Columbus के जन्मस्थान के रहस्य से उठेगा पर्दा, डीएनए टेस्टिंग से होगा खुलासा

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। भारत (India) की खोज पर निकले कोलंबस ने गलती से अमेरिकी द्वीप को खोज लिया था, ये बात तो हम सभी जानते हैं। लेकिन एक बात जिसपर अब तक बहस जारी है वो ये कि आखिर क्रिस्टोफर कोलंबस (Christopher Columbus) का जन्म स्थान क्या है। इसे लेकर सालों से विवाद चला आ रहा है और अब डीएनए (DNA) टेस्टिंग के जरिए इसे सुलझाने की कोशिश की जा रही है।

Air India Recruitment 2021: इन पदों पर निकली है भर्तियां, सैलरी 50 हजार

अधिकांश इतिहासकारों का मानना है कि कोलंबस का जन्म जेनोआ में 1451 में हुआ था और उनकी मृत्यु 20 मई 1506 में हुई। लेकिन कई अन्य दस्तावेजों के अनुसार मान्यता है कि कोलंबर पुर्तगाल से था, कुछ विद्वान उसे स्पेन का मानते हैं तो कई इतिहासकारों का मानना है कि वो इटली से थे। फिर भी इस बात पर अब तक एक राय नहीं बन पाई है। इसे लेकर अब ग्रेनाडा विश्वविद्यालय में डीएनए अध्ययन के प्रमुख वैज्ञानिक जोस एंटोनियो लोरेंटे ने एक नए विचार को जन्म दिया है।

दरअसल एक वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से हो रही बैठक में जोस एंटोनियो लोरेंटे ने कहा कि वे इस बात पर कोई संदेह नहीं करते कि कोलंबस का जन्म इटली में हुआ था। उन्होने कहा कि वो इसे साबित करने के लिए डाटा भी दे सकते हैं। विश्वविद्यालय ने कोलंबस के जन्मस्थान के बारे में जानने के लिए ही मीटिंग बुलाई थी। इस वर्चुअल मीटिंग में पुर्तगाल के अलेंटेजो, एस्पिनोसा डी हेनारेस, स्पेन के वालेंसिया, गैलिसिया और मल्लोर्का सहित अन्य विशेषज्ञ शामिल हुए। यहां शोधकर्ता अल्फोंसो सान्ज ने कहा कि इस बारे में चल रही डीएनए रिसर्च के आखिरी दौर के परिणामों का अमेरिका और यूरोप की लैबोरेट्रीज में परीक्षण किया जाएगा और संभावना है कि अक्टूबर तक ये बात सिद्ध हो जाएगी कि आखिर कोलंबस का जन्म कहां हुआ था। जानकारी के मुताबिक कोलंबस के डीएनए के नमूने साल 2004-05 में एकत्रित किए गए थे और अब इतने साल बात उनका फिर से विश्लेषण होगा।