लालबर्रा तहसीलदार के रीडर के घर EOW का छापा

आर्थिक अपराध अन्वेषण ब्यूरो की टीम ने गर्रा के बॉटनीकल कॉलोनी निवासी तहसीलदार लालबर्रा के रीडर पैमेन्द्र हरिनखेड़े को 35 हजार रूपये की रिश्वत लेते हुए रंगेहाथ गिरफ्तार किया है। शिकायतकर्ता बालाघाट विवेकानंद कॉलोनी निवासी अरुण जेठवा ने शिकायत की थी कि टाईल्स फैक्ट्री के खसरे मे नाम चढ़ाने के लिए रीडर पैमेंद्र हरिनखेड़े द्वारा पहले पचास हजार रूपये की मांग की जा रही है।

बालाघाट, सुनील कोरे। आर्थिक अपराध अन्वेषण ब्यूरो की टीम ने गर्रा के बॉटनीकल कॉलोनी निवासी तहसीलदार लालबर्रा के रीडर पैमेन्द्र हरिनखेड़े को 35 हजार रूपये की रिश्वत लेते हुए रंगेहाथ गिरफ्तार किया है। शिकायतकर्ता बालाघाट विवेकानंद कॉलोनी निवासी अरुण जेठवा ने शिकायत की थी कि टाईल्स फैक्ट्री के खसरे मे नाम चढ़ाने के लिए रीडर पैमेंद्र हरिनखेड़े द्वारा पहले पचास हजार रूपये की मांग की जा रही है।

Read More : New Bike Launch : Bajaj Pulsar बहुत ही जल्द लॉन्च करने जा रहा अपनी न्यू बाइक

जिसके बाद चालीस हजार में समझौता किया गया है। जिसमे गत 15 जून को पांच हजार रूपय की राशि दी गई थी। जबकि आज 19 जून को पैंतीस हजार रुपए की रिश्वत वह ले रहा था। जिसे EOW की टीम ने गिरफ्तार कर लिया है। गौरतलब हो कि अरूण जेठवा की गर्रा स्थित टाईल्स फैक्ट्री की जमीन के खसरे से उसके भागीदारों, जो अब अलग हो चुके है, के नाम हटाने के लिए अधिकारी द्वारा आवेदक से पचास हजार रुपए की रिश्वत मांगी थी। जो डिस्कशन के बाद में चालीस हजार रुपए देना तय हुआ था।

Read More : Mandi Bhav: 20 जून 2022 के Today’s Mandi Bhav के लिए पढ़े सबसे विश्वसनीय खबर

इसमें से पाँच हजार रुपये, शिकायतकर्ता गत 15 जून को दे चुके थे। रिश्वत की शेष राशि पैंतीस हजार रुपए लेते हुए आरोपी को आज 19 जून को रंगे हाथ ईओडब्ल्यूु जबलपुर की टीम द्वारा उसके निवास लालबर्रा से पकड़ा है। पूरी कार्यवाही EOW जबलपुर की टीम द्वारा की गई है। जिसमें उप पुलिस अधीक्षक मनजीत सिंह, विवेचक निरीक्षक श्रीमती प्रेरणा पाण्डेय, निरीक्षक सुश्री शशिकला मस्कूले, निरीक्षक मोमेंद्र मर्सकोले, उप निरीक्षक श्रीमती कीर्ति शुक्ला का सराहनीय योगदान रहा।

Read More : इस बैंक के खाता धारक हो जाएं सावधान क्योंकि RBI ने कर दिया लाइसेंस सस्पेंड, ऐसी स्थिति में क्या किया जाए

फिलहाल अधिकारी पुलिस के हिरासत में है। वहीँ उससे और अधिक पूछताछ की जा रही है। पूछताछ में अन्य रूप से लिए गए रिश्वत के बारे में भी पूछा जा रहा है। इसके अलावा आय से अधिक की संपत्ति की जाँच भी की जाएगी।