DSSSB ने टीजीटी अध्यापक के पदों पर बंपर भर्ती, नोटिफिकेशन जारी, जानें जरूरी डिटेल्स

jobs

DSSSB TGT Recruitment 2024: सरकारी अध्यापक बनने का सपना देख युवाओं के लिए सुनहरा मौका है। दिल्ली अधीनस्थ सेवा चयन बोर्ड (DSSSB) की तरफ टीजीटी शिक्षकों के कई पदों पर भर्तियों के लिए नोटिफिकेशन जारी कर दिया है। इच्छुक उम्मीदवार DSSSB की आधिकारिक वेबसाइट dsssb.delhi.gov.in पर जाकर नोटिफिकेशन को पढ़ सकते हैं। वहीं रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया शुरू होने पर ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।

महत्त्वपूर्ण तारीखें

DSSSB ने टीजीटी के कई पदों पर भर्तियों के लिए नोटिफिकेशन जारी किया है। जिसके लिए रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया 8 फरवरी 2024 को आवेदन शुरू होगा। वहीं आवेदन के लिए अंतिम तारीख 8 मार्च 2024 निर्धारित की गई है।

कुल पद- 5118

शैक्षणिक योग्यता

DSSSB ने टीजीटी के पदों पर आवेदन करने के लिए उम्मीदवारों के पास किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक की डिग्री होनी चाहिए। वहीं अधिक जानकारी के लिए इच्छुक एवं योग्य उम्मीदवार आधिकारिक नोटिफिकेशन को एक बार जरूर पढ़ लें।

आयु-पात्रता

टीजीटी के पदों पर आवेदन करने के लिए उम्मीदवारों की न्यूनतम आयु 18 साल और अधिकतम आयु 32 साल निर्धारित की गई है। वहीं आरक्षित श्रेणी के उम्मीदवारों को आयु सीमा में छूट का प्रावधान किया गया है।

आवेदन शुल्क

DSSSB में टीजीटी के पदों पर आवेदन करने के लिए अनारक्षित, पिछड़ा और ईडब्ल्यूएस श्रेणी के उम्मीदवारों को 100 रुपए आवेदन शुल्क का भुगतान करना पड़ेगा। जबकि एससी, एसटी, पीएच और महिला श्रेणी के उम्मीदवारों को कोई भी आवेदन शुल्क नहीं देना है। आवेदन शुल्क का भुगतान क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड और नेट बैंकिंग के जरिए किया जा सकता है।


About Author
Shashank Baranwal

Shashank Baranwal

पत्रकारिता उन चुनिंदा पेशों में से है जो समाज को सार्थक रूप देने में सक्षम है। पत्रकार जितना ज्यादा अपने काम के प्रति ईमानदार होगा पत्रकारिता उतनी ही ज्यादा प्रखर और प्रभावकारी होगी। पत्रकारिता एक ऐसा क्षेत्र है जिसके जरिये हम मज़लूमों, शोषितों या वो लोग जो हाशिये पर है उनकी आवाज आसानी से उठा सकते हैं। पत्रकार समाज मे उतनी ही अहम भूमिका निभाता है जितना एक साहित्यकार, समाज विचारक। ये तीनों ही पुराने पूर्वाग्रह को तोड़ते हैं और अवचेतन समाज में चेतना जागृत करने का काम करते हैं। मशहूर शायर अकबर इलाहाबादी ने अपने इस शेर में बहुत सही तरीके से पत्रकारिता की भूमिका की बात कही है– खींचो न कमानों को न तलवार निकालो जब तोप मुक़ाबिल हो तो अख़बार निकालो मैं भी एक कलम का सिपाही हूँ और पत्रकारिता से जुड़ा हुआ हूँ। मुझे साहित्य में भी रुचि है । मैं एक समतामूलक समाज बनाने के लिये तत्पर हूँ।

Other Latest News