पटवारी संघ के प्रांतीय सम्मेलन में शामिल हुए गोविंद सिंह राजपूत, कहा- भाजपा सरकार ने पटवारियों को किया है हाईटेक

Bhopal News: मध्यप्रदेश पटवारी संघ द्वारा प्रांतीय सम्मेलन का आयोजन होटल रॉयल पैलेस में किया गया, जिसमें राजस्व एवं परिवहन मंत्री गोविंद सिंह राजपूत शामिल हुए। इस अवसर पर राजस्व एवं परिवहन मंत्री का पटवारी संघ के पदाधिकारियों द्वारा फूल मालाओं से स्वागत किया गया। इस अवसर पर राजस्व एवं परिवहन मंत्री गोविंद सिंह राजपूत ने अपने उद्बोधन में कहा कि, “पटवारी राजस्व विभाग की प्रथम कड़ी है, जिनसे पूरा राजस्व का कार्य व्यवस्थित और सुचारू रूप से संचालित हो पाता है। राजस्व विभाग की नीव का पत्थर हमारे पटवारी है। यह जितने मजबूत होंगे उतनी ही विशाल इमारत खड़ी हो पाएगी। भाजपा सरकार ने पटवारियों को हाईटेक किया है। एक समय था जब पटवारी बस्ता लेकर गांव-गांव जाते थे लेकिन अब भाजपा सरकार ने पटवारियों को लैपटॉप दे दिया है। जिससे उन्हें बस्ते के बोझ से मुक्ति मिली है। साथ ही कई काम अत्याधुनिक तरीके से तुरंत हो जाते हैं।”

आगे श्री राजपूत ने कहा कि, “यह 21 वी सदी के पटवारी हैं, जिनकी योग्यता किसी बड़े अधिकारी से कम नहीं है।” उन्होनें ने पटवारियों की तारीफ करते हुए कहा कि “केंद्र तथा राज्य सरकार द्वारा किसान सम्मान निधि कार्य के लिए पटवारियों ने गंभीरता से किया है। जिसके कारण सभी किसानों को समय पर किसान सम्मान निधि मिल रही है। ऐसे कई कार्य है जो पटवारियों द्वारा गंभीरता से और तत्परता से किए जा रहे हैं। पटवारियों की सभी समस्याओं के लिए मैं हमेशा उनके साथ खड़ा हूं।”

दबाव से नहीं आत्म संकल्प से बदलाव होता है

श्री राजपूत ने अपने उद्बोधन में कहा कि “पटवारियों को अपनी छवि और अच्छी बनाने के लिए थोड़ा विचार करना चाहिए। जो भी व्यक्ति उनके पास आए उसमें अपने परिजनों की छवि देखें और फिर काम करें तो उसके काम में आप खुद देरी नहीं कर पाएंगे। कुछ कमियों के कारण पटवारियों के अच्छे काम छिप जाते हैं। इसलिए हमें यह संकल्प लेना है कि हमें अपनी छवि जनता में और अच्छी बनानी है और अधिक से अधिक काम करके आमजन को परेशानी से मुक्ति दिलानी है। क्योंकि दबाव से बदलाव नहीं होता यह बदलाव आप अपने मन से संकल्प लेकर कर सकते हैं।”

सागर में देखें कार्यालय के लिए जमीन

राजस्व एवं परिवहन मंत्री ने प्रांतीय सम्मेलन में पटवारियों की मांग पर घोषणा करते हुए कहा कि, “सागर में पटवारियों के कार्यालय के लिए जमीन देख ले, उसकी स्वीकृति के लिए हम प्रयास करेंगे जिसका स्वागत सभी पटवारियों ने करतल ध्वनि से तालियां बजाते हुए किया।”

हमे अपने मंत्री पर विश्वास इसलिए नहीं जाएंगे हड़ताल पर: उपेंद्र बघेल

पटवारी संघ के प्रांतीय सम्मेलन में मध्य प्रदेश पटवारी संघ के अध्यक्ष उपेंद्र बघेल ने अपने संबोधन में कहा कि, “कई विभाग के अधिकारी कर्मचारी हड़ताल पर जा रहे हैं लेकिन हम सभी अपनी मांगों को लेकर कोई हड़ताल नहीं करेंगे क्योंकि हमें अपने मंत्री पर भरोसा है। उन्होंने हमेशा हम लोगों का साथ दिया है एक परिवार की तरह हर समस्या को समझा है। बघेल ने कहा कि हमारी जो भी मांगे हैं उन पर बिना किसी ज्ञापन के कार्यवाही हो जाती है, इसलिए हम सभी बिना किसी हड़ताल और ज्ञापन के जनसेवा में इसी तरह काम करते रहेंगे।” उनके द्वारा पटवारियों की कुछ मांगों को लेकर चर्चा की गई जिस पर राजस्व एवं परिवहन मंत्री ने उन्हें आश्वस्त करते हुए समस्याओं का निराकरण करने का आश्वासन दिया।

कार्यक्रम आयोजक पटवारी संघ के जिला अध्यक्ष शिवजीत कंग ने सभी का धन्यवाद प्रेषित किया। इस अवसर पर मोहन लाल खरे , मंच संचालन आनंद खत्री, अरुण जाट ,सूरज शर्मा ,राशिद खान, मनीष दुबे, यशवंत सोनी, अमित मिश्रा महेश सोनी, वीरेंद्र चौधरी राजभान घोसी,बीना रावत ,सरला पटेल, मंजू कुर्मी, सुनीता पटेल ,पूजा साहू, नीलम शूरमा, सोनल बादल, अनुराधा पटेल, पुनीता पटेल,अर्चना बेदी ,आरती विश्वकर्मा, प्रभा आठिया, मुक्ति परिहार, वन्दना पटेल,सु नीता पटेल, प्रगति गुप्ता, समस्त जिलों के जिला अध्यक्ष तहसील अध्यक्ष भारी संख्या में मौजूद रहें।


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News