Ajab Gajab : इस गांव में किशोर होते ही लड़के में तब्दील हो जाती है लड़की, वैज्ञानिक भी हैरान

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। हमारे देश में अक्सर लड़का पैदा होने की दुआ की जाती है। अब भी कई जगहों पर बेटे को बेटी से ज्यादा तवज्जो मिलती है। बेटे के जन्म पर खुशियों का आलम कुछ और ही होता है। कई बार तो स्थितियां इतनी रूढ़ होती है कि लोग दुआ करते हैं उनके घर जन्मी बेटी बेटा बन जाए। लेकिन सोचिये अगर ये बात सच हो जाए तो क्या होगा।

ये भी देखिये – Vadodara : न कोई दूल्हा न ही बारात, खुद के साथ शादी रचाएंगी क्षमा, हनीमून पर जाएंगी गोवा

इस अजीबोगरीब हालात का सामना कर रहा है डोमिनिकन रिपब्लिक (Dominican Republic) देश में स्थित ला सेलिनास  (La Salinas Village) नाम का गांव। यहां किशोर होते होते लड़की लड़के में तब्दील होने लगती है। ये बदलाव बायलॉजिकल होते हैं और इस बात ने सभी को हैरान कर रखा है। इस अजीब कारण से लोग मानते हैं कि ये गांव श्रापित (Cursed Village) हैं। ऐसा क्यों होता है इसका रहस्य अब तक तक वैज्ञानिक भी पता नहीं कर पाए हैं।

12 साल की उम्र तक आते लड़के में तब्दील हो जाती है लड़की

ला सेलिनास गांव में कई लड़कियां 12 साल की उम्र तक पहुंचते हुए लड़के में तब्दील होने लगती है। इस तरह सेक्स चेंज हुए बच्‍चों को यहां ‘ग्वेदोचे’ (Guevedoces) कहा जाता है।लड़कियों के लड़का बनने की इस अजीब ‘बीमारी’ के कारण यहां के लोग परेशान रहते हैं। जब भी किसी के घर लड़की का जन्म होता है तो वो इस आशंका से भर जाता है कि न जाने भविष्य में उसके साथ क्या होगा। इस रहस्यमयी बीमारी की वजह से ये गांव बदनाम है और आस पास के लोग इसे बुरी नजर से देखते हैं।

अनुवांशिक है ये रहस्यमय बीमारी

ये गांव समुद्र किनारे बसा है और यहां करीब 6 हजार लोग रहते हैं। इस बीमारी के कारण दुनियाभर के शोधकर्ता यहां पर रिसर्च भी कर रहे हैं। वहीं कुछ डॉक्टरों और वैज्ञानिकों का कहना है कि ये एक अनुवंशिक विकार (genetic disease) है। यहां की स्‍थानीय भाषा में ऐसे बच्चों को ‘सूडोहर्माफ्रडाइट’ पुकारा जाता है। इसमें लड़कियों का शरीब बदलने लगता है, उनके अंग पुरूषों के जैसे बनने लगते हैं। आवाज भारी हो जाती है और धीरे धीरे वो लड़के के रूप में तब्दील हो जाती है। गांव में 90 में से एक बच्ची इस बीमारी से जूझ रही है। गांववाले अब इस समस्या से परेशान हो गए हैं और किसी भी तरह इससे छुटकारा चाहते हैं। वहीं शोधकर्ता भी लगातार इसके पीछे का रहस्य जानने में जुटे हुए हैं।