बैतूल कलेक्टर की दो टूक-निकम्मे कर्मचारी होंगे दंडित, पटवारी भी होंगे बर्खास्त

बैतूल कलेक्टर

बैतूल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के बैतूल कलेक्टर (Betul Collector Amanbir Singh Bains) ने सरकारी कामों में लापरवाही बरतने पर नाराजगी जाहिर की है और दो टूक कहा है कि निकम्मे कर्मचारियों को दण्डित किया जाना जरूरी है।कार्य नहीं करने वाले पटवारी  सेवा से बर्खास्त होंगे। वही अधिकारी-कर्मचारियों को जल्द जल्द कार्यों को पूरा करने के निर्देश दिए।

यह भी पढ़े.. हल्ला बोल : आज भोपाल में जुटेंगे हजारों स्थाई कर्मी, नियमितिकरण की मांग तेज

दरअसल, बैतूल कलेक्टर अमनबीर सिंह बैंस ने राजस्व अधिकारियों की बैठक में ग्राम संवाद कार्यक्रम के दौरान ग्रामीण क्षेत्रों में बड़ी संख्या में लंबित मिले नामांतरण, बंटवारा एवं सीमांकन के प्रकरणों पर नाराजगी जाहिर की है और कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों के भ्रमण के दौरान राजस्व विभाग से संबंधित इन मामलों की बड़ी संख्या में शिकायतें मिलना ठीक नहीं है। ग्रामीण क्षेत्रों में किसानों (Farmers) को ऋण पुस्तिकाएं वितरित नहीं होने की स्थिति मिलना भी दु:खद है। बैठक में उन्होंने निर्देश दिए कि राजस्व अधिकारी रोस्टर बनाकर गांवों में पहुंचें और नामांतरण, बंटवारा, सीमांकन से संबंधित प्रकरण समय-सीमा में निराकृत करें। जो प्रकरण उनके पास दर्ज नहीं है, उनको भी इस दौरान दर्ज किया जाए एवं निराकरण की कार्रवाई की जाए।

यह भी पढ़े.. MP News : पटवारी समेत 4 निलंबित, 2 को कारण बताओ नोटिस, 5 का वेतन काटा

बैतूल कलेक्टर ने कहा कि ग्राम संवाद एवं अन्य माध्यमों से उन्हें पटवारियों के ग्रामों में नहीं पहुंचने की शिकायतें भी प्राप्त हो रही है, यह स्थिति कतई बर्दाश्त नहीं की जाएगी। पटवारियों (Patwari) को निर्देशित किया जाता है कि वे अपने मुख्यालयों पर रहें। पटवारियों को ताकीद किया जाता है कि वे अपने कार्यक्षेत्र के गांवों का सतत भ्रमण करें एवं ग्रामीणों की राजस्व संबंधी समस्याओं का समाधान करें। उन्होंने कहा कि गिरदावरी कार्य का भी मौके पर सत्यापन किया जाए। जो पटवारी कार्य नहीं कर रहे हैं अथवा आदतन लापरवाह हैं, उनके सेवा से बर्खास्तगी (dismissed) के प्रकरण प्रस्तुत किए जाएं।  काम करने वालों का उत्साहवर्धन किया जाएगा, परन्तु निकम्मे कर्मचारियों को दण्ड मिलना भी जरूरी है।