MP News: अब प्राध्यापकों ने उठाई एरियर-महंगाई भत्ते की मांग, आंदोलन की तैयारी

कर्मचारियों

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश के शासकीय कर्मचारियों (MP Government Employee) के बाद अब शासकीय महाविद्यालयीन प्राध्यापक संघ ने भी DA और एरियर की मांग उठाई है। प्राध्यापकों का कहना है कि हाल में राज्य शासन ने कर्मचारियों को लेकर आदेश जारी किए है, लेकिन अबतक  शिक्षक हित में 7 वे वेतन मान के एरियर्स के 50 प्रतिशत राशि बकाया महंगाई भत्ता एवं 7 वे वेतनमान के अनुरूप गृह भाडा भत्ता भुगतान किये जाने पर कोई फैसला नहीं लिया है, इसलिए इस मांग को जल्द पूरा करें। उन्होंने  16 अगस्त से 25 अगस्त 2021 तक गेट मीटिंग, स्लोगन, पोस्टर प्रदर्शन आदि जैसे सांकेतिक विरोध प्रदर्शन की बात कही है।

यह भी पढ़े.. फसल बीमा योजना: कांग्रेस नेता का खुलासा-बैंक और बीमा कंपनी में उलझे किसान, 3 करोड़ अटके

दरअसल, सोमवार को रीवा प्रान्तीय महाविद्यालय प्राध्यापक संघ (Rewa Government College Professors Association) के प्रांताध्यक्ष एवं मध्यप्रदेश शिक्षक महासंघ के संयोजक प्रो. कैलाश त्यागी एवं महासचिव  आनन्द शर्मा के आहृवान पर शासकीय महाविद्यालयीन प्राध्यापक संघ के आन्दोलन का प्रथम चरण प्रारम्भ किया गया। प्राध्यापकों ने काली पट्टी तथा काला मास्क लगाकर सांकेतिक विरोध प्रदर्शन किया और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (MP Chief Minister Shivraj Singh Chouhan) को पोस्ट कार्ड लिखा।

इस पोस्ट कार्ड में संघ ने  मांग करते हुए लिखा कि राज्य शासन द्वारा कोविड़ संक्रमण काल में राज्य कर्मचारियों के साथ-साथ उच्च शिक्षा विभाग (Higher Education Department) में कार्यरत शिक्षकों को भी महंगाई भत्ता एवं वेतनवृद्वि रोक दी थी, इतना ही नही उच्च शिक्षा में कार्यरत शिक्षकों को राज्य शासन (MP Government) द्वारा एरियर्स की 50 प्रतिशत राशि (7pay commission) का ही भुगतान किया गया है। जबकि अन्य कर्मचारियों को राज्य शासन द्वारा शत प्रतिशत एरियर्स का भुगतान किया जा चुका है, हाल ही में राज्य शासन द्वारा वेतन वृद्वि दिये जाने के आदेश जारी कर दिये गये है।

यह भी पढ़े.. भाजपा विधायक ने पुलिसकर्मी के जोड़े हाथ, बोले-BJP को क्यों हरवाने में लगे हो?

इसी तरह सीधी में महाविद्यालय प्राध्यापक संघ ने अपनी मांगों को मनवाने के लिए सांकेतिक विरोध प्रदर्शन किया और बताया कि पिछले वर्ष से शासकीय कर्मचारियों को ना तो DA मिला है ना ही UGC एरियर्स मिला है और कुछ अन्य देय अभी शेष है जिसके कारण इस आंदोलन को आहूत किया गया है।महाविद्यालय के मीडिया प्रभारी डॉ अश्वनी द्विवेदी ने बताया कि यह एक सांकेतिक प्रदर्शन है जिसमें काम प्रभावित नहीं होगा। सभी साथी प्राध्यापक तन्मयता से जिम्मेदारी पूर्वक अपने काम में कार्यरत हैं। आज से प्रारंभ इस विरोध प्रदर्शन में 14 अगस्त तक लगातार इसी तरह सभी प्राध्यापक साथी काला मास्क और काली पट्टी लगाकर सरकार का विरोध करते रहेंगे।

इसके अलावा बेतूल में भी सातवें वेतनमान का बकाया एरियर्स, महंगाई भत्ता सहित अन्य मांगों को लेकर प्राध्यापकों ने चरणबद्ध आंदोलन शुरू किया है। हड़ताल के पहले प्राध्यापकों ने सोमवार को डिप्टी कलेक्टर एमपी बरार तथा जेएच कॉलेज की प्राचार्य डॉ. विजेता चौबे को ज्ञापन दिया। प्राध्यापकों द्वारा आंदोलन के प्रथम चरण में 2 से 14 अगस्त तक मुख्यमंत्री को पोस्टकार्ड, जनप्रतिनिधियों से पत्र लिखवाकर सीएम को मांगों से अवगत कराना, काला मास्क व काली पट्टी लगाकर कार्य करना शामिल है। दूसरे चरण में 16 से 25 अगस्त तक गेट मीटिंग, स्लोगन, पोस्टर प्रदर्शन के माध्यम से सांकेतिक विरोध किया जाएगा।

यह भी पढ़े.. Cabinet Meeting: शिवराज कैबिनेट बैठक आज, इन प्रस्तावों को मिल सकती है मंजूरी