कोरोना के आंकड़ों ने बढ़ाई सरकार की टेंशन, सामने आया शिवराज सिंह चौहान का बड़ा बयान

शिवराज सिंह चौहान

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) पिछले 24 घंटे में में 8998 नए कोरोना पॉजिटिव सामने आए है और 40 की मौत हो गई।इसमें सबसे ज्यादा हालात गंभीर 4 मुख्य शहरों मे रहे। इंदौर में 1552, भोपाल में 1456, ग्वालियर में 576 और जबलपुर में 552 नए केसों की पुष्टि हुई है, जो की चिंता का विषय है।तेजी से बढ़ते आंकड़ों के बाद स्थिति ये हो गई है कि अस्पतालों में बेड्स और ऑक्सीजन की कमी होने लगी है। इन आंकड़ों को देखने के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) का बड़ा बयान सामने आया है।

यह भी पढ़े.. Bank Holiday 2021: अगले 7 दिन बंद रहेंगे बैंक, ATM में हो सकती है कैश की किल्लत

आज मीडिया से चर्चा के दौरान सीएम शिवराज सिंह चौहान  ने कहा कि भोपाल, इंदौर, जबलपुर और ग्वालियर समेत अनेक शहरों में बड़ी संख्या में #COVID19 के सक्रिय प्रकरण आ रहे हैं। इसे देखते हुए हम निरंतर प्रयास कर रहे हैं कि अस्पतालों (Hospital) में बिस्तरों की संख्या बढ़ती रहे। एम्स भोपाल में जितने बेड खाली हैं, वे कोरोना मरीजों के लिए उपयोग में लाए जाएंगे।हमें अब तक करीब 36 हज़ार Remdesivir injection प्राप्त हो गए हैं, 2,000 इंजेक्शन आज आने वाले हैं।

यह भी पढ़े.. MP Weather Alert: वातावरण में नमी बरकरार, मप्र के इन जिलों में बारिश के आसार

शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि 16 अप्रैल को 10,000 इंजेक्शन की और आपूर्ति होगी। जितने उपाय संभव हैं सभी किये जा रहे हैं। हम ऑक्सीजन (Oxygen) का ऑडिट भी करेंगे। मैं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi), गृहमंत्री अमित शाह (Amit Shah), रेल मंत्री पीयूष गोयल (Piyush Goyal) और पेट्रोलियम मंत्री धमेन्द्र प्रधान (Dhamendra Pradhan) के संपर्क में हूँ जिससे ऑक्सीजन की उपलब्धता बढ़ती रहे। ऑक्सीजन का परिवहन कर रहे टैंकर्स को हमने एंबुलेंस (Ambulance) का दर्जा दिया है जिससे देरी न हो। टैंकर्स बढ़ाने का प्रयास जारी है।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बताया कि भोपाल में आरकेडीएफ और पीपुल्स अस्पताल तथा इंदौर में इंडेक्स मेडिकल कॉलेज में बिस्तरों की व्यवस्था की गई है। राज्य में 9 अप्रैल को 17 हजार 452 शासकीय और 13 हजार 250 निजी अस्पतालों में बिस्तर उपलब्ध थे। आज 13 अप्रैल को कोविड मरीजों के लिए 36 हजार 446 बेड प्रदेश में उपलब्ध हैं। इनमें से 19 हजार 410 शासकीय और 13 हजार 36 बेड निजी अस्पतालों में विद्यमान हैं। इसके अतिरिक्त आज 5 हजार 700 से अधिक बेड बढ़ाने में सफलता मिली है।

शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि 43 जिलों में कोविड केयर सेंटर आरंभ हो गए हैं। इनमें 7 हजार 215 सामान्य बेड उपलब्ध हैं। इसके अतिरिक्त कम लक्षण वाले मरीजों के लिए 4 हजार 847 बेडों की व्यवस्था है। प्रदेश के 9 जिलों में कोविड केयर सेंटर बनना शेष हैं। प्रदेश में 12 अप्रैल को 267 मीट्रिक टन ऑक्सीजन उपलब्ध कराई गई। आठ अप्रैल को 130 मीट्रिक टन ऑक्सीजन ही उपलब्ध थी। इस दिशा में प्रयास निरंतर जारी हैं

शिवराज सिंह चौहान ने बताया कि अस्पतालों को ऑक्सीजन की आपूर्ति के लिए अपर मुख्य सचिव  एस.एन. मिश्रा और नियंत्रक खाद्य एवं औषधि प्रशासन तथा आयुक्त खाद्य सुरक्षा पी. नरहरि को दायित्व सौंपा गया है। ऑक्सीजन उपयोग के ऑडिट की व्यवस्था भी की जा रही है। प्रदेश में अब तक 31 हजार रेमडेसिविर इंजेक्शन प्राप्त हो चुके हैं। आज 2 हजार इंजेक्शन और मिलेंगे। इसके साथ ही 16 अप्रैल को 10 हजार रेमडेसिविर इंजेक्शन प्राप्त होंगे।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कोरोना संक्रमण को रोकने में प्रदेश की जनता से सहयोग की अपील की। उन्होंने कहा कि संसाधनों की सीमा है। हमें संक्रमण से बचने की सावधानियाँ बरतने में पूरी सतर्कता से काम लेना होगा। अनावश्यक आवागमन को टालना होगा। गाँव के लोग शहर आने को टालें और शहरों में रहवासी संघों और कॉलोनियों से भी अति आवश्यक स्थिति में ही लोग बाहर निकलें। संयम और साथ मिलकर चलने से ही हम स्थिति पर नियंत्रण पा सकेंगे।

शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मैं आपसे अपील करना चाहता हूँ। प्रदेश में कई जगह कोरोना कर्फ्यू लगा है। हम कसर नहीं छोड़ेंगे, पर सब अपने स्तर पर प्रयास करें कि संक्रमण को बढ़ने से रोकें, सभी जितना हो सके आवागमन नियंत्रित करें और संयम रखें। ग्रामवासी, रहवासी संघ के लोग, अलग अलग संगठन सब अपना सहयोग दें: CM