रेत माफियाओं द्वारा एक युवक की हत्या किए जाने के मामले में चौधरी राकेश सिंह चतुर्वेदी ने कही ये बात

भिंड के अमायन थाना क्षेत्र में रेत उत्खनन कंपनी (Sand quarrying company) के कर्मचारियों द्वारा एक रॉकी गुर्जर नामक युवक की गोली मारकर हत्या करने का मामला सामने आया था। जिसपर अब पूर्व मंत्री चौधरी राकेश सिंह चतुर्वेदी ( Chaudhary Rakesh Singh Chaturvedi) ने जन संघर्ष मंच के माध्यम से मृतक युवक को न्याय दिलाये जाने के लिए संघर्ष करने की बात कही है।

भिंड, गणेश भारद्वाज। मध्यप्रदेश के भिंड जिले के अमायन थाना क्षेत्र में 4 मार्च को देर रात रेत उत्खनन कंपनी (Sand quarrying company) के कर्मचारियों द्वारा एक रॉकी गुर्जर नामक युवक की गोली मारकर हत्या करने का मामला सामने आया था। जिसपर अब पूर्व मंत्री चौधरी राकेश सिंह चतुर्वेदी ( Chaudhary Rakesh Singh Chaturvedi) ने जन संघर्ष मंच के माध्यम से मृतक युवक को न्याय दिलाये जाने के लिए संघर्ष करने की बात कही है।

यह भी पढ़ें…Women Trafficking: मध्यप्रदेश से 2 महिला की तस्करी कर ले गए राजस्थान, पुलिस ने किया गिरोह का पर्दाफाश

पूर्व मंत्री चौधरी राकेश सिंह चतुर्वेदी ने जन संघर्ष मंच (Jan Sangharsh Manch ) के माध्यम से जिले के प्रबुद्ध जीवियों को एकत्रित कर रेत उत्खनन में लगी कंपनी के खिलाफ आवाज बुलंद करने और मृतक को न्याय दिलाने की बात कही है। उन्होंने आवाज उठाते हुए कंपनी के डायरेक्टर्स के खिलाफ भी धारा 120B के तहत मामला दर्ज किए जाने की मांग की है। उन्होंने कहा कि जो कंपनी उत्खनन में लगी है उसे अवैध उत्खनन एवं परिवहन रोकने का अधिकार है। अगर कोई अनियमित तरीके से रेत का अवैध उत्खनन या परिवहन करते हुए मिलता है तो उसके खिलाफ मामला दर्ज किया जाना चाहिए। लेकिन किसी की हत्या करना जघन्य अपराध है। और किसी भी कंपनी के डायरेक्टर्स की सहमति के बिना कोई कर्मचारी किसी पर बंदूक नहीं चला सकता। ऐसे में कर्मचारियों द्वारा की गई हत्या के लिए कंपनी के मैनेजिंग डायरेक्टर (Managing director) सज्जाकिशोर बाबू सहित अन्य डायरेक्टर्स के खिलाफ भी मामला दर्ज किया जाना चाहिए।

उन्होंने आगे कहा कि जिस प्रकार से यूनियन कार्बाइड (Union Carbide) में हुए गैस कांड के बाद उसके मालिक एंडरसन को दोषी बनाया गया था। उसी प्रकार से पॉवरमेक कंपनी के मालिकों को भी रॉकी गुर्जर की हत्या के मामले में आरोपी बनाकर मृतक को न्याय दिया जाना चाहिए। राकेश चौधरी ने कहा कि यदि पुलिस किसी के दबाव में आरोपियों को बचाने की कोशिश करती है तो जन संघर्ष मंच 17 मार्च को मेहगांव एसडीओपी कार्यालय (Mehgaon SDOP Office) का घेराव करेगी और अगर फिर भी सुनवाई नहीं होती है, तो आगामी रूपरेखा तैयार की जाएगी और हाईकोर्ट में भी जनहित याचिका लगाई जाएगी।

इस मौके पर जनसंघर्ष मंच से जुड़े पूर्व जिला शिक्षा अधिकारी गोपाल सिंह भदौरिया, एड. जुगल किशोर दीक्षित, पत्रकार रामानंद सोनी, पूर्व व्याख्याता व शिक्षाविद आरएन तिवारी व पूर्व जिला स्वास्थ्य एवं चिकित्सा अधिकारी डॉ राकेश शर्मा मंचासीन रहे। कार्यक्रम को संजय दैपुरिया, पत्रकार व समाजसेवी हसरत हयात,युवा नेता राहुल सिंह कुशवाह, पार्षद अनूप पांडेय व युवा नेता संतोष त्रिपाठी ने भी संबोधित किया। बैठक का संचालन गणेश भारद्वाज व आभार प्रदर्शन भरत चतुर्वेदी के द्वारा किया गया।

यह भी पढ़ें…Coronavirus: MP में कोरोना ने पकड़ी रफ्तार, इन जिलों में हालात गंभीर, लग सकता है नाइट कर्फ्यू