नदी में डूबनें से बच्चों की मौत, वापस जिंदा होने की आस में परिजनों ने घंटो नमक के ढेर में दबाया

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। भोपाल के ईंटखेड़ी में एक दर्दनाक हादसें में दो बच्चों की मौत हो गई, और एक बच्चें को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती किया गया है। दरअसल हादसा उस वक़्त हुआ जब हलाली नदी में नहाने 3 बच्चे उतरे और गहरे पानी में जाने के कारण दो बच्चे डूब गए। इसी दौरान मौके से बैरसिया की तरफ जा रही बस में सवार लोगो ने बच्चों को डूबते हुए देखा और उन्होंने सूचना ग्रामीणों को दी की बच्चें  डूब गए है । तीनो बच्चो की उम्र 6 से 8 साल है।मृतकों में एक बच्चा पर्व परिहार जिसकी उम्र 9 वर्ष है।वही मृतक दूसरा बच्चा शरद माली जिसकी उम्र 7 वर्ष है। गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती तीसरा बच्चा युवराज सैनी उम्र 8 वर्ष है।तीनों खेलते खेलते गहरे पानी में चले गए।

डॉ. मोहन भागवत इंदौर में, मीडिया से रहेगी दूरी, नहीं होगा सार्वजनिक कार्यक्रम

मृतक बच्चों में से एक बच्चा ईटखेड़ी निवासी है। बच्चे के पिता जैकी परिहार ड्राइवर का काम करते है। वही दूसरा बच्चे के पिता मोहन माली मजदूर है। तीसरे बच्चे के पिता राधेश्याम माली है।यह बच्चा गंभीर हालत में हॉस्पिटल में भर्ती है, घटना करीब 12:00 से 1:00 के बीच की बताई जा रही है। बच्चे अपनी साईकल से हलाली नदी की तरफ गए थे।और पास ही थाने के दूसरी तरफ बने घाट पर नहाने उतर गए थे। हलाली नदी की गहराई का बच्चो को अंदाज़ा नही था जिसकी वजह से वह उसमें डूब गए।

मुरैना- बिजली गिरने से 3 की मौत, कैमरे में कैद हुई बिजली गिरने की घटना

जिस वक्त बच्चे नदी में डूबे उसी वक़्त बस वहां से गुजर रही थी, बस में सवार लोगो ने ग्रामीणों को बताया कि नदी में बच्चे डूबते उन्होंने देखे है जिसके बाद तत्काल ग्रामीणों ने उन्हें निकाला। और तीनो बच्चो को लेकर अस्पताल दौड़े लेकिन तब तक 2 बच्चों की सांस थम चुकी थी।

MP News: विधायकों को लेकर इस बड़ी तैयारी में CM Shivraj, आम जनता को मिलेगा लाभ

इस दर्दनाक घटना का एक पहलू और सामनें आया जब परिजनों ने बुजुर्गों के कहने पर बच्चों के शव नमक से ढक दिए, परिजनों और बुजुर्ग बच्चों के शवों के पास बैठकर इंतज़ार करने लगे कि नमक के ढेर में रखने से बच्चे जीवित हो जायेगे। इस घटना की जानकारी जब पुलिस को लगी तो मौके पर पुलिस पहुंची और उन्होनें परिजनों को समझाया।
करीब 2 घंटे के पुलिस की समझाइश के बाद बच्चों के परिजन माने और शवों को हमीदिया के लिए लेकर पहुँचे।बच्चों के शव करीब 4 बजे पी एम हेतु हमीदिया लाये गए।
वही तीसरे बच्चे का इलाज अस्पताल में जारी है।