इंदौर के एक शराब दुकानदार पर लगा 10 हजार का स्पॉट फाइन, जाने वजह

इंदौर नगर निगम (Indore Municipal Corporation) शहर में स्वच्छता सर्वे (Cleanliness survey) कर रहा है, जिसके चलते शहर में जरा भी कचरा या गंदगी करने वालों पर स्पॉट फाइन (Spot fine) लगाया जा रहा है।

इंदौर, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश का इंदौर (Indore) शहर स्वच्छता सर्वेक्षण में फिर से नंबर वन आने के लिए पुरजोर तैयारी कर रहा है। इंदौर (Indore) बीते चार बार से नंबर वन रह चुका है और फिर से नंबर वन बनने के लिए इसने कवायद शुरु कर दी है। इसका उदाहरण गुरुवार को देखने मिला जब इंदौर के भागीरथपुरा क्षेत्र की एक शराब दुकान (Liquor Shop) पर निगम द्वारा 10 हजार रुपए का स्पॉट फाइन (Spot Fine) लगाया गया। 10 हजार का स्पॉट फाइन लगाने की वजह यह थी कि शराब दुकान में आने वाले ग्राहक खुले में बाथरूम (Urine) कर रहे थे, जिसको लेकर निगम द्वारा फाइन (Fine) लगाया गया।

गंदगी दिखने पर लगाया जा रहा स्पॉट फाइन

दरअसल स्वच्छता सर्वेक्षण 2021 में फिर से नंबर वन बनने के लिए इंदौर नगर निगम (Indore Municipal Corporation) शहर में स्वच्छता सर्वे (Cleanliness survey) कर रहा है, जिसके चलते शहर में जरा भी कचरा या गंदगी करने वालों पर स्पॉट फाइन (Spot fine) लगाया जा रहा है। सर्वे के दौरान निगम सीएसआई को भागीरथपुरा क्षेत्र की एक शराब दुकान के पास काफी गंदगी दिखी, साथ ही उन्होंने देखा कि शराब दुकान पर आने वाले ग्राहक वहां पर पैशाब (Urine) कर रहे हैं। जिस पर निगम वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देशन पर मां कस्तूरी इंटरप्राइजेज पर 10 हजार रुपए का स्पॉट फाइन (Spot Fine) लगाया गया।

ये भी पढ़े- सुप्रीम कोर्ट ने कॉमेडियन मुनव्वर फारूकी को दी बड़ी राहत, अंतरिम जमानत पर होंगे रिहा

नगर निगम कमिश्नर प्रतिभा पाल ने दिए सख्त निर्देश

बता दें कि स्वच्छता सर्वेक्षण के मद्देनजर इंदौर नगर निगम कमिश्नर प्रतिभा पाल  द्वारा अधिकारियों को निर्देश दिया गया था कि वह शराब दुकानदारों को समझाइश दें कि वह शराब खरीदने आने वाले ग्राहकों को खुले में शौच करने से रोके। इसके साथ ही शराब संचालक उनके लिए यूरिनल की सुविधा मुहैया कराएं। अगर समझाइश के बाद भी शराब दुकान संचालक आदेशों को नहीं मानते हैं तो उन पर 50 हजार तक का स्पॉट फाइन लगाया जाए। बता दें कि शहर में गंदगी फैलाने वालों पर हो रही कार्रवाई और निगरानी करने की जिम्मेदारी निगम द्वारा जोनल अधिकारी, स्वास्थ्य अधिकारी और मुख्य स्वच्छता निरीक्षकों को दी गई है।