Parenting Tips: बिना डांट-डपट के कैसे करें बच्चे की परवरिश? जानें सफल जीवन का राज

Parenting Tips: बच्चे की परवरिश एक ज़िम्मेदारी है, और हर माता-पिता चाहते हैं कि उनका बच्चा ज़िंदगी में सफल हो। लेकिन सफलता केवल डांट-फटकार से ही नहीं मिलती।यहाँ कुछ ज़रूरी बातें हैं जिनका ध्यान रखकर आप बिना डाटें-डपटे भी अपने बच्चे की परवरिश कर सकते हैं।

parenting tips

Parenting Tips: बच्चे नाजुक पौधे होते हैं जो अपने आसपास के वातावरण से सीखते हुए बड़े होते हैं। माता-पिता, इन नाजुक पौधों के लिए सबसे पहले गुरु और रक्षक होते हैं। वे जो कुछ भी करते हैं, देखते हैं, सुनते हैं, और अनुभव करते हैं, वो सब उनके जीवन को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह सच है कि माता-पिता का हर काम बच्चे को सीधे तौर पर नहीं सिखाता, लेकिन उनके व्यवहार का बच्चे के मानसिक और भावनात्मक विकास पर गहरा प्रभाव पड़ता है। कई बार माता-पिता अनजाने में कुछ ऐसी गलतियां कर बैठते हैं जो बच्चे के लिए हानिकारक हो सकती हैं।

बिना डांट-डपट के कैसे करें बच्चे की परवरिश?

सेल्फ कॉन्फिडेंस बढ़ाएं

बच्चों के लिए आत्मविश्वास उतना ही जरूरी है जितनी हवा सांस लेने के लिए। यह उन्हें न सिर्फ चुनौतियों का सामना करने का हौसला देता है, बल्कि हर मुश्किल का हल निकालने का हुनर भी सीखना होता है। आत्मविश्वासी बच्चे प्रतियोगिताओं में भाग लेते हैं, नए कौशल सीखते हैं और अक्सर जिम्मेदारियां भी संभालते हैं। माता-पिता छोटे-छोटे कामों से शुरुआत कर सकते हैं और उनकी सराहना करके उनका आत्मविश्वास आसमान छू सकता है।

डिसिप्लिन में रहना सिखाएं

बच्चों के स्वस्थ विकास के लिए अनुशासन उतना ही जरूरी है, जितना पौधे के लिए पोषक तत्व। अनुशासन का मतलब सैनिक स्कूल जैसा वातावरण बनाना नहीं, बल्कि उनके दैनिक जीवन में एक सुव्यवस्थित रूपरेखा लाना है। नियमित समय पर उठना, पढ़ाई करना और खेलना न सिर्फ उन्हें समय का सदुपयोग करना सिखाता है, बल्कि आलस्य को भी दूर रखता है। इससे न तो उनकी पढ़ाई प्रभावित होती है और न ही शारीरिक विकास रुकता है। अनुशासन का यह पहलू उन्हें जीवन में संतुलन बनाना सीखता है।

रोल मॉडल बनें

माता-पिता बच्चे के पहले गुरु होते हैं। बच्चा उनसे देखकर सीखता है। इसलिए जरूरी है कि माता-पिता अच्छे रोल मॉडल बनें। सच बोलना, सम्मान करना, हार न मानना, यही वो चीजें हैं जो सिखाई नहीं जातीं, बल्कि देखकर सीखी जाती हैं। सफलता सिर्फ पैसा कमाना नहीं, बल्कि अच्छा इंसान बनना भी है।


About Author
भावना चौबे

भावना चौबे

इस रंगीन दुनिया में खबरों का अपना अलग ही रंग होता है। यह रंग इतना चमकदार होता है कि सभी की आंखें खोल देता है। यह कहना बिल्कुल गलत नहीं होगा कि कलम में बहुत ताकत होती है। इसी ताकत को बरकरार रखने के लिए मैं हर रोज पत्रकारिता के नए-नए पहलुओं को समझती और सीखती हूं। मैंने श्री वैष्णव इंस्टिट्यूट ऑफ़ जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन इंदौर से बीए स्नातक किया है। अपनी रुचि को आगे बढ़ाते हुए, मैं अब DAVV यूनिवर्सिटी में इसी विषय में स्नातकोत्तर कर रही हूं। पत्रकारिता का यह सफर अभी शुरू हुआ है, लेकिन मैं इसमें आगे बढ़ने के लिए उत्सुक हूं।मुझे कंटेंट राइटिंग, कॉपी राइटिंग और वॉइस ओवर का अच्छा ज्ञान है। मुझे मनोरंजन, जीवनशैली और धर्म जैसे विषयों पर लिखना अच्छा लगता है। मेरा मानना है कि पत्रकारिता समाज का दर्पण है। यह समाज को सच दिखाने और लोगों को जागरूक करने का एक महत्वपूर्ण माध्यम है। मैं अपनी लेखनी के माध्यम से समाज में सकारात्मक बदलाव लाने का प्रयास करूंगी।