भोपाल में डॉक्टर से बदसलूकी के बाद कार्रवाई, पूर्व मंत्री और पूर्व पार्षद पर मुकदमा दर्ज

पूर्व मंत्री

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में मचे सियासी घमासान के बीच बड़ी खबर मिल रही है।जयप्रकाश जिला चिकित्सालय भोपाल (JP Hospital Bhopal) के डॉक्टर योगेंद्र श्रीवास्तव (Dr. Yogendra Srivastava) से बदसलूकी करने के मामले में बड़ी कार्रवाई की गई है। हबीबगंज थाना पुलिस (Bhopal Police) ने पूर्व मंत्री और कांग्रेस विधायक पीसी शर्मा (Congress MLA PC Sharma) और उनके करीबी पूर्व पार्षद गुड्डू चौहान (Guddu Chauhan) पर मुकदमा दर्ज किया है।

यह भी पढ़े.. शिवराज सिंह चौहान का बड़ा बयान-लॉकडाउन समाधान नहीं, इससे बेहतर तो…

दरअसल, दो दिन पहले पूर्व मंत्री और पूर्व पार्षद ने जेपी हॉस्पिटल के डॉक्टर योगेंद्र श्रीवास्तव के साथ अभद्र व्यवहार किया था,  जिससे आहत होकर उन्होंने इस्तीफा दे दिया था। डॉक्टर के इस्तीफा देने के बाद मामले ने जमकर तूल पकड़ा और शिकायत मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Chief Minister Shivraj Singh Chauhan) और स्वास्थ्य मंत्री प्रभुराम चौधरी (Health Minister Prabhuram Chaudhary) तक पहुंची थी।

यह भी पढ़े.. कोरोना संकटकाल में राज्य शासन का बड़ा फैसला, अधिकारी-कर्मचारियों की लगाई ड्यूटी

इसके बाद स्वास्थ्य मंत्री के कहने पर डॉक्टर ने इस्तीफा वापस ले लिया, लेकिन डॉक्टरों ने कार्रवाई की मांग की थी। जिसके बाद पूर्व मंत्री और कांग्रेस नेता पर शासकीय कार्य मे बाधा डालने की धाराओं में FIR दर्ज की गई है।जेपी हॉस्पिटल के सीएमएचओ आरके श्रीवास्तव के लेटर और डॉक्टर के इस्तीफे वाले पत्र के बाद हबीबगंज पुलिस (Police) ने एफआईआर दर्ज की है।

ये है पूरा मामला

दरअसल पंचशील नगर में रहने वाले टी शाक्य पिछले 10 दिनों से बीमार थे और वहां पर किसी डॉक्टर का इलाज ले रहे थे। हालत खराब होने पर उन्हें जयप्रकाश चिकित्सालय लाया गया, लेकिन डॉक्टरों ने थोड़ी देर बाद हाथ खड़े कर दिए और वहां उनकी मौत हो गई। जिसके कारण डॉक्टर के ऊपर कांग्रेस के नेताओं ने जमकर आरोप लगाए और बदतमीजी की। हालांकि मरने वाले मरीज टी शाक्य को कोरोना नही था लेकिन 10 दिन उन्होंने जो स्थानीय इलाज कराया उसके कारण उनकी हालत खराब हो गई, ऐसा डॉक्टरों का कहना था। इसको लेकर पूर्व मंत्री और उनके समर्थकों ने काफी हंगामा किया था।