मंत्री ने लगाये करप्शन के आरोप, IAS ने किया मीटिंग का बॉयकाट

सीईओ हर्षल पांचोली मीटिंग में मंत्री मीना सिंह के आरोपों से भड़क गए। उन्होंने मंत्री को आरोप सिद्ध करने का चैलेंज दिया और बैठक छोड़ कर चले गए। अधिकारी के इस तरह बैठक छोड़ कर जाने के बाद पूरी बैठक में सन्नाटा छा गया।

 अनूपपुर, डेस्क रिपोर्ट। गुरुवार को अनूपपुर जिले के इतिहास में पहली बार हुआ कि प्रभारी मंत्री के आरोप के बाद एक वरिष्ठ अधिकारी बैठक छोड़कर चले गए। जाने से पहले उन्होंने मंत्री को चैलेंज दिया कि वो आरोप सिद्ध करके दिखाएं। विकासकार्यो की समीक्षा बैठक चल रही थी। प्रदेश के दो दिग्गज केबिनेट मंत्री बैठक में मौजूद थे। साथ ही कलेक्टर, जिला पंचायत सीईओ, पुलिस अधीक्षक और अन्य विभागीय अधिकारी उपस्थित रहे। इसी दौरान खनिज मद से होने वाले विकास कार्यो की लेटलतीफी पर प्रभारी मीना सिंह ने ने सवाल उठाये।

यह भी पढ़ें… CM Morning Meeting: सीएम ने थपथपाई इस कलेक्टर की पीठ, बोले- एक्शन और प्रोत्साहन साथ साथ हो

सूत्र बता रहे है कि सीईओ जिला पंचायत हर्षल पांचोली मंत्री के सवाल का जवाब दे पाते की उससे पहले ही मंत्री ने उन पर गंभीर आरोप लगा दी। मंत्री का कहना था कि विकास कार्यो की लेटलतीफी की वजह पैसों का लेनदेन है। बिना पैसे लिए काम नहीं हो रहे हैं। सरपंच इसकी शिकायत कर रहे हैं। इस आरोप के बाद सीईओ साहब भड़क गए। उन्होंने मंत्री को आरोप सिद्ध करने का चैलेंज देते हुए बैठक छोड़ कर चले गए। अधिकारी के इस तरह बैठक छोड़ कर जाने के बाद पूरी बैठक में सन्नाटा छा गया। अधिकारी एक दूसरे के मुंह देखते नज़र आये।