फ्रूट जूस पीने से भी होते हैं नुकसान, कारण जानकर आप हो जाएंगे हैरान 

आइए जानते हैं फ्रूट जूस को पोषक तत्वों का एकमात्र स्रोत मानना कितना ज्यादा हानिकारक होता है।

जीवनशैली, डेस्क रिपोर्ट। फलों का जूस (Fruit juice) पोषक तत्वों से भरपूर होता है, लेकिन क्या आपको पता है इसका सेवन स्वास्थ्य के लिए हानिकारक भी माना जाता है। कई लोगों को यह भी लगता है फलों का सेवन करने का सबसे सही तरीका जूस होता है और फलों की जगह जूस का सेवन करना ज्यादा अच्छा समझते हैं। भूखे रहने के बाद भी एक गिलास जूस को अपने शरीर के लिए पर्याप्त समझना आपके लिए गलत साबित हो सकता है। तो आइए जानते हैं फ्रूट जूस को पोषक तत्वों का एकमात्र स्रोत मानना कितना ज्यादा हानिकारक होता है।

यह भी पढ़े…  दूध के होते हैं अलग-अलग प्रकार, जाने सभी के फायदे और नुकसान 

फ़ाइबर फलों में पाया जाने वाला एक जरूरी पोषक तत्व होता है, जो हमारे शरीर के लिए भी बहुत ज्यादा फायदेमंद माना जाता है और इसके सेवन से पाचन तंत्र भी अच्छा होता है, लेकिन जब इन फलों से उनका रस निकालकर बाकी सारे भाग को फेंकना बहुत बुरा होता है, इससे उनके फाइबर अलग हो जाते हैं। यदि आप 4 ग्लास जूस की जगह से दो संतरे का सेवन करते हैं तो यह आपके सेहत के लिए ज्यादा अच्छा होगा। जितना जरूरी शरीर के लिए फाइबर होता है, वैसे ही कैलोरी की मात्रा भी हमारे शरीर में एक अहम भूमिका निभाती है।

यह भी पढ़े … Indian Army Recruitment: युवाओं के लिए नौकरी का सुनहरा मौका, जाने पात्रता और आयु सीमा 

कैलोरी मानव शरीर को एनर्जी देती है। लेकिन जूस में ऐसे पोषक तत्व खत्म हो जाते हैं। जिसके बाद आपको कमजोरी महसूस होगा। यदि आप जूस के बाद खाना खाते हैं तो कोई दिक्कत नहीं है, लेकिन सिर्फ फलों को पोषक तत्वों का सोर्स मानना गलत हो सकता है, जिसका पता भी आपको नहीं चल पाता क्योंकि आप इस भ्रम में रहते हैं कि आप जूस के सहारे अपने शरीर में सभी पोषक तत्व को ले रहे हैं। स्टडी के मुताबिक जूस का सेवन अधिक करने से यह ना सिर्फ आपके पाचन को नुकसान पहुंचता है बल्कि यह आपके शुगर लेवल को बढ़ा सकता है। देखा जाए तो डायबीटीज मरीजों को जूस का सेवन नहीं करना चाहिए। यदि आप यह सोचते हैं जूस के सेवन से आपका वजन कम होता है तो आप गलत हैं। इसमें बुरे कैलोरी और शुगर की मात्रा बहुत ही अधिक मात्रा में पाई जाती है, जो आपके वजन को बढ़ा सकता है।

Disclaimer: इस खबर का उद्देश्य केवल शिक्षित करना है। कृपया कोई भी कदम उठाने से पहले विशेषज्ञों की सलाह जरूर लें।