यहां मतदान का बहिष्कार, दीवारों पर लिखा ‘रोड नहीं तो वोट नहीं’

villagers-boycott-election-in-mungwali

मुंगावली। अलीम डायर।

मुंगावली विधानसभा 34 के ग्राम रिछा  में आजादी के 71 साल बाद भी यहां के ग्रामवासी अपने जीवन यापन की मूलभूत सुविधाओं को तरस रहे हैं और उनसे वंचित है। यहां के ग्राम वासियों का कहना है कि हमारे यहां ना तो पीने योग्य साफ पानी है ना ही किसी शासकीय सुविधा का लाभ मिलता है ना ही किसी को राशन मिलता है और नाही किसी को वृद्धावस्था पेंशन और मुख्य कारण जो है वह है नगर से ग्राम को जोड़ने वाली सड़क नहीं है।

जो की आजादी के 71 साल बाद भी यह गांव काफी पिछड़ा हुआ है और यहां के लोगों को मुख्य मार्ग तक आने में काफी दिक्कतों परेशानियों का सामना करना पड़ता है गांव की किसी भी प्रसूता को नगर तक लाने में लोगों को चारपाई का सहारा लेना पड़ता है ऐसे में कई प्रसूता ओं के बच्चे के समय से उपचार ना मिलने पर मर गए हैं गाड़ी घोड़े तो छोड़ो यहां पर लोगों का पैदल चलना भी दूभर हो रहा है। यह समस्या बारिश के दिनों में और भी विराट रूप धारण कर लेती है। गांव के चारों ओर गले गले तक पानी भर जाता है और ग्रामीणों का नगर से संपर्क टूट जाता है।ग्राम वासियों का कहना है कि इस संबंध में उन्होंने कई बार अधिकारियों से शिकायत की है आवेदन भी दिए हैं कलेक्टर से भी शिकायत की है पर कोई सुनवाई नहीं होती।

इन सभी कारणों से ग्राम रिछा के ग्राम वासियों ने यह फैसला लिया है कि वह आगामी विधानसभा चुनाव में मतदान नहीं करेंगे और चुनाव का बहिष्कार करेंगे। वहीं दूसरी ओर जब इस संबंध में मुंगावली तहसील के वरिष्ठ अधिकारी एसडीएम प्रजापति जी से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि यह मुझे आपसे ही मालूम चल रहा है  इस संबंध में मुझे कोई जानकारी नहीं है। एक ओर जहां शासन-प्रशासन मतदान शत-प्रतिशत कर कराने को लेकर काफी जद्दोजहद में लगा है ऐसे में ग्रामीण वासियों का चुनाव बहिष्कार करना शासन प्रशासन की नीतियों पर सवालिया निशान लगा रहा है

यहां मतदान का बहिष्कार, दीवारों पर लिखा 'रोड नहीं तो वोट नहीं'