बाजार बंद कराने पहुंची पुलिस के साथ लोगों ने की मारपीट, घटना का वीडियो हुआ वायरल

बालाघाट में कोरोना कर्फ्यू का पालन कराने गई पुलिस के साथ लोगों ने जमकर मारपीट कर डाली।

बालाघाट, सुनील कोरे। बालाघाट (Balaghat) जिले में कोरोना संक्रमण (Corona infection) की रोकथाम के लिए आगामी 31 मई तक कोरोना कर्फ्यू (Corona curfew) लगाया गया है। इसके तहत जहां किराना सामग्री के लिए घर पहुंच सेवा और एक निर्धारित अवधि तक सब्जी, फल, दूध विक्रय की छूट दी गई है। लेकिन देखने में आ रहा है कि जैसे-जैसे जिले में संक्रमण कम होता जा रहा है, लोग कोरोना कर्फ्यू की सख्ती को भुलकर व्यवसाय करने में जुट गये है। कोरोना कर्फ्यू को सख्ती से पालन कराने में जुटे प्रशासन और पुलिस की अब वह सख्ती नहीं दिखा रही है। जिसके चलते जहां व्यवसायिक प्रतिष्ठान खुलने लगे है तो वहीं सड़को पर आवाजाही भी बढ़ गई है। आलम यह है कि अब बाजार भी लगने के समाचार आ रहे है।

यह भी पढ़ें…जिनका कोई नहीं उनका कर रहे अंतिम संस्कार, ‘अरविंद’ दे रहे मानवता की मिसाल

कुछ इसी तरह की खबर रूपझर पुलिस को मिली थी। कि शुक्रवार के चलते उकवा बाजार में भीड़ दिखाई दे रही है, जिसके चलते नक्सल प्रभावित क्षेत्र के दौरे पर निकले रूपझर थाना प्रभारी राजु बघेल ने जब लोगों की भीड़ दिखाई दी तो उन्होंने कोरोना कर्फ्यू के चलते सायरन बजाते और अनाउंस करते हुए पुलिस बल के साथ हटाने का प्रयास किया गया। इस दौरान एक व्यक्ति जयशंकर यादव से उनकी झड़प हो गई। बताया जाता है कि उसके द्वारा थाना प्रभारी पर हाथ उठाया गया। जिसके बाद पुलिस ने अनावश्यक लग रही भीड़ को हटाने में जुट गई। इस दौरान भीड़ को कम करने पुलिस ने वाहन चालकों पर सख्ती भी दिखाई। हालांकि पुलिस की मंशा केवल कोरोना कर्फ्यू का पालन कराना था, लेकिन इस दौरान हालत ऐसे बने की, कि पुलिस ने बाजार में लगी सब्जी दुकानों की सब्जियों को जब्त करने के साथ ही भीड़ को हटाने के लिए सख्ती दिखाई। जबकि दूसरी ओर पुलिस पर आरोप लग रहे है कि पुलिस की ज्यादती के कारण लोग भड़क गये और पुलिस के साथ हाथापाई की नौबत आ गई।

दुकानों के साथ लग गया था बाजार
बताया जाता है कि उकवा में शुक्रवार हॉट के चलते दुकानें खुल गई थी और बाजार भी लग गया था। चूंकि कोरोना कर्फ्यू के चलते पुलिस ने बस स्टैंड में लॉकडाउन (Lockdown) व्यवस्था का पालन करने पाईंट लगा रखा है, लेकिन दुकाने न खोलने एवं बाजार नहीं लगाने की पुलिसकर्मियों की समझाइश कोई नहीं सुन रहा था। इस दौरान पुलिसकर्मियो से रूपझर थाना प्रभारी राजु बघेल को खबर मिली कि बस स्टैंड में दुकानें खुल गई और बाजार चौक पर सब्जियों की दुकानें लगी है, जिससे भीड़ बढ़ गई है। जिसके बाद थाना प्रभारी राजु बघेल उकवा पहुंचे, जहां उन्होंने पुलिस सायरन और अनाउंस के माध्यम से दुकानों को बंद करने और नियमानुसार सब्जियों को घूमकर विक्रय करने के निर्देश दिये। इसी बीच युवक जयशंकर प्रसाद लोगों को एकत्रित कर पुलिस बल की ओर बढ़ने लगा और लोग बाजार चौक में एकत्रित होने लगे। युवक जयशंकर प्रसाद पुलिस को गालियां देते हुए आगे बढ़ने लगा, जिसके अन्य दो चार लोग थे और कई तमाशबीन थे। इस दौरान ही गुंडा प्रवृत्ति के जयशंकर प्रसाद ने थाना प्रभारी राजु बघेल पर हाथ उठाकर मारने की कोशिश की लेकिन इसी बीच थाना प्रभारी ने उसका हाथ पकड़ लिया। जिसके बाद पुलिस ने लोगों को हटाने सख्ती दिखाई तो भागते समय एक लड़के को चोट आ गई। जिसके बाद पुलिस ने बाजार में लगी सब्जी दुकानों की सब्जी जब्त कर उसे अपने साथ ले आये।

पुलिस पर लगे आरोप
हालांकि इसके विपरित पुलिस पर आरोप है कि पुलिस ने बाजार बंद कराने के नाम पर ज्यादती की और इस दौरान एक नाबालिग को पीट दिया। जिससे लोग भड़क उठे और वह पुलिस को मारने पर उतारू हो गये। पुलिस की कार्रवाई और मारपीट का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। हालांकि घटना के बाद थाना प्रभारी के साथ मारपीट का प्रयास करने वाला गुंडा प्रवृत्ति का युवक जयशंकर प्रसाद फरार है। पुलिस ने समाचार लिखे जाने तक कोई मामला दर्ज नहीं किया था। बताया जाता है कि इस मामले की जानकारी थाना प्रभारी राजु बघेल द्वारा वरिष्ठ अधिकारियों को दे दी गई है। जिनके निर्देश के बाद ही कोई अग्रिम कार्रवाई की जायेगी।

इधर इस पूरे मामले में थाना प्रभारी राजु बघेल का कहना है कि वो कहीं और जा रहे थे। इस दौरान उकवा में शुक्रवार हॉट होने से दुकानों और बाजार के खुलने के चलते लोगों की भीड़ ज्यादा होने की सूचना मिली थी। जिसके बाद जब राजु वहां पहुंचे तो दुकानदारों और सब्जी विक्रेता को सायरन और अलाउंस के माध्यम से कोरोना कर्फ्यू की गाइडलाइन का पालन करने की समझाइश दी और भीड़ को हटाने का प्रयासा किया। इस दौरान भागते हुए एक लड़का गिर गया। तभी गुंडा प्रवृत्ति के युवक जयशंकर यादव ने कुछ लोगों को अपने साथ लाकर पुलिस को गालियां देने लगा और थाना प्रभारी को भी मारने के लिए हाथ उठाया। किसी तरह की कोई मारपीट पुलिस द्वारा नहीं की गई है। भीड़ ज्यादा थी, जिसे हटाने का प्रयास पुलिस द्वारा किया गया था। यदि भीड़ लगने का अंदाजा होता तो और पुलिस बल लगाया जाता। घटना के बाद से युवक जयशंकर प्रसाद फरार है, वरिष्ठ अधिकारियों को मामले की जानकारी दे दी गई है।

यह भी पढ़ें…नीमच : नाव पलटने से जलाशय में डूबा व्यक्ति, शव को निकालने के लिए रेस्क्यू ऑपरेशन जारी