ऐसी बनाएं अपनी Personality, हर मोड़ पर मिलेगी कामयाबी

भावना चौबे
Updated on -

Personality Development Tips: हर व्यक्ति के जीवन में उसकी पर्सनालिटी अहम भूमिका निभाती है। जीवन में हर व्यक्ति की पर्सनैलिटी अलग होती है। हर व्यक्ति का उठने – बैठने , रहन- सहन, बोलचाल और जीवन जीने का तरीका अलग होता है। अक्सर हम इन्हीं चीजों को देखकर व्यक्ति की पर्सनैलिटी को जज करने लगते हैं। बेहतर जीवन जीने के लिए एक अच्छी पर्सनैलिटी बनाए रखना बहुत जरूरी होता है।अच्छी पर्सनैलिटी सिर्फ दूसरों को अच्छा दिखाने या शॉ ऑफ तक सीमित नहीं है। बल्कि अच्छी पर्सनैलिटी के होने से जीवन में कामयाबी के कई दरवाजे खुलते हैं।आज हम आपको इस लेख के द्वारा पर्सनैलिटी को कैसे बेहतर बनाया जा सकता है इसके बारे में बताएंगे, तो चलिए जानते हैं।

ड्रेसिंग सेंस सुधारें

अक्सर लोग दूसरे व्यक्ति का ड्रेसिंग सेंस देखकर उसकी पर्सनालिटी का अंदाजा लगाना शुरू कर देते हैं। ड्रेसिंग सेंस पुरी की पूरी पर्सनैलिटी में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। ड्रेसिंग सेंस का मतलब सिर्फ अच्छे कपड़े पहनना नहीं होता बल्कि किस जगह पर कैसे कपड़े पहनने है, इस बात का भी विशेष ध्यान रखना चाहिए। प्रोफेशनल जगहों पर हमेशा साफ-सुथरे और फॉर्मल कपड़े पहनना चाहिए। वहीं अगर आप किसी पार्टी या फिर शादी में जा रहे हैं तो ट्रेडिशनल कपड़े या पार्टी वियर कपड़े पहनना चाहिए। हमेशा अपने कपड़ों को प्रेस करके ही पहने।

कम्युनिकेशन स्किल को को सुधारें

पर्सनैलिटी इंप्रूव करने के लिए कम्युनिकेशन स्किल अहम भूमिका निभाती है। जब कभी भी कम्युनिकेशन स्किल की बात आती है तो लोगों को लगता है कम्युनिकेशन स्किल को सुधारना यानी इंग्लिश का उपयोग करना। लेकिन ऐसा बिल्कुल नहीं है कम्युनिकेशन सुधारने के लिए किसी भाषा का होना जरूरी नहीं है बल्कि आप जिस भी भाषा में बात कर रहे हैं वह सही ढंग से की जाए। कम्युनिकेशन स्किल सुधारने के लिए कुछ इन बातों का ध्यान रखना चाहिए। जब भी आप किसी से बात करें तो ध्यान रखें की आवाज हमेशा सॉफ्ट रहे, तेज चिल्लाकर बोलना अच्छी पर्सनैलिटी को नहीं दर्शाता है। जब भी आप किसी से बात करें तो उसे देखें ना कि आसपास, आसमान में या किसी और तरफ देखें। इसके अलावा जब भी आप किसी से बात कर रहे हैं तो सामने वाले की बातों पर भी ध्यान दें और सुने।

बॉडी लैंग्वेज पर ध्यान दें

बॉडी लैंग्वेज यानी अपने हाथों और बॉडी मूवमेंट पर ध्यान दें। बॉडी लैंग्वेज सुधारने के लिए सबसे पहले अपने उठने और बैठने का तरीका सुधारें। हमेशा सीधे बैठे कंधों को झुकाकर ना बैठें, ऐसे बैठने से पर्सनैलिटी प्रोफेशनल लगती है। बैठने और उठने का तरीका सुधारने के बाद अपने चलने के तरीके पर ध्यान दें। चलते वक्त आराम से चलें, लहराते हुए और धक्का-मुक्की करते हुए ना चलें। अपने हाथों को हर समय बांधकर ना रखें, इसके साथ ही बार-बार जेब में हाथ ना डालें। जब भी आप किसी से बात करें तो हाथों को खुला रखें। हाथों की मदद से अपनी बातों को एक्सप्रेस करने की कोशिश करें।

Disclaimer- यहां दी गई सूचना सामान्य जानकारी के आधार पर बताई गई है। इनके सत्य और सटीक होने का दावा MP Breaking News नहीं करता।


About Author
भावना चौबे

भावना चौबे

इस रंगीन दुनिया में खबरों का अपना अलग ही रंग होता है। यह रंग इतना चमकदार होता है कि सभी की आंखें खोल देता है। यह कहना बिल्कुल गलत नहीं होगा कि कलम में बहुत ताकत होती है। इसी ताकत को बरकरार रखने के लिए मैं हर रोज पत्रकारिता के नए-नए पहलुओं को समझती और सीखती हूं। मैंने श्री वैष्णव इंस्टिट्यूट ऑफ़ जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन इंदौर से बीए स्नातक किया है। अपनी रुचि को आगे बढ़ाते हुए, मैं अब DAVV यूनिवर्सिटी में इसी विषय में स्नातकोत्तर कर रही हूं। पत्रकारिता का यह सफर अभी शुरू हुआ है, लेकिन मैं इसमें आगे बढ़ने के लिए उत्सुक हूं। मुझे कंटेंट राइटिंग, कॉपी राइटिंग और वॉइस ओवर का अच्छा ज्ञान है। मुझे मनोरंजन, जीवनशैली और धर्म जैसे विषयों पर लिखना अच्छा लगता है। मेरा मानना है कि पत्रकारिता समाज का दर्पण है। यह समाज को सच दिखाने और लोगों को जागरूक करने का एक महत्वपूर्ण माध्यम है। मैं अपनी लेखनी के माध्यम से समाज में सकारात्मक बदलाव लाने का प्रयास करूंगी।

Other Latest News