Bhopal News : चयनित शिक्षकों ने भाजपा कार्यालय और डीपीआई पर किया प्रदर्शन, भूख हड़ताल के साथ कर रहे है श्रीमद्भागवत कथा का पाठ

Amit Sengar
Published on -

Bhopal News : प्रमोशन के साथ शिक्षक भर्ती को पूरी करने की मांग को लेकर प्रदेशभर के चयनित शिक्षक भोपाल में डटे हुए हैं। पिछले करीब डेढ़ महीने से हड़ताल पर बैठे चयनित शिक्षकों ने नियुक्ति की मांग को लेकर मंगलवार को शिक्षक पात्रता परीक्षा 2018 के क्वालीफाई वर्ग 1 व 2 के अभ्यर्थियों ने डीपीआई में प्रदर्शन किया। बता दें कि मध्यप्रदेश के इतिहास में यह पहला ऐसा आन्दोलन हैं जिसमे श्रीमद्भागवत कथा का आयोजन चयनित शिक्षकों के द्वारा किया जा रहा हैं। आज भागवत कथा का छठवाँ दिन हैं।

भारतीय ईडब्ल्यूएस संघ के अध्यक्ष धीरज तिवारी ने बताया कि हमनें भगवान योगेश्वर श्रीकृष्ण को अब ज्ञापन दिया हैं और ईश्वर से प्रार्थना की है और वर्ष 2018 में प्रथम चरण में रिक्त रह गए पदों पर पद वृद्धि के साथ भर्ती प्रक्रिया चुनाव के पहले ही पूर्ण करने के लिए प्रभु की शरण ली हैं। चयनित शिक्षक में से ही एक संस्कृत विषय के अभ्यर्थी देवेन्द्र कुमार शास्त्री कथा का पाठ कर रहे हैं, अर्थशास्त्र विषय के अभ्यर्थी करण सिंह राजपूत यजमान बने हैं, रचना व्यास ,रक्षा जैन, संगीता सिंह, सुशांत जोशी,अमित जाट,सोबरन चौधरी व अन्य चयनित शिक्षक ने योगेश्वर प्रभु को बताया कि उच्च माध्यमिक शिक्षकों के प्रथम चरण के बाद 5935 पद व ईडब्ल्यूएस वर्ग के 848 पद रिक्त हैं माध्यमिक शिक्षकों के 2233 पद रिक्त हैं। सभी चयनित शिक्षक कथा का श्रवण कर प्रभु से अपनी मांगों को पूरा कराने का संकल्प ले कर बैठे हैं। उर्दू विषय के अभ्यर्थी शान मोहम्मद खान ने कथा का श्रवण कर गंगा जमुनी तहजीब की मिसाल पेश की।

गौरतलब हैं कि कथा के माध्यम से सभी जनप्रतिनिधियों को भी कथा हेतु आमंत्रित किया हैं। आज जोरदार बारिश के चलते श्रीमद् भागवत कथा का आयोजन कर रहे चयनित शिक्षकों का पंडाल भी अस्तव्यस्त हो गया आज सुबह सर अपनी मांगों को लेकर भोपाल की सड़कों पर दर-दर भटकते रहे सवेरे वह धीरज तिवारी के नेतृत्व में भाजपा कार्यायल केंद्रीय संघठन मंत्री हिताआनंद शर्मा के यहां गए उसके बाद शिक्षा मंत्री के यहां गए फिर जनजाति कार्य मंत्री मीना सिंह के यहां गए लेकिन सभी से निराश होकर लौटे और डीपीआई में आकर अपना प्रदर्शन किया और श्रीमद् भागवत कथा में सम्मिलित होकर कल की पूर्णाहुति हो तो सभी जनप्रतिनिधियों को आमंत्रित किया।


About Author
Amit Sengar

Amit Sengar

मुझे अपने आप पर गर्व है कि में एक पत्रकार हूँ। क्योंकि पत्रकार होना अपने आप में कलाकार, चिंतक, लेखक या जन-हित में काम करने वाले वकील जैसा होता है। पत्रकार कोई कारोबारी, व्यापारी या राजनेता नहीं होता है वह व्यापक जनता की भलाई के सरोकारों से संचालित होता है। वहीं हेनरी ल्यूस ने कहा है कि “मैं जर्नलिस्ट बना ताकि दुनिया के दिल के अधिक करीब रहूं।”

Other Latest News