कोरोना के बीच शिवराज सरकार का एक और बड़ा फैसला, इन जिलों को मिलेगा लाभ

शिक्षा मंत्री ने निर्देश दिये कि बेड क्षमता बढ़ाने के लिये सतत प्रयास जारी रखें, जिससे कोरोना के मरीजों का उपचार हो सके। उन्होंने लोगों को जागरूक करने के लिये अभियान चलाने को भी कहा।

शिवराज सिंह

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। कोरोना संकटकाल (Corona Crisis) में मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) की शिवराज सरकार (Shivraj Government) ने एक और बड़ा फैसला लिया है। इसके तहत प्रदेश के 9 मेडिकल कॉलेज (Medical College) में सीटी और एमआरआई मशीन (CT Scan/MRI Machine) लगाई जायेगी।इसके लिए चिकित्सा शिक्षा विभाग (Medical education department) और वास्को टेली रेडियोलॉजी कम्पनी (Vasco Tele Radiology Company) के मध्य एमओयू हुआ है।

यह भी पढ़े.. वरिष्ठ बीजेपी नेता और पूर्व केन्द्रीय मंत्री का निधन, सीएम शिवराज-सिंधिया ने जताय शोक

दरअसल, आज शिवराज सरकार में चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास कैलाश सारंग(Medical Education Minister Vishwas Kailash Sarang) की मौजूदगी में चिकित्सा शिक्षा विभाग और वास्को टेली रेडियोलॉजी कम्पनी के मध्य MOU हुआ।इसके तहत कम्पनी द्वारा 9 मेडिकल कॉलेज में CT Scan/ MRI मशीन लगाई जायेगी। जिन जिलों में यह मशीनें लगाई जाएंगी उसमें इंदौर, जबलपुर, सागर, दतिया, शहडोल, शिवपुरी, रतलाम, विदिशा और खण्डवा मेडिकल कॉलेज शामिल हैं।इस मौके पर भोपाल कलेक्टर (Bhopal Collector) अविनाश लवानिया और चिकित्सा शिक्षा विभाग की संचालक डॉ. उल्का श्रीवास्तव भी मौजूद रही।

इस मौके पर चिकित्सा शिक्षा मंत्री सारंग ने कहा कि कोविड मरीजों को समुचित उपचार मिल सके, इसके लिये लगातार प्रयासरत हैं। स्मार्ट सिटी स्थित कंट्रोल-रूम जाकर स्थिति का आकलन और व्यवस्थाओं की तैयारियों की समीक्षा लगातार की जा रही हैं।कोविड केयर सेंटर, होम आइसोलेशन (Home isolation), ऑक्सीजन (Oxygen) सहित दवाओं की स्थिति का आकलन किया ।

यह भी पढ़े.. विधायक और पूर्व मंत्री का कोरोना से निधन, मुख्यमंत्री ने जताया शोक

शिक्षा मंत्री ने निर्देश दिये कि बेड क्षमता बढ़ाने के लिये सतत प्रयास जारी रखें, जिससे कोरोना के मरीजों का उपचार हो सके। उन्होंने लोगों को जागरूक करने के लिये अभियान चलाने को भी कहा। रातीबड़ स्थित सागर पब्लिक स्कूल में कोविड केयर सेंटर बनाया गया है। इसमें 200 बेड तैयार किये गये हैं। इस सेंटर पर होम आइसोलेशन की व्यवस्था हो सकेगी।  मंत्री  सारंग ने आज सोमवार को इसका मुआयना किया। उन्होंने व्यवस्थाओं संबंधी आवश्यक दिशा-निर्देश दिये।

क्या होता है सीटी स्कैन 

सीटी स्कैन या कंप्यूटराइज्ड टोमोग्राफी एक्स-रे का एक रूप होता है, जिसे कम्यूटराइज एक्सीयल टोमोग्राफी (CAT) भी कहा जाता है। यह शरीर के अंगो के चित्र को दिखाता है। अधिकतर सीटी स्कैन शरीर के विभिन्न अंगों से जुड़ी बीमारियों के लक्षणों का पता लगाने के लिए किया जाता है।ये चित्र सामान्य एक्स-रे पिक्चर्स की तुलना में अधिक अच्छे तरीके से जानकारी प्रदान करती हैं। ये शरीर के विभिन्न भागों में नरम ऊतकों, रक्त वाहिकाओं और हड्डियों को दिखा सकते हैं।सीटी स्कैन का उपयोग शरीर के कई भागों की अंदरूनी तसवीरें निकालने के लिए किया जाता है।