इंदौर।

साल के आखरी दिन महू के ख्यात उद्योगपति और पाथ इंडिया के डायरेक्टर पुनीत अग्रवाल और उनके परिवार के साथ हुए हादसे को कोई भूल नही पाया है।इस दर्दनाक हादसे ने हर किसी को झकझोर के रख दिया है। हादसे के बाद पुलिस व फोरेंसिक विशेषज्ञों की टीम घटनास्थल पर पहुंची तो पाया कि लिफ्ट 60 फीट ऊंचाई पर 90 डिग्री घूम गई थी। इसी वजह से उसमें सवार पुनीत अग्रवाल, उनके पोते, बेटी-दामाद व दो अन्य रिश्तेदारों समेत छह लोग चंद सेकंड में फर्श पर आ गिरे और उनकी मृत्यु हो गई। 

इतना ही नही जांच में ये भी सामने आया है कि इसे मटेरियल ढोने के लिए कुछ महीने पहले ही लगाया था। लिफ्ट लोहे के दो चैनलों पर हाइड्रोलिक प्रेशर से ऊपर-नीचे चलती थी। इसका एक रिमोर्ट सिस्टम भी था, जो इलेक्ट्रिक पैनल से जुड़ा था। लिफ्ट टावर के ऊपरी हिस्से पर ही चैनल की वेल्डिंग टूटने से 90 डिग्री पर पलट गई। उसके आसपास डेढ़ से दो फीट की छोटी रैलिंग थी, यदि ये रैलिंग बड़ी होती तो सभी लोग अटक जाते। तब इनकी जान बच सकती थी। 

 जांच में यह बात भी सामने आई है कि लिफ्ट में हाइड्रोलिक कम्प्रेशर 10 से 15 हॉर्स पॉवर की मोटर से संचालित होता था। संभवत: कम्प्रेशर का प्रेशर अप एंड डाउन होने से यह अटकी और रैलिंग से जुड़ी प्लेट खुल गई।प्रारंभिक जांच और पूछताछ में यह बात सामने आई है कि लिफ्ट की क्षमता सात लोगों का वजन सहने लायक नहीं थी।

ऐसा हुआ था हादसा 

दरअसल, मंगलवार को  महू के ख्यात उद्योगपति और पाथ इंडिया के डायरेक्टर पुनीत अग्रवाल अपनी पत्नी, बेटी, दामाद, पोते व मुंबई में रहने वाले तीन रिश्तेदार के साथ पातालपानी स्थित फार्म हाउस गए थे।जब वे यहां बने टॉवर में लगी कैप्सूल लिफ्ट से नीचे उतर रहे थे, तभी लिफ्ट 70 फीट ऊंचाई पर पहुंची और अचानक पलट गई और सभी नीचे आ गिरे ।   वहां मौजूद कर्मचारियों ने घटना के बाद पुलिस और एंबुलेंस को सूचना दी। पहले उन्हें महू के मेवाड़ा अस्पताल, फिर चोइथराम अस्पताल में रैफर किया गया। जहां रात को 6 लोगो की मौत की पुष्टि की गई।मंगलवार शाम 5.30 बजे हुए इस दर्दनाक हादसे में 53 वर्षीय उद्योगपति पुनीत, उनकी 27 वर्षीय बेटी पलक, 28 वर्षीय दामाद पलकेश अग्रवाल, 3 वर्षीय पोता नव, मुंबई में रहने वाले पलकेश के 40 वर्षीय जीजा गौरव और 11 वर्षीय बेटे आर्यवीर की मौत हो गई। गौरव की पत्नी निधि गंभीर हैं।