Mother’s Day: दो मासूमों को अपनो ने ठुकराया तो मां बन किन्नर ने अपनाया, पढ़े बैतूल की गुरु शोभा की कहानी

दो बेटियों को अपनो ने ठुकराया तो किन्नर ने मां बनके उन्हें अपनाया लिया और अब बेटियों को काबिल बनाने के पूरे जतन कर रही है।

बैतूल, वाजिद खान। मदर्स डे (Mother’s Day) पर आइये हम आपको मिलवाते है मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के बैतूल (Betul) में खंजनपुर इलाके में रहने वाली किन्नर गुरु शोभा से जिन्होंने अपनों के द्वारा छोड़ी गई दो मासूमों को अपनाया और बेटी बनाया, जिसमें एक साढ़े आठ साल की रानी और एक डेढ़ साल की पिंकी जिन्हें बड़े लाड़ प्यार से शोभा गुरु माँ बनकर पाल रही है। आपको बता दें कि दोनों मासूमों का कोई सहारा नहीं है। किन्नर गुरु शोभा को जब इन बच्चों के बेसहारा होने की जानकारी मिली तो उन्होंने इन बच्चों को अपना लिया। रानी को वे बीते चार साल से पढ़ा लिखा रही है। जिसके लिए उन्होंने उसका दाखिला शहर के एक बड़े स्कूल में करवाया हुआ है। वह पढ़ कर काबिल बन जाये इसके लिए वे पूरा जतन करती है। ऐसे ही डेढ़ साल की पिंकी को भी देखभाल वे एक माँ की तरह कर रही है।

यह भी पढ़ें…गुना डकैती : डेढ़ साल की बेटी के सर पर ताना कट्टा और उड़ा ले गए 40 तोला सोना सहित 2 लाख

जाहिर है जब इस दौर में अपने साथ छोड़ देते है ऐसे में परायो को गले लगाने की मिसाल बहुत कम मिलती है। किन्नर शोभा गुरु के इस जज्बे ने उन लोगों को एक सबक दिया है जिनके अपने अपनों से दूर वृद्धाश्रम या अनाथालयों में जिंदगी गुजारते है। ऐसे में आज हम आपको एक ऐसी मां से मिलवाएंगे जिसने दो मासूमों को जन्म तो नहीं दिया लेकिन वह उन्हें खूब जतन से पाल रही है। खुदगर्जी भरी इस दुनिया मे जब पारिवारिक रिश्ते बोझ लगने लगते है ऐसे में परायो को अपना बनाने की यह मिसाल पेश की है किन्नर शोभा गुरु ने जो दो मासूमों का सहारा बन गयी है।

बेसहारा बच्चो को सहारा देने का उनका जज्बा इतना मजबूत है कि वे हाल ही में अनाथ हुए दो बच्चों को पालने का इरादा कर रही है। कोरोना त्रासदी का शिकार हुए एक दंपत्ति के बच्चों को अपनाने के लिए वे तैयार है लेकिन कोविड संक्रमण के चलते उन्होंने अपने दो मासूमों की वजह से फिलहाल अस्पताल जाने का इरादा रोक दिया है। शोभा गुरु का कहना है कि जहां भी बेसहारा बच्चे मिल जाये वे उनका सहारा बनने को तैयार है।  शोभा गुरु अपने दो मासूमों के साथ बेहद खुश है। उनकी माने तो इन बच्चों के रूप में उन्हें ऐसे दो खिलौने मिल गए है। जो उनके जीवन मे खुशियां ले आये है। वे मानती है कि उनके न तो माँ है और न बाप और न ही कोई नाते रिश्तेदार ऐसे में वे इन बच्चों को अपना सब कुछ मानकर अपना सब कुछ इन पर न्यौछावर कर देंगी।

यह भी पढ़ें…मदर्स डे पर बॉलीवुड सेलेब्स ने यूं शेयर किये अपने जज्बात