Balaghat News : रसोई गैस की कीमत बढ़ने के विरोध में महिला कांग्रेस ने किया प्रदर्शन

Amit Sengar
Published on -

Balaghat Mahila Congress News : रसोई गैस में 50 रूपये की बढ़ोत्तरी से बिगड़े घर के बजट को लेकर महिला कांग्रेस ने चूल्हा जलाकर विरोध प्रदर्शन किया। गौरतलब है कि हाल ही में घरेलू गैस सिलेंडर 50 रूपये महंगा हो गया है। जिससे महिलाओं का घरेलू बजट गड़बड़ा गया है, वहीं बीते कुछ समय से गैस सिलेंडर में निरंतर वृद्धि होने से वैसे ही महिलायें त्रस्त है।

महिला कांग्रेस ने सड़क पर चूल्हा जलाकर दर्ज किया विरोध

रसोई गैस के बढ़े दाम को महिला कांग्रेस के धरना प्रदर्शन को संबोधित करते हुए महिला कांग्रेस जिलाध्यक्ष रचना लिल्हारे ने कहा कि सरकार ने होली पर रसोई गैस के दाम बढ़ाकर महिलाओं को तोहफा दिया है। एक तरफ सरकार चुनाव के महज कुछ माह पूर्व लाडली बहना योजना के माध्यम से महिलाओ के खाते में एक हजार रूपये की राशि देने की बात कर रही है, तो वहीं दूसरी ओर वह रसोई गैस के दाम बढ़ाकर उसी पैसे को वापस ले रही है। वाकई में यदि सरकार महिला हितैषी है तो वह घर में महंगाई की मार झेल रही महिलाओं के लिए महंगाई कम करे ना कि महिलाओं के वोट के उन्हें लाडली बहना का लोभ दिखाये। उन्होंने कहा कि सरकार एक हाथ से पैसा देकर दूसरे हाथ से पैसा वापस ले रही है। रसोई गैस के बढ़े दामों को लेकर हमने आज विरोध प्रदर्शन किया है, यदि सरकार घरेलू गैस के बढ़ाये गये दामों को वापस नहीं लेती है तो महिला कांग्रेस भविष्य में और उग्र आंदोलन करेगी।

जब विकास नहीं तो कैसी यात्रा

शहर महामंत्री शेफाली बुधरानी ने कहा कि लाडली लक्ष्मी योजना के माध्यम से सरकार महिलाओं को बेवकूफ बनाने का काम कर रही है। आज भी शहरी क्षेत्र के स्लम एरिया में महिलायें खुले शौच के लिए जा रही है लेकिन सरकार का इस ओर कोई ध्यान नहीं है। यही नहीं बल्कि रसोई गैस के दाम बढ़ाकर सरकार ने महिलाओं के घरेलू बजट को बिगाड़ दिया है, जिससे महिलाओं में खासी नाराजगी है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने हमेशा महिलाओं का सम्मान किया है और सरकार बनती है तो कांग्रेस महिलाओं को प्रति माह 15 सौ रूपये भी देगी। उन्होंने विकास यात्रा पर भी सवाल खड़े करते हुए कहा कि जब विकास नहीं तो कैसी यात्रा।

Balaghat News : रसोई गैस की कीमत बढ़ने के विरोध में महिला कांग्रेस ने किया प्रदर्शन

प्रवक्ता विद्या परिहार ने कहा कि प्रदेश और जिले का युवा रोजगार के आभाव में भटक रहा है। बालाघाट में कॉपर, माईंस और बांस का बड़ा उत्पादन होने के बावजूद यहां इन संपदाओं से कारखाने नहीं लग सकें। आज जब चुनाव सिर पर है, जब सरकार को महिलाओ की याद आ रही है, ताकि वह चुनाव में महिलाओं का वोट हासिल कर सके। चार सालों तक सरकार को महिलाओं का ध्यान नहीं आया। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनते ही ना केवल महिलाओं को उनका हक और अधिकार दिया जायेगा बल्कि बेरोजगारों को रोजगार और बेरोजगारी भत्ता भी प्रदान किया जायेगा। इस दौरान बड़ी संख्या में महिलायें उपस्थित थी।

बालाघाट से सुनील कोरे की रिपोर्ट


About Author
Amit Sengar

Amit Sengar

मुझे अपने आप पर गर्व है कि में एक पत्रकार हूँ। क्योंकि पत्रकार होना अपने आप में कलाकार, चिंतक, लेखक या जन-हित में काम करने वाले वकील जैसा होता है। पत्रकार कोई कारोबारी, व्यापारी या राजनेता नहीं होता है वह व्यापक जनता की भलाई के सरोकारों से संचालित होता है। वहीं हेनरी ल्यूस ने कहा है कि “मैं जर्नलिस्ट बना ताकि दुनिया के दिल के अधिक करीब रहूं।”

Other Latest News