत दर्ज की थी। गठबंधन में बसपा ने 10 और सपा ने पांच सीटों पर जीत हासिल की थी और कांग्रेस सिर्फ रायबरेली की सीट जीत पाई थी। ऐसे में इस बार सपा अध्यक्ष भारी जीत का दावा कर रहे हैं और लगातार कह रहे हैं कि केंद्र में इंडिया गठबंधन की सरकार बनेगी।


About Author
श्रुति कुशवाहा

श्रुति कुशवाहा

2001 में माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय भोपाल से पत्रकारिता में स्नातकोत्तर (M.J, Masters of Journalism)। 2001 से 2013 तक ईटीवी हैदराबाद, सहारा न्यूज दिल्ली-भोपाल, लाइव इंडिया मुंबई में कार्य अनुभव। साहित्य पठन-पाठन में विशेष रूचि।